बुन्देली व्रत कथाएँ : शरद पूर्ने व्रत कथा .. शरद पूर्णिमा व्रत कथा

Purnima-newspuran

बुन्देली व्रत कथाएँ… शरद पूर्ने व्रत कथा

एक गाँव में एक वामन डुकरिया रत्ती। आगै पाछै ऊके कौऊ नई हतो। ऊके परिवार के सबई जने राम खौं प्यारे हो गये ते। वा अकेली एक टपरिया में डरी-डरी जीवन के दिन रो गाके कारड़ रत्ती। अकेले हतो उयें भगवान पै पूरौ भरोसौ। दिन भर गावन-गावन घूम फिरकैमाँग ल्यावै, उर जो कछु मिलें ओई सै गुजर बसर करत रत्ती। पैला सत्यनारायन भगवान की पूजा करकै बड़ी भाव भक्ति से भोग लगा कै प्रसाद पाऊत रत्ती। ऊखौ तो भगवानई पै पूरौ भरोसौ हतो। दुनियादारी सैं कछू मतलब नई हतो।

ऐसी कानात कई जात 'ना ऊधो कौ लैने उरना ना माधो कौ देने' । कन लगत 'कै भोले के भगवान होत'। सत्यनारायन भगवान की ऊपै भौत कृपा रत्ती। दो चार खोवा चून मिल गओ उत्तई भौत हतो ऊके लाने। अकेले पेट के लाने और का चाने तो उयै। कन लगत कै-'आगे नाथ ना पीछे पगहा'। वा तौ भौतई संतोषी डुकरिया हती। लगत कै ऊने तो जौ मंत्र पूरी तरसैं पढ़ लो तो- 'रूखा सूका खायकै ठण्डापानी पी' देख पराई चूपड़ी मत ललचावैं जी'। डुक्को खौ देख कै सबई खौ दिया आ जात ती। उयै दोरे में देखतनई लोग खोवा भर चून तुरतई दै देत ते उयै। उर ऊके भगवान के लाने उत्तई चून भौत हतो। ऐसई ऐसें माँगत खात कैऊ वरसै कड़ गई ती।

एक दिना ऊ सोसी के भगवान की पूजा तौ वरसन सै कर रयै है। अब एक दिना गाँव भरकौ भण्डारो और कर दओ जाय। जौन गाँव सै मगा-मँगा कै हम भगवान खौ भोग लगा-लगा कै अपनौ पेट भरत रये। हमाये ऊपर गाँव को भौत बड़ो ऐसान चढ़ गओ। उखौं चुकावने तो परेई। वा गई सो गाँव भर खौं न्यौतौ दै आई। कन्या की बात सुनकै गाँव भर के आदमी सनाकौ खाकै सोसन लगै कै घर में भुजा भांग तौ है नइया मे मँगाकै तो पेट भर रई उर गाँव भर के न्यौतौ करबे को शौक कर रई । ऐसी कन लगत कै 'मर गई किल्ली काजर खौं गिरदौला गोपी चन्दन खौ'।

लोग उसे देख-देख कै हँसी करन लगे के हओ बऊ हम सब जने सपर-सपर कै सौकाऊँ आ क डुक्कर जानतौ सब रई ती। अकेलै उने अपने सत्यनारायण स्वामी पें पूरी-पूरी विश्वास हतोई। वे सोसन लगी है दुनिया हँसी करे सो करन दो हमाई लाजतौ भगवानई के हात में है बेई सव परी करें। आदमी की बस की का है। वा घरै आकें भगवान की ध्यान करन लगी उर सोसन लगी के ' खेलना ताई उर लगुन दै लिखाई। हरी-हरी उनके आँगन में आदमी जुरन लगे उन्ने आव देखो ना ताव उर आँगन के बरत चूले पै करइया धर दई । नाचून उर ना चोपर सत्यनारायन स्वामी कौ नाव लैकै जई सौं झारी ठोको सोऊ ऊ करिया मे से छप्पन बिन्जन तैयार होन लगे भगवान की ऐसी लीला कै छबला के छबला भर गये सामान से। जौ तमाशो देखकै लोग ता करके रै गये।

फिर का कने पंगत बैठ गई। उर दिन भर उर आदीरात नौ भण्डारौ चलत रओ, कोनऊ कमी नई आ पाई। सामान की गाँव तो गाँव दस गाँव के लोग खा-खा कै सनात हो गये, उर डुक्को करइया पै जमी रई। जई सैं उन्ने देखो कै सब जनें खा पी चुके, सोऊ उन्ने करइया में सैं झारौ बायरे काड़ लओ। उर उठ कै वे अपने सत्यनारायन भगवान से कुन्नस करन लगी कै हे भगवान आपने हमाई लाज बचा लई नई तर हमाई भौतई हँसी होने ती, ऐसई सबकी लाज राखें रइयौ । उतें ठाढ़े ठाढ़े एक ढीमर ढीमर वामन डुक्को कौ जौ तमाशों देख रये ते। उनन नें सोसी कै डुक्को तौ जा भौतई अच्छी जुगती जानती। तनक हमई जौ नाटक करके देखें उनन खौ सत्यनारायन सैतौ कोनऊ मतलब हतो नई, उनन खौ तौ ऊ खेल खौ अजमाउने भर हतो। उनन ने अपने आँगन खौ अच्छी तरा सै लीपो पोतो। चूलों घरकै आंगें आगी बारी उर करइया में जई सैं ऊने झारै ठोके सोऊ वौ उचट कै ढीमरन के मौमे घलो सोऊ वा चिल्लयात भगी माँसै उर फिर एक छूटा कौ तातौ झारो ढीमर के गलपटे मे घलौ। सोऊ सबई सिट्टी-पिट्टी भूल गई उननकी। कन लगत कै चूले की खाँई

मोटो हुन कड़आई वे दोई जने भगत-भगत डुक्कर नै जाकै ऊके पाँवन पै गिरकै कन लगे कै बाई ताते झारन के मारै तौ हमाई कागत हो गई हमन तौ अदमरे हो गये तुमें जा इत्ती बड़ी सिद्धि कैसे मिली। सुनतनई डुक्को मुस्कयाकै कन लगी कै बेटा सत्यनारायण भगवान की कृपा के बिना पत्ता नई हिल सकत, तुम उनई कौ मन लगा पूजन करो सोऊ तुमाये सबई काम अपने आप होत रैय, देखौ इन बातन कौ ख्याल करियौ डेढ़ पौवा खोवा, डेढ़ पौवा शक्कर जीसे बनाये छै लडुवा। तुलसी खौ, ठाकुर खौ, पति खौ, गर्भस्त्री खौ, बालक खौ उर अपन ने पा लओ। ईसे तुमाई मनसा अपने आप पूरी हो जाये अकेले विश्वास करना जरूरी है। मानौ तौ परमेसुर नईतर सो पथरा सौ हैई। जा बात ढीमर उर ढीमरन के गरे उतर गई उर उदनई सै पूजा पाठ में लग गये। है सत्यनारान भगवान ऐसई सबकी मनसा पूरी करत रइयौ। कोऊ हैरान नई हो पाबै।

भावार्थ

एक गाँव में एक परिवार निवास करता था। परिवार में माता-पिता, भाई-बहिन, नाती नातिन सभी थे, किन्तु सारा परिवार अभावग्रस्त और साधनहीन था। बड़ी कठिनाई से परिवार के भरण-पोषण की व्यवस्था हो पाती थी। उनका रहन-सहन और खान पान बहुत ही सहज और सरल था। एक ऐसी कहावत कही जाती है कि-'चाँदी की मेख तमाशा देख' जब चाँदी की मेख ही नहीं है तो फिर तमाशा देखने का प्रश्न ही उत्पन्न नहीं होता। एक बार कोई भयंकर बीमारी आयी और ब्राह्मण परिवार के सारे लोग काल के गाल में समा गये उस परिवार में केवल एक बूढ़ी डायरिया शेष बची।

बहुत दिनों तक तो वह अपने परिवारजनों के लिए रोती रही, अंत में मन मारकर अपने जीवन के शेष दिन व्यतीत करने लगी। उसने भी सोच लिया कि अब पछताये होत क्या, चिड़िया चुग गई खेत'। उसका सारा मकान धराशायी हो गया। वह बेचारी वृद्धा एक झोपड़ी में रहकर दिन काटने लगी। अपना पेट भरने के लिए गाँव में घर-घर से एक-एक चुटकी आटा माँग कर लाती थी, किन्तु थी वह भगवान् सत्यनारायण की परम भक्त। आटा इकट्ठा होने के बाद अपने हाथ से भोजन तैयार करती थी। फिर विस्तार पूर्वक भगवान् सत्यनारयण की पूजा करके, उन्हें विधिवत् प्रसाद लगाकर भोजन करती थी। इस प्रक्रिया के द्वारा उसका उदर पोषण होता था।

दीन होने के बाद भी उसके मन में अपने भगवान् के प्रति अटूट आस्था और विश्वास था। ऐसा कहा जाता है कि 'विश्वासो फलदायी:' भीख माँगते और पूजा करते अनेक वर्ष व्यतीत हो गये। उसने सोचा कि मैं इतने वर्ष से गाँव वालों के दिये हुए आटे को खा-खा कर गुजर-बसर कर रही हूँ और अपने भगवान को भोग लगा रही हूँ। मेरे ऊपर और मेरे भगवान् पर गाँव वालों का बहुत बड़ा ऋण चढ़ चुका है। हमें किसी न किसी रूप में उनका ऋण चुकाना ही चाहिए। यदि हम सारे गाँव का निमंत्रण करके भोजन करा दें, तो हमारे सिर का बोझ कुछ हल्का हो सकता है। मेरे पास है तो कुछ भी नहीं, भगवान् ही मदद करेंगे।

ऐसा सोचकर वह पूरे गाँव में निमंत्रण कर आई। निमंत्रण की बात सुनकर लोग आश्चर्य चकित होकर सोचने लगे कि ये डोकरी पागल हो गई है। द्वार-द्वार पर भीख माँग-माँग कर खाने वाली गाँव भर को कैसे और कहाँ से खिलायेगी? सभी लोगों ने हँसकर हाँ हाँ कर टाल दिया। ऐसा कहा जाता है कि भोले के भगवान होते हैं। लड़की को तो अपने सत्यनारायण पर पूरा विश्वास था कि वे ही मेरी लाज रखेंगे। संध्या का समय होते ही गाँव के आमंत्रित लोग झोपड़ी के पास एकत्रित होने लगे।

लोगों को वहाँ भोजन की कोई तैयारी दिखाई नहीं दी। लोगों ने सोचा कि अरे! यहाँ तो कुछ भी नहीं है डोकरी पागल हो गई है। धीरे-धीरे गाँव के तमाम लोग एकत्रित हो गये उन्हें देखकर डोकरी मन ही मन चिंतित तो थी ही, किन्तु उसे अपने भगवान पर पूरा विश्वास था। उसने मन ही मन सत्यनारायण भगवान का स्मरण करके चूल्हा जलाया और उस पर एक बड़ी खाली कड़ाही चढ़ा दी और एक ऊँचे से आसन पर बैठकर ज्यों ही कड़ाही में झारे को ठोका, त्योंही कड़ाही में से अपने आप

व्यंजन तैयार हो-होकर निकलने लगे। भोजन सामग्री के ढेर लग गये गाँव वाले इस आश्चर्यजनक दृश्य को देखकर चकित थे। फिर क्या था? पंगत बैठ गई। लोग परोस परोस कर खिलाने लगे। आधी रात तक तो भोज चलता रहा। गाँव ही क्या आस-पास के दस गाँव के लोग भोजन कर करके चले गये, किन्तु भोज्य सामग्री की कोई कमी नहीं आ पाई। डोकरी जब तक कड़ाही में झारे को डाले रही, तब तक कड़ाही भोज्य सामग्री उगलती रही। कार्यक्रम पूरा होने के बाद डोकरी ने आसन से उठकर भगवान को प्रणाम किया और फिर विधिपूर्वक सत्यनारायण की पूजा-अर्चना की।

ये होता है उपासना और भक्ति भावना का प्रभाव। इस दृश्य को वहाँ खड़े-खड़े एक ढीमर और ढीमरन देख रहे थे। उन्होंने सोचा कि अरे! ये तो बहुत अच्छी युक्ति है। इसका तो लाभ हम भी ले सकते हैं। ज्यादा मेहनत भी नहीं है और विधि भी सरल है। इससे तो हम मालामाल हो सकते हैं। वे दोनों अपने घर गये और अपने आँगन को लीप-पोतकर स्वच्छ किया उन्हें सत्यनारायण भगवान से तो कोई मतलब था नहीं। वे तो केवल अपना स्वार्थ सिद्ध करना चाह रहे थे।

भक्ति भावना तो उनसे कोसों थी। दोनों ने मिलकर आँगन में चूल्हा जलाया और उस पर दूर एक कड़ाही चढ़ा दी और फिर चूल्हे के पास बैठकर ज्यों ही ढीमर ने कड़ाही में झारे को ठोका, त्यों ही वह गर्म झारा उचटकर ढीमर के गाल पर पड़ा, जिससे वह वहाँ से चिल्लाकर भागा और फिर दो झारे ढीमरन के दोनों गालों पर पड़े। तब वह भी वहाँ से चूल्हे को छोड़कर भागी। दोनों की हालत खराब हो गई और दो तीन दिन खटिया पर पड़े रहे। उन्होंने प्रण किया कि अब हम आज से किसी की परीक्षा नहीं लेंगे।

उस डोकरी की भक्ति-भावना का प्रचार-प्रसार होता रहा और बुंदेलखंड की महिलाएँ शरद पूर्णिमा का व्रत करके मनोवांछित फल प्राप्त करने लगी वे दोनों ढीमर और ढीमरन डोकरी के चरणों पर गिरकर पूछने लगे कि माताजी आपको इतनी बड़ी सिद्धि कैसे प्राप्त हुई? हमारी तो दुर्गति हो गई है। डोकरी ने मुस्कराकर कहा कि बेटा ये सब सत्यनारायण भगवान की ही कृपा है। उनकी कृपा के बिना तो पत्ता भी नहीं हिल सकता। तुम दोनों उन्हीं का पूजन करो। डेढ़ पाव खोवा और डेढ़ पाव शक्कर मिलाकर छै लड्डू बनाकर शरद पूर्णिमा को भगवान सत्यनारायण की विधिवत् पूजा करके एक लड्डू देव मंदिर में, एक गर्भवती स्त्री को, एक सखी को, एक पति को, एक छोटे बालक और एक स्वयं खाकर उपवास कीजिए, जिससे तुम्हें सारी सिद्धियाँ प्राप्त हो जायेंगी। तभी से ये उत्तम व्रत सारे बुंदेलखण्ड में प्रचलित हो गया।


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ