अरेंज मैरिज से पहले रखें ये खयाल : अतुल पाठक 

अरेंज मैरिज से पहले रखें ये खयाल 
अतुल पाठक 
भारत में  रिश्तों की परिभाषा बदली है, लेकिन हमारी संस्कृति में व्यवस्थित विवाह प्रचलित है। जहां लोग लव टू अरेंज मैरिज करते हैं, वहीं कुछ लोग पारंपरिक तरीके से अरेंज मैरिज पसंद करते हैं। व्यवस्थित विवाह हमारे समाज का एक बड़ा हिस्सा हैं। लेकिन अरेंज्ड मैरिज करने  से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। अरेंज मैरिज से पहले आप एक दूसरे को बहुत अच्छे ढंग से समझ में|  एक दूसरे से बात करें|   रिश्ते में कुछ भी दुराव छिपाव ठीक नहीं है इसलिए शादी से पहले अपने बारे में वह सारी बातें जरूर बता दें जो शादी के बाद ओपन होने पर समस्या पैदा कर सकती हैं| 

भले ही आप का सच इस रिश्ते को ना होने दें लेकिन सच बोलना बहुत जरूरी है| कुछ ऐसी बातें भी होती हैं जिन्हें बताने की जरूरत नहीं होती|  यह जान लें की कौन सी बातें आपको बतानी है और कौन सी बातें नहीं  बतानी| कई बार रिश्ता तय करते वक्त माता-पिता अपने बच्चों को लेकर बढ़ा चढ़ाकर दावा करते हैं| शादी तो हो जाती है लेकिन शादी के बाद वास्तविकता सामने आ जाती है तो रिश्ता कड़वाहट भरा हो जाता है| 

marriage arrange
अपनी संपत्ति, सैलरी, एजुकेशन को लेकर कुछ भी न छिपाएं| अपने घर वालों से पूछ ले कि क्या उन्होंने कोई ऐसी बात कही है जो सच से मेल नहीं खाती| अपनी संभावित जीवनसाथी को अपनी फोटो मॉडिफाइड करके आकर्षित करने की कोशिश ना करें| अपने कद काठी और चेहरे को वास्तविक रूप में ही प्रस्तुत करें| किसी भी तरह से आर्टिफिशियल मेकअप, फोटो मार्फ्रिग या मॉडिफिकेशन  से बचें|

यह सब कुछ आपके जीवन साथी को वर्तमान में तो आकर्षित कर सकता है लेकिन जब आप अपने असली स्वरूप में सामने होंगे तो इस रिश्ते में खटास पैदा होगी| अक्सर मां बाप रिश्तो के लिए अपने बच्चों की वह फोटो भेजते हैं जो उनके वास्तविक स्वरूप से मैच नहीं करती|  इसलिए ना तो उन्हें खुद की ऐसी फोटो भेजने को अलाव करें ना ही सामने वाले की फोटो देख कर ही रिश्ते को हां कह दें| 

मान्यता है कि विवाह स्वर्ग में तय होता है। जब शादी  के बाद कोई ऐसा व्यक्ति मिलता है जो आपकी देखभाल करता है और आपसे प्यार करता है। मनचाहा जीवनसाथी पाना इतना आसान नहीं है| विवाह प्रक्रिया लंबी होती है क्योंकि उन्हें समय लगता है। 

अरेंज मैरिज में आप किसी व्यक्ति के बारे में कुछ नहीं जानते हैं। यह वह व्यक्ति है जिसे परिवार आपको पेश कर रहा है, और यह सब कुछ एडजस्ट होने में समय ले सकता है। कुछ सीमाएँ हैं जो इस मामले में शादी करने वालों को जानना आवश्यक है। सब कुछ धीरे-धीरे समझें। फैसला करने में जल्दबाजी न करें।

अरेंज मैरिज भी पहले की तरह नहीं रही कि मां-बाप या भाई ने तय कर दिया और हमने हां कर दी|  अरेंज मैरिज में आजकल दोनों को एक दूसरे को समझने का पर्याप्त वक्त मिलता है भले ही घरवाले आपको मौका नहीं दे रहे लेकिन आप आधुनिक टेक्नालॉजी और संचार माध्यमों का उपयोग करके एक दूसरे को समझने की पूरी कोशिश कर सकते हैं| 

विवाह से पहले अपने आप को एक सीमित दायरे में रखे|  जब तक शादी ना हो जाए तब तक किसी भी तरह से बातचीत से आगे ना बढ़े| अरेंज मैरिज चुनौतीपूर्ण है, एक उपयुक्त साथी चुनना मुश्किल है। किसी व्यक्ति के बारे में जानने में समय लगता है।

अपने जीवनसाथी को बताएं कि आप क्या चाहते हैं और वे जो कह रहे हैं उसे सुनें। विवाह के समय भावनात्मक और फाइनेंसियल एडजस्टमेंट महत्वपूर्ण है।  दोनों की आर्थिक स्थिति समान रहे तो बहुत बेहतर है| शादी से पहले ज्यादा से ज्यादा समय साथ बिताएं। एक दूसरे को जानने के लिए उसे सुनना बहुत जरूरी है|  आज के समय में व्यक्ति किसी न किसी मनोविकार का शिकार है| 

अपने पिछले जीवन के बारे में बात करना हमेशा एक अच्छा विचार होता है ताकि एक नए जीवन को बेहतर ढंग से शुरू किया जा सके। इससे उन्हें एक-दूसरे को जानने में मदद मिलती है।  एक-दूसरे के अतीत को जानना, जैसे कि शिक्षा, कार्य, प्रेम, यह व्यक्ति के बारे में भी बहुत कुछ बताता है। इन सब बातों को जानने से आपको व्यक्ति की मानसिक स्थिति का पता चल सकता है|  ये हाइपर हो जाता है,  अचानक अपना स्वभाव और तेवर बदलता है|  किसी बात का बहुत ज्यादा बुरा मान जाता है या छोटी-छोटी बात पर हर्ट हो जाता है तो आप को सजग हो जाना चाहिए| 

विवाह से पहले बाइपोलर पर्सनालिटी डिसऑर्डर,  एंग्जाइटी डिसऑर्डर,  सहित अन्य साइकिल डिसऑर्डर्स के बारे में अच्छी तरह से पढ़ लें|  इन डिसऑर्डर्स के बारे में पढ़ने से आपको अपने संभावित जीवनसाथी के मानसिक स्तर का पता लगाने में मदद मिलेगी| 

यदि आप उसके साथ बातचीत में लंबा समय बिताते हैं तो आपको पता चल जाएगा कि संबंधित व्यक्ति किसी मनोविकार का शिकार तो नहीं| 

अरेंज्ड मैरिज होती है, तो आपको परिवार को जानना जरूरी होता है।  परिवार में कहीं कोई ऐसी स्थिति तो नहीं जहां पर विवाहित जोड़े के जीवन में बेवजह की दखलंदाजी की संभावना दिखती है|  घर का कोई मेंबर बहुत अधिक डोमिनेटिंग है|  और भी ऐसी कई स्थितियां हैं जिन पर बारीकी से नजर रखना बहुत जरूरी है| 

अरेंज मैरिज में सिर्फ बातों और दागों के भरोसे न रहें अपने स्तर पर परिवार और संबंधित वर वधु के बारे में पूरी जानकारी जरूर ले लें| 



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ