Latest

चाइल्ड पोर्न देखना भी है अपराध, बच्चों को फंसने से ऐसे बचाएं|

वेबसाइट्स पर बैन होने के बाद चाइल्ड पोर्नोग्राफी अवैध कारोबार वाट्सऐप जैसे सोशल मीडिया के माध्यम से फलफूल रहा है। कई हैकर्स भी बच्चों की नादानी का फायदा उठाकर उन्हें अपना शिकार बना रहे हैं। हम आपको बता रहे हैं कि चाइल्ड पॉर्नोग्रफी को लेकर कानून क्या कहता है और बच्चे को कैसे बचा सकते हैं

चाइल्ड पॉर्न से संबंधित ढेरों मामले सामने आने के बाद हाल ही में सीबीआई ने एक स्पेशल कमिटी का गठन किया है जो गहराई से इसकी जांच-पड़ताल करेगी। वहीं इसे लेकर कानून भी बेहद सख्त है। जानकारों के मुताबिक इसे लेकर जहां पोक्सो कानून को हाल ही में और भी सख्त बनाया गया है, तो वहीं आईटी ऐक्ट में भी इसके लिए सजा और भारी जुर्माने का प्रावधान है।

… न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल इंटरनेट पर चाइल्ड पॉर्नोग्रफी से संबंधित लगभग 18.4 मिलियन रिपोर्ट पाई गई हैं जिसमें बच्चों को सेक्सुअली अब्यूज करते हुए लगभग 45 मिलियन फोटो और विडियो सम्मिलित थे।

ऐप्लिकेशन से कर सकते हैं बचाव! बच्चे जानकारी के अभाव में इनके जाल में फंस जाते हैं। ऐसे में उन्हें कैसे इससे बचाया जाए? इसके जवाब में साइबरनेटिव डिजिटल के फाउंडर फरहाद एसिडवाला बताते हैं, ‘सॉफ्टवेयर को समय-समय पर अपडेट करते रहना चाहिए। किसी भी तरह की ऐसी तस्वीर रखने से बचें, जो कल को आपके लिए परेशानी का सबब बन जाए।’

बकौल फरहाद एसिडवाला ‘ट्रैफिक कैम’ एक ऐपलिकेशन है जिसके तहत हम इस तरह के विडियोज शूट करने वालों तक पहुंच सकते हैं। दरअसल जब हम किसी होटल रूम में जाते हैं, यह ऐप्लिकेशन हमें अवेयर होने को बोलता है और हमें होटल रूम के फोटोज क्लिक करने को कहता है। जैसे ही हम फोटो क्लिक करते हैं, यह स्टोर हो जाता है और इस तरह के रूम से मिलते जुलते फोटोज सारे एक जगह इकट्ठा हो जाते हैं और आगे लॉ एजेंसी को भेज देते हैं। इसका फायदा यह होता है कि अगर सालों पहले भी इस रूम में ऐसा कोई विडियो शूट हुआ होगा, तो वह पता लग जाता है। और इस तरह हम विडियो में पाए गए व्यक्ति तक पहुंच सकते हैं।’

अनजाने में बच्चे हो रहे हैं चाइल्ड पोर्नोग्राफी के शिकार

साइबर क्राइम साइबर क्राइम एक्सपर्ट कहते हैं, ‘एक सामान्य खिलौने के ऊपर भी यूजर मेनुअल रहता है, लेकिन इंटरनेट के ऊपर ऐसा कुछ भी नहीं है। इसलिए बच्चों के लिए जरूरी है कि वह किसी भी तरह के प्लेटफॉर्म यूज करने से पहले उसके बारे में जानकारी इकट्ठा कर लें और इस काम के लिए बच्चों के साथ-साथ अभिभावकों को भी चौकन्ना रहना पड़ेगा।’ बकौल एक्सपर्ट बच्चों को बाथरूम सेल्फी और न्यूड सेल्फी लेने से बचना चाहिए। वह आगे कहते हैं, ‘अगर आपको लगे कि आपके इर्द-गिर्द इस तरह की घटना हो रही है या कोई गिरोह है जो इस काम में शामिल है, तो आप इसकी खबर अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में दे सकते हैं।

PURAN DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



नवीनतम पोस्ट



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ