मैगी, पिज्जा, नमकीन और बर्गर खाने वाले हो जाएँ सावधान…. जाने कितने खतरनाक हैं फास्टफूड

मैगी से लेकर हल्दीराम के नमकीन, डोमिनोज के पिज्जा और मैक डोनल्ड्स के बर्गर में नमक और वसा का खतरनाक स्तर

मैगी, पिज्जा, नमकीन और बर्गर के लिए इमेज नतीजे

बर्गर, पिज्जा और नूडल्स सहित अन्य फास्ट फूड का स्वाद, सेहत के लिए खतरा साबित हो रहा है। अग्रणी शोध संस्था सेंटर फॉर सांइस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) की एक स्टडी रिपोर्ट में यह बात सामने आयी है। रिपोर्ट के मुताबिक बाजार में उपलब्ध लगभग सभी नामी कंपनियों के जंक फूड में नमक और वसा की मात्रा निर्धारित सीमा से खतरनाक स्तर तक ज्यादा पायी गयी है। सीएसई के मुताबिक भारतीय बाजार में उपलब्ध अधिकतर पैकेट बंद खाना और फास्ट फूड में भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSSAI) के STANDERDS से बहुत ज्यादा है।

एक शोध में चिप्स, नूडल्स, पिज्जा, बर्गर और नमकीन सहित अन्य फास्ट फूड के सभी अग्रणी कंपनियों के 33 उत्पादों की प्रयोगशाला जांच में पाया गया कि इनमें नमक और वसा की मात्रा खतरनाक स्तर पर इस्तेमाल की जा रही है। सभी 33 लोकप्रिय जंकफूड में कोई भी उत्पाद निर्धारित मानकों के पालन की कसौटी पर खरा नहीं उतर सका। सरकार ने 2013 में इस विषय पर फास्ट फूड कंपनियों के लिए स्पष्ट दिशानिर्देश बनाने के लिए एफएसएसएआई के विशेषज्ञों की एक समिति गठित की थी। पिछले सात साल में तीन समितियां गठित हो चुकी हैं लेकिन अब तक कोई ठोस कानूनी पहल नहीं हुयी।
‘‘नमक, वसा और शर्करा सहित अन्य तत्वों की मात्रा निर्धारित मानकों का पालन स्वाद पर भारी पड़ता है, इसलिये कंपनियां स्वाद के साथ कोई समझौता करने को तैयार नहीं है। ऐसे में सरकार दुनिया की इन नामी कंपनियों के दबाव में कानून बनाकर एफएसएसएआई के मानकों का पालन करने के लिये (उन्हें) मजबूर करने से बच रही है।’’ जंक फूड में नमक, शर्करा और वसा सहित अन्य तत्वों की निर्धारित मात्रा के मुताबिक इस्तेमाल की मात्रा का इन उत्पादों के पैकेट पर स्पष्ट उल्लेख करने के लिये कानूनी बाध्यता को तत्काल लागू करने की जरूरत है।

जनस्वास्थ्य पर कंपनियों का हित भारी नहीं पड़े, इसके लिये फास्ट फूड उत्पादों में नमक, शर्करा और वसा का निर्धारित मात्रा से अधिक इस्तेमाल होने पर तंबाकू उत्पादों की तर्ज पर स्पष्ट चेतावनी (रेड वार्निंग) पैकेट पर दर्ज करने को अनिवार्य बनाया जान चाहिए|
हर माता-पिता यही चाहते हैं कि उनका बच्चा हमेशा स्वस्थ रहे ,बच्चों को स्वस्थ रहने के लिए पौष्टिक आहारों का सेवन बहुत ज़रूरी होता है, पर आजकल बच्चे पौष्टिक आहार की जगह फास्ट फ़ूड और जंक फ़ूड का सेवन करना अधिक पसंद करते हैं, जिसके कारण उनके शरीर में पौष्टिक आहारों की कमी हो जाती है और उनके शरीर को बहुत सारी बीमारियों के होने का खतरा बना रहता है।

1-आजकल अधिकतर बच्चे मोटापे की समस्या का शिकार हो रहे हैं इसका बहुत बड़ा कारण फास्ट फूड का अधिक सेवन करना है। फ़ास्ट फ़ूड और जंक फ़ूड आसानी से पच नहीं पाते हैं जिससे उनको मोटापे की समस्या हो जाती है।

2-बच्चों को फास्ट फूड खाना बहुत पसंद होता है, इसलिए वो इसे खाकर ही अपना पेट भर लेते हैं और इसकी वजह से वो पौष्टिक आहार का सेवन नहीं करते हैं। पौष्टिकता की कमी के कारण उनके दिमाग को पूरा पोषण नहीं मिल पाता और उनकी याददाश्त भी कमजोर हो सकती है।

3-बच्चों के अधिक मात्रा में जंक फूड खाने के कारण उनकी बॉडी में फैट बनने लगता है जिसके कारण उनके शरीर में अधिक मात्रा में कैलोरी बनने लगती है जिससे उनको दिल की बीमारियां लगने का खतरा बना रहता है।

4-बच्चों के अधिक मात्रा में जंक फ़ूड का सेवन करने से उनको शुगर होने की सम्भावना बढ़ जाती है,अगर आपके बच्चे जंक फूड का सेवन करते हैं तो उसके साथ कोल्ड ड्रिंक का भी सेवन करते हैं। कोल्ड ड्रिंक में मीठे की भरपूर मात्रा पायी जाती है जिससे उनको डायबिटीज होने का खतरा हो सकता है।


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ