हरी मटर की खेती के लिए तकनीकी तरीका अपनाएं..

हरी मटर की खेती के लिए तकनीकी तरीका अपनाएं..
मटर सर्दियों की प्रमुख सब्जियों में से एक है। शाकाहारी भोजन में मटर प्रोटीन से भरपूर हो सकता है। एफएओ के आंकड़ों के अनुसार मटर भारत में सर्दियों की मुख्य सब्जियों में से एक है। शाकाहारी भोजन में मटर प्रोटीन से भरपूर हो सकता है।


एफएओ के आंकड़ों के अनुसार मटर उत्पादन में भारत का महत्वपूर्ण स्थान है। मटर की फसल को फसल चक्र में बहुत अच्छी तरह से अपनाया जा सकता है और यह मिट्टी की उर्वरता को बढ़ाता है क्योंकि यह फल देने वाली फसल है।

ये भी पढ़ें.. जलवायु परिवर्तन और जंगली खेती

वैक्सीन माइक्रोबायोलॉजी विभाग, कृषि विश्वविद्यालय/जिला कृषि विज्ञान केंद्र/सलाहकार सेवा केंद्र से प्राप्त की जा सकती है। एक एकड़ इंजेक्शन को आधा लीटर पानी में मिलाकर इस घोल को बीजों में अच्छी तरह मिला लें। भारी मिट्टी में, मटर को हमेशा थोक में बोएं और हल्का पानी डालें।

मुख्य कीट:

मधुमक्खी थ्रिप्स (जूँ): यह लगभग 2 मिमी रंग का होता है। पंख बहुत मुलायम होते हैं और पैर पीले होते हैं। यह कई दलहनी फसलों का रस चूसता है। झाड़ियाँ कमजोर हो जाती हैं और उपज कम हो जाती है।

ट्रंक मधुमक्खी: घुन ट्रंक में दबकर हमला करता है, जिससे पौधे मुरझा जाते हैं। कभी-कभी वयस्क (मधुमक्खियां) भी पत्तियों में छेद करके घायल कर देते हैं। पौधे के क्षतिग्रस्त भाग पीले हो जाते हैं।

रोकथाम: फसल की बुवाई 15 अक्टूबर के बाद ही करें तथा आक्रमणकारी पौधों को एकत्र कर नष्ट कर दें। सर्दियों में बुवाई के समय 10 किलो फुरदान 3जी (कार्बोफ्यूरन) प्रति एकड़ डालें।

सुरंग के पतंगे: पत्तियों को अंदर से खाते हैं, जिससे पत्तियां पीली हो जाती हैं और पौधों को पोषक तत्वों की सूर्य की आपूर्ति कम हो जाती है। दिसंबर से मार्च के दौरान ये कीट काफी नुकसान पहुंचाते हैं। तनों, शाखाओं, पत्तियों और फलियों पर आटे जैसे धब्बे बनते हैं।

रोकथाम: 600 ग्राम सल्फैक्स को 200 लीटर पानी में घोलकर 10 दिनों के अंतराल पर तीन बार छिड़काव करें।

सड़ांध, जड़ सड़न और जंग का हमला: जड़ सड़ जाता है और निचली पत्तियां पीली हो जाती हैं और बाद में पौधा मर जाता है।

रोकथाम: अगेती फसल में रोग की आशंका अधिक होती है। इसलिए जल्दी बुवाई न करें। 15 ग्राम प्रति किलो बीज में स्यूडोमोनास फ्लोरोसेंस फॉर्मूलेशन को संशोधित करके बीज के डालें।

दिसंबर-जनवरी: 

पीले और भूरे रंग के गोल धब्बे बीमारी की वजह से पत्तियों के नीचे दिखाई देते हैं। देर से आने वाली फसल पर अधिक आक्रमण होता है।

रोकथाम: खेत और फसल के आस-पास को खरपतवारों से मुक्त रखें। चित्तो और कुंगी दोनों को एक साथ नियंत्रित करने के लिए सल्फैक्स 200 ग्राम और 400 ग्राम एंडोफिल एम-45 प्रति एकड़ का छिड़काव करें।

सफेद सड़न: ये रोग फूल आने और फली बनने के समय अधिक तीव्र होता है। पानी से भीगे पत्ते, तना और फली में बेतरतीब धब्बे बन जाते हैं। यह रोग अक्सर फलियों पर देखा जाता है, जो बाद में एक खुरदरी भूरी पपड़ी में बदल जाती है। ठंड और आर्द्र मौसम में, सफेद मादा सख्त हो जाती है और फली में काले बीजाणु (स्क्लेरोसिया फंगस) बनाती है।

रोकथाम: पत्ता गोभी और गाजर के खेत में फसल न बोएं, बल्कि टमाटर और मिर्ची भी लगा सकते हैं जिससे खेत में बैक्टीरिया और रोग की वृद्धि कम होगी। पौधों के अवशेषों को एकत्र कर नष्ट कर देना चाहिए।

बुवाई एवं बीज की मात्रा:

सितम्बर माह में बोई जाने वाली फसल में कीटों का प्रकोप होता है। इसलिए, बुवाई का सबसे अच्छा समय अक्टूबर के मध्य से नवंबर के मध्य तक है। 

अगेती किस्मों के लिए 45 किलो बीज प्रति एकड़ और मुख्य मौसम की किस्मों के लिए 30 किलो बीज की आवश्यकता होती है। शुरुआती किस्मों के लिए दूरी 30-7.5 सेमी और मुख्य मौसम की किस्मों के लिए 30-10 सेमी रखने की सिफारिश की जाती है।

डॉ हरपाल सिंह रंधावा और डॉ. बी एस ढिल्लों

 

EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ