शुद्ध पानी पीने के लिए फॉलो कीजिए ये अच्छी आदतें….

शुद्ध पानी पीने के लिए फॉलो कीजिए ये अच्छी आदतें…

घर में इस तरह बनाएं पानी को शुद्ध-   बहुत से लोगों को लगता है कि चलता हुआ या बहता हुआ पानी केवल मलमल के कपड़े से छान लेने से वह पीने लायक हो जाता है। जी नहीं, इस तरीके से पानी में घुले कंकड़-पत्थर जैसी चीज़ें ज़रूर साफ हो जाती हैं लेकिन यह शुद्ध या पीने लायक नहीं बनता। इस पानी में बैक्टेरिया, वायरस और विषैले तत्व हो सकते हैं। इसीलिए पीने से पहले पानी को उबालकर छान लें। पानी उबलने लगे तो 2-3 मिनट तक उसे उबालते रहें और उसके बाद ठंडा करें। इससे पानी में मौज़ूद कीटाणु मर जाते हैं और आपके पीने के लिए यह पानी शुद्ध हो जाता है। इसी तरह पीने का हमेशा ढककर रखना चाहिए।

आप जिस बर्तन में पानी रखते हैं वह भी बहुत महत्वपूर्ण होता है। भले ही आपका पानी साफ और शुद्ध हो लेकिन अगर बर्तन साफ नहीं तो पानी दूषित हो जाएगा जिससे आपको इंफेक्शन हो सकता है। ध्यान रखें कि पानी के बर्तन का ढक्कन लगा हुआ हो और उसमें कोई हाथ न डाले। दूध या फ्रूट जूस की बोतल में पानी भरकर न रखें क्योंकि दूध में मौजूद प्रोटीन और जूस में मौजूद फ्रूट शुगर बॉटल से चिपक जाते हैं जिनमें बैक्टेरिया जमा हो जाता है जो आपके पीने के पानी से घुल सकता है।

आजकल बाज़ार में विभिन्न प्रकार के वॉटर प्यूरिफायर उपलब्ध हैं। ये इस्तेमाल और साफ सफाई के लिहाज से काफी आसान होते हैं और आपको पीने का शुद्ध पानी उपलब्ध कराते हैं। अगर आप इन्हें खरीद सकते हैं तो अपने घर में ज़रूर लगवाएं ताकि आपके परिवार को हर मौसम में शुद्ध पानी मिलता रहे। वॉटर प्यूरिफायर के विभिन्न प्रकार होते हैं। सबसे लोकप्रिय प्रकार हैं यूवी और आरओ टेक्नोलॉजी वाले। यूवी तकनीक में पानी को कम-वेवलेंथ वाली अल्ट्रावयलेट रेडिएशन का इस्तेमाल कर पानी को शुद्ध बनाया जाता है जबकि आरओ (reverse osmosis) तकनीक में पानी में मौजूद अशुद्धियां हटाने के लिए एक पारदर्शी झिल्ली और दबाव का उपयोग किया जाता है।

इन वॉटर प्यूरिफायर की नियमित समय पर साफ-सफाई और जांच करानी पड़ती है इसलिए उसका ध्यान रखें।


घर पर पानी को शुद्ध कैसे बनाएं?

जहां घर में पानी को शुद्ध बनाना आसान है वहीं अगर आप कही कैम्प या यात्रा पर गए हैं और आपको नदी, तालाब या झरनों जैसे प्राकृतिक स्रोतो का पानी पीना है तो यह पता लगाना थोड़ा मुश्किल होगा कि वह पानी शुद्ध है या नहीं। ऐसी स्थिति में इन बातों पर ध्यान दें।

ठहरे हुए पानी की बजाय हमेशा बहते हुए स्रोत से पानी पीएं क्योंकि रुके हुए पानी में कीटाणुओं की मौजूदगी की संभावना अधिक होती है।

पानी पीने से पहले पानी की सतह देख लें। अगर वह गंदी, मिट्टीभरी या कीचड़वाली सतह पर है तो पानी न पीएं। अगर पानी का कोई और स्रोत उपलब्ध नहीं हो तो उसे पीने से पहले जितना संभव हो उतनी बार छान लें। पानी उबालना एक अच्छा पर्याय है। इसी तरह आप पानी में क्लोरीन की गोलियां डाल सकते हैं, जो पानी को शुद्ध बनाती हैं।

आजकल छोटे फिल्टर और प्यूरिफायर भी बाज़ार में मिल जाते हैं जिन्हें आप अपने सफर के दौरान साथ रख सकते हैं। घर से जितना सम्भव हो उतना पानी लेकर चलें और अगर वह ख़त्म हो जाए तो किसी नामचीन कम्पनी का बोतलबंद पानी खरीद सकते हैं।

बीमार होने से बचने के लिए इन आसान टिप्स पर ध्यान ज़रूर दें।

PURAN DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ