कोरोना पोजिटिव परिवारों के सामने बेरिकेडिंग न की जाए,इससे समाज में डर फैलता है -दिनेश मालवीय

कोरोना पोजिटिव परिवारों के सामने बेरिकेडिंग न की जाए,इससे समाज में डर फैलता है

बड़े शहरों में पहली प्राथमिकता मौतों को रोकने को दी जाए-विशेषज्ञ

-दिनेश मालवीय

देश की तीन महत्वपूर्ण मेडिकल प्रोफेशनल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सुझाव दिया है कि, जिन बड़े शहरों में कोरोना का बहुत ज्यादा प्रसार हो गया है, वहाँ मौतों को रोकने पर ज्यादा ध्यान दिया जाए.उन्होंने एक संयुक्त वक्तव्य में कहा कि ऐसे शहरों में कन्टेनमेंट ज़ोन बनाने और आक्रामक परीक्षण कराने से कोई ख़ास लाभ नहीं हुआ है. इन शहरों में संक्रमण के प्रसार को कम करने की बजाय कोरोना से होने वाली मौतों को रोकने पर ज्यादा ध्यान केन्द्रित किया जाना चाहिए.


एक वक्तव्य में इन एसोसिएशन्स ने कहा है कि हालाकि भारत में कोरोना वेक्सीन का बहुत बेचैनी से इन्तजार हो रहा है, लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार प्रसारित कोरोना की स्थिति में वेक्सीन की भूमिका सीमित रहेगी. इस संक्रमण के प्रसार को बढ़ने से रोकने के प्रति आशावादी रहते हुए भी हमारी रणनीति में बुरी से बुरी स्थिति का सामना करने के लिए प्रभावी उपाय किये जाने चाहिए. यह मानकर चलना चाहिए कि प्रभावी वेक्किन निकट भविष्य में उपलब्ध नहीं होने वाली. हमें इस मुगालते में बिल्कुल नहीं रहना चाहिए कि यह रामवाण उपचार बस मिलने ही वाला है.

विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना संक्रमण एक जन-स्वास्थ्य की समस्या है, कानून-व्यवस्था की समस्या नहीं. इसका मुकाबला बहुत सहानुभूति और जनता के सहयोग से ही किया जाना चाहिए. विशेषज्ञों की अनुशंसा है कि कोरोना पीड़ित परिवारों के घरों की stemping और बेरिकेडिंग की व्यवस्था को समाप्त कर देना चाहिए. इससे समाज में डर पैदा हो रहा है.

प्रधानमंत्री के दिए गये ज्ञापन पर दस्तखत करने वालों में आल इंडिया इंस्टिट्यूट फ़ॉर मेडिकल साइंसेज, बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय, पोस्टग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल एजुकेशन और रिसर्च के प्रोफेसर्स शामिल हैं. इन विशेषज्ञों की राय में एक से दूसरे राज्य में यात्रा करने वालों को क्वारंटाइन करने की कोई तुक नहीं है. सिटीजन फ्रेंडली वातावरण बनाया जाना चाहिए, जन्में home quarantine/home isolation आदि शामिल हैं. अनेक शहरों में इससे बहुत फायदा हुआ है.

विशेषज्ञों ने लॉकडाउन रणनीति को जारी नहीं रखने की अनुशंसा की है. जिन स्थानों पर ही सामुदायिक संक्रमण नहीं है वहाँ सिर्फ कम समय के क्लस्टर प्रतिबन्ध लगाए जाने चाहिए. यह कदम भी यह विचार कर उठाया जाना चाहिए कि इससे लोगों की आजीविका पर कैसा प्रभाव पड़ेगा.


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ