फेसबुक-इंस्टाग्राम के दस्तावेज लीक, चौंकाने वाला खुलासा लडके-लड़कियों पर पड़ रहा गलत असर- अतुल पाठक.. 

फेसबुक-इंस्टाग्राम के दस्तावेज लीक, चौंकाने वाला खुलासा लडके- लड़कियों पर पड़ रहा गलत असर- अतुल पाठक 
फेसबुक के एक लीक दस्तावेज से कोहराम मच गया है| फेसबुक की खुद की रिसर्च से पता चला है कि उसके ऐप से ईटिंग डिसऑर्डर होने के साथ आत्म सम्मान और मानसिक स्वास्थ्य पर गलत असर पड़ रहा है|


Facebook Inc के Leaked documents और internal presentations में खुलासा हुआ है कि इंस्टाग्राम प्लेटफार्म से टीनएज गर्ल्स पर बेहद खराब असर पड़ता है| इस खुलासे के बाद फेसबुक के “इंस्टाग्राम यूथ” लाने के प्लान पर पानी फिरता दिखाई दे रहा है| 

फेसबुक के पुराने एंप्लॉय और विसलब्लोअर Frances Haugen ने  U.S. Senate committee किसान ने आरोप लगाया कि कंपनी अपने प्लेटफार्म के नुकसानदायक प्रभावों को इग्नोर कर रही है| फेसबुक जानती है कि उसके प्लेटफार्म यंग और टीनएजर्स में “anorexia” भूख संबंधी विकार पैदा कर रहे हैं|

ये भी पढ़ें.. Facebook ने वीडियो कॉलिंग के लिए पेश किए दो पोर्टेबल डिवाइस, जानें Portal Go और Portal Plus की खूबियां 

इस सच को स्वीकार करने की बजाए यह प्लेटफॉर्म कहते हैं इंस्टाग्राम आइसोलेटेड बच्चों को मदद करता है और इससे सुसाइड केस घटते हैं| जबकि सच्चाई यह है कि इन प्लेटफार्मस की वजह से डिप्रेशन और सुसाइड के केस बढ़ रहे हैं|

खास बात यह है कि कंपनी की लीडरशिप जानती है कि फेसबुक और इंस्टाग्राम को कैसे और ज्यादा सुरक्षित बनाया जा सकता है| लेकिन अपने फायदे के लिए यह बदलाव करने को तैयार नहीं हैं|

एक्सपर्ट भी कहते हैं कि इंस्टाग्राम से बॉडी इमेज गिरने लगती है और सुसाइडल थॉट्स बढ़ने लगते हैं| फेसबुक ने 2012 में इंस्टाग्राम को खरीदा था| तब फेसबुक को पता था कि इंस्टाग्राम से युवा-बच्चों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ता है खास तौर पर टीनएज गर्ल्स के स्वास्थ्य पर|

इंस्टाग्राम के उपयोग से यंग लड़कियों में तुलना करने की प्रवृत्ति बढ़ जाती है जिससे वह अपने बारे में नकारात्मक विचारों से भर जाती है| दावा किया जा रहा है कि फेसबुक ने पिछले 3 साल में इसे लेकर रिसर्च भी की है और पाया है उसके प्लेटफार्म के उपयोग से बच्चों में नकारात्मकता बढ़ रही है|

इस रिसर्च में पाया गया कि Teens ने इंस्टाग्राम पर एंग्जाइटी और डिप्रेशन बढ़ाने का आरोप लग| Teens ने सुसाइड थॉट्स बढ़ने की बात भी कही|

13 percent  ब्रिटिश USERS और 6 परसेंट अमेरिकन यूजर्स ने कहा कि इंस्टाग्राम के कारण वह अपने आप को मारने के विचारों से भर गए| दरअसल यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इमेज based हैं| इनके कारण व्यक्ति self-worth में कमी महसूस करता है उसे असुरक्षा का भाव आता है वह अपने आप को कमतर नता है और उसकी self-esteem गिरती है| वह अपने शरीर से असंतुष्ट रहता है, उसे अपने अपीरियंस की चिंता सताने लगती है, वह डिप्रेस्ड मूड का शिकार हो जाता है|

जब बच्चे या टीनएज खुद को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मौजूद अन्य लोगों से तुलना करते पाते हैं तो वह अपने आप को कमतर समझने लगते हैं| दरअसल इस एज में बच्चे self-conscious हो जाते हैं और उन्हें अपने अपीरियंस की चिंता सताने लगती है| वह अपनी झूठी और मॉडिफाइड तस्वीरें पोस्ट करने लगते हैं लेकिन अंदर ही अंदर अपनी वास्तविक स्थिति के प्रति उनके मन में नकारात्मक भाव आ जाते हैं| 

ऐसा बड़ों के साथ भी होता है| अच्छा दिखने के लिए मोबाइल और कंप्यूटर पर अनेक एप्स मौजूद है जो व्यक्ति को पूरी तरह से बदल देते हैं| व्यक्ति की इमेज को काले से गोरा करना उसके पूरे फेस को अट्रैक्टिव बना देना चंद सेकेंड में संभव है| लेकिन यह झूठ अंदर ही अंदर व्यक्ति को परेशान करता है| 

बच्चे इन प्लेटफार्म को छोड़ना चाहते हैं लेकिन वह छोड़ नहीं पाते| फेसबुक और इंस्टाग्राम की आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस उन्हें इन प्लेटफार्म की लत लगा देती है|  उन्हें अच्छा नहीं लगता लेकिन फिर भी वह इन प्लेटफार्म को छोड़ने में खुद को असहाय महसूस करते हैं|

अतुल पाठक 

 

EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ