सर्दी में नहाने का तरीका बदलें, पहले सर पर पानी डालने से बचना जरुरी है?

सर्दी में नहाने का तरीका बदलें, पहले सर पर पानी डालने से बचना जरुरी है?

इंसान के जीवन में जैसे खाना, सोना और जीवन का बाकि दैनिक कार्य जरुरी हैं वैसे नहाना भी बहुत जरुरी है. जिस तरह अपने स्वास्थ को सही रखने के लिए अच्छा खाना खाते हैं वैसे ही शरीर की साफ-सफाई और स्वस्थ रहने के लिए नहाना जरूरी है. रोजाना नहाने के आदी लोगों को भी सर्दी में पानी डालना पसीना छुड़ा देता है.



 इसका मतलब ये नहीं के आप सर्दियों में नहाना बंद या छोड़ दें. हाँ आप एक दिन बीच कर नहाएं, तो भी गलत नहीं होगा. सर्दी में आपका शरीर कपड़ों से ढंके रहने के चलते मुश्किल से गंदा होता है. सर्दी में पसीना न आने से आपके शारीर से बद्वू भी नहीं आती है. प्रदूषक भी ठंड में कपड़ों के अतिरिक्त परत के कारण आपकी स्किन को कम नुकसान पहुंचाते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं सर्दी के मौसम में नहाने का गलत तरीका आपके लिए भारी पड़ सकता है. सर्दियों में नहाते वक़्त कुछ साबधानी है उसका ध्यान रखना जरुरी है.

सर्दी में सिर पर पहले पानी डालकर नहीं नहाना चाहिए 
आयुर्वेद के मुताबिक, जब हम नहाते हैं तो हमें सिर पर पहले पानी नहीं डालना चाहिए. पहले अपने शरीर पर पानी डालें उसके बाद आप अपने सिर पर पानी डाल सकते हैं. अगर आप सिर पर पहले पानी डालतें हैं तो यह नुकसान होता है कि पूरे शरीर से ब्लड आपके सिर तक पहुंचता है. जिससे आपको चक्कर महसूस हो सकता है. विशेषज्ञों का कहना है कि ब्लड सर्कुलेशन ऊपर से नीचे यानी सिर से पैर की तरफ होता है. सिर पर सीधे ठंडा पानी पड़ने की वजह से मस्तिष्क की रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं और सिर भी ठंडा होने लगता है.


ब्लड सर्कुलेशन ऊपर से नीचे होने के चलते रहता है खतरा
अगर आपकी ये आदत है तो इसको बदल लो नहीं तो आपकी ये आदत स्ट्रोक का शिकार भी बना सकती है. क्योंके, ब्लड का सर्कुलेशन ऊपर से नीचे की ओर होने के चलते दिमाग की नस फटने या हार्ट अटैक का जोखिम भी बढ़ जाता है. हालांकि, ये समस्या अभी को नहीं आती है और आम तौर पर दिल के मरीजों को होती है. सामान्य लोग इस तरह नहाने से बहुत ज्यादा प्रभावित नहीं होतें हैं  मगर ये जरूर है कि आपके लिए सबसे पहले पांव को भिगोना बेहतर होगा. कुछ लोगों का मानना है कि ये हमारे समाज में भ्रांति है. पानी को पहले पैर में नहीं डालना चाहिए.  लेकिन, इस बात को हमें नजरंदाज नहीं करना चाहिए  हम इससे इनकार नहीं कर सकते कि ज्यादातर ब्रेन स्ट्रोक या हार्ट अटैक बाथरूम में आता है. इसलिए, नहाने के तरीके में बदलाव लाना आपके लिए जरूरी है. नहाने की शुरुआत सबसे पहले पांव पर पानी डाल कर करें. अंत में सिर पर पानी डालकर नहाना आपको खतरे की आशंका से बचा सकता है.


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ