सिटिंग कों चेंज कर आप डेस्क जॉब में भी fit रह सकते हैं..

सिटिंग कों चेंज कर आप डेस्क जॉब में भी fit रह सकते हैं..
दोस्तो आज की लाइफ स्टाइल ऐसी है जिसमें ज्यादातर जॉब सिटिंग वाली होती हैं| इस तरह की जॉब करते हुए भी आप अपने आपको फिट रख सकते हैं। इसके लिए आपको अपने सिटिंग स्टाइल में परिवर्तन करने होंगे। आप बैठकर काम करने की बजाए खड़े रहकर भी काम कर सकते हैं। हर एक घंटे बाद उठकर खड़े हो सकते हैं। खड़े होने से शरीर की अधिक कैलोरीज बर्न होंगी। बैठने से ऐसा नहीं होती है। 



हाल ही में हुए शोध अध्ययनों के नतीजे बता रहे हैं कि कार्डियोवैस्कुलर डिसीजेस बहुत लंबे समय तक बैठे रहने से होती है। बैठे रहने के कारण जल्दी मौत भी हो सकती है तथा मोटापे का शिकार भी हो सकते हैं। बैठते ही मांसपेशियां शिथिल हो जाती हैं और कैलोरी बर्न होने की दर 1 कैलोरी प्रति मिनट तक रह जाती है। 


24 घंटे में से 1 घंटे भी बैठे रहने से इंसुलिन द्वारा ग्लूकोज के इस्तेमाल की दर 40 प्रतिशत तक गिर जाती है। जिसकी वजह से टाइप-2 डायबिटीज हो सकती है। बैठे रहने से शरीर की मांसपेशियों में जो इलेक्ट्रिकल एक्टिविटीज होती है वह रुक जाती हैं। 


मांसपेशियों की गतिविधियां शिथिल पड़ जाएं तो शरीर का मेटाबॉलिज्म रेट भी गिर जाता है। इसी कारण कैलोरी बर्न होना रुक जाती है। इसी के साथ ब्लड शुगर को कंट्रोल करने की शरीर की क्षमता भी कम हो जाती है। प्रमुख बात यह है कि बैठने से रीढ़ की हड्डी पर 10 प्रेशर बढ़ जाता है। 5 दिन तक बैठे रहने और न्यूनतम शारीरिक गतिविधियां करने पर प्लाज्मा ट्राइग्लिसराइड्स या फैटी मॉलिक्यूल्स बढ़ जाते हैं।


इंसुलिन रेजिस्टेंस और कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी बढ़ जाता है। हर दिन छह घंटे दो हफ्तों तक बैठे रहने से मांसपेशियों की एट्रोफी शुरु हो जाती है। ऑक्सीजन का उपयोग कम हो जाता है। सीढ़ियां चढ़ना मुश्किल हो जाता है। एक साल तक यही हालत रही तो शरीर का वजन बढ़ जाता है, तथा एक प्रतिशत बोन मास भी घट जाता है। एक दशक तक इसी तरह की नौकरी करते रहेंगे तो आपके जीवन के 7 महत्वपूर्ण वर्ष नष्ट हो चुके होंगे। आपके हार्ट डिसीज या कैंसर से मरने के भी अवसर बढ़ जाएंगे।


क्या करें ?


हर घंटे में एक बार उठकर खड़े हो जाएं। आप आपनी लाइफस्टाइल में केवल इतना ही परिवर्तन ले आए कि सिर्फ बैठे हुए पूरा दिन न गुजारें बल्कि सक्रियता से बिताएं। दिन भर में कम से कम 30 मिनट सक्रिय रहे। हर घंटे अपनी डेस्क से उठकर खड़े हो जाएं और देर तक खड़े रहें। 

अपनी डेस्क इस तरह से बना लें जो आपके खड़े होने पर खींचकर ऊपर की ओर लाई जा सके। इससे आप खड़े रहकर भी देर तक काम करते रह सकते हैं। केवल इतना करें कि कुछ देर खड़े रहें। अपना वायां पैर थोड़ा सा आगे की ओर निकाल लें और दायां पैर पीछे की ओर रखें। अब बाएं घुटने को थोड़ा सा मोड़ते हुए आगे की ओर झुक जाएं। ऐसा करने से शरीर पर पड़ने वाला तनाव मांसपेशियों में जान डाल देगा।

अक्सर लोगों को डॉक्टरों के चैंबर में या बैंक की लाइन में खड़े रहने में शर्म महसूस होती है। रिसेप्शनिस्ट बैठने के लिए कहे तो उसे विनम्रता से मना करें और फोन कॉल सुनते हुए खड़े रहें। इसके अलावा कोई मैगजीन हाथ में लेकर पढ़ सकते हैं। फोन पर नेट सर्फिंग कर सकते हैं अथवा इयरफोन लगाकर गाने सुन सकते हैं।

जीम में सभी दौड़ भाग के उपकरणों का इस्तेमाल करें लेकिन बैठकर की जाने वाली एक्सरसाइज के लिए मना कर दें। ट्रेडमिल अथवा स्टेशनरी बायसिकल का प्रयोग करें। यदि कमर में दर्द रहने लगा है तो बैठने की बजाए खड़े रहें ताकि कमर को आराम मिल सके।

EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ