किराना दुकान से लेकर ढाबों तक मालवा-निमाड़ में जहरीली शराब का धंधा

गुजरात में शराबबंदी का फायदा उठा रहे हैं झाबुआ के शराब माफिया

जहरीली शराब के सेवन से मंदसौर और खरगोन जिले के आठ लोगों की जान चली गई। पिछले साल उज्जैन में 14 लोगों की मौत हुई थी। इसके बावजूद अवैध शराब बनाने और बेचने का काला कारोबार थम नहीं रहा है। मालवा-निमाड़ की बात करे तो यहाँ किराना दुकान से लेकर ढाबों तक  शराब का धंधा चरम पर है। गुजरात के सीमावर्ती जिलों के शराब माफिया गुजरात में शराब प्रतिबंध का फायदा उठा रहे हैं।  आदिवासी बहुल जिलों में स्थिति और भी विकट है। गाँव ने तो महुवा की शराब बनाई और बेची जा रही है। आबकारी विभाग और पुलिस की ओर से दावे तो किए जा रहे हैं, लेकिन जानलेवा धंधे पर लगाम नहीं लग रही है। 

mahua sharab
खंडवा में नर्मदा नदी के किनारे जंगलों में ओंकारेश्वर बांध के बैक वाटर एरिया में शराब की अवैध बिक्री चल रही है।  खंडवा और खरगोन जिले के सीमावर्ती इलाकों में शराब माफिया डिस्टिलरी लगाकर शराब बनाते हैं।  ओंकारेश्वर के पास दुकिया और गुंजारी गांव के बीच जंगल में पुलिस ने दो महीने पहले छापेमारी कर करीब चार लाख रुपये की शराब जप्त की थी।  जिला आबकारी अधिकारी आर.पी. किरर ने कहा कि सात महीने में 35 लाख रुपये से अधिक की शराब जब्त की जा चुकी है।

ढाबों से किराना दुकानों तक अवैध शराब जब्त की गई है।  जनवरी से 15 जुलाई तक आबकारी विभाग ने 1624 स्थानों पर अभियान चलाकर घरेलू व विदेशी हैंड फर्नेस समेत केमिकल से बने 1 करोड़ 95 लाख 49 हजार 371 रुपये मूल्य के 28 वाहन जब्त किए।  जिला आबकारी अधिकारी मनीष खार ने बताया कि शराब एबी रोड समेत पड़ोसी राज्यों से हाईवे पर बिक्री के लिए लाई जाती है। रतलाम जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में महुआ शराब बनाई और बेची जाती है। आबकारी विभाग ने छह माह में 20 से ज्यादा जगहों पर कार्रवाई की है। 

मध्यप्रदेश : जहरीली शराब से मौत…..  सभ्य समाज पर दाग

mahua sharab
गुजरात में शराबबंदी का फायदा उठा रहे हैं झाबुआ के शराब माफिया

गुजरात में शराबबंदी का फायदा झाबुआ जिले के शराब माफिया उठा रहे हैं। गुजरात में झाबुआ से शराब भेजी जाती है। यही कारण है कि जिला सरकारी ठेकों से सरकार को हर साल 203 करोड़ रुपये का राजस्व मिल रहा है। गुजरात की सीमा से सटे पिटोल, मदरानी, ​​वाथा जैसे छोटे शहरों में करोड़ों रुपये के सरकारी शराब के ठेके हैं। 

नर्मदा नदी के किनारे बड़वानी जिले में महुआ से बड़े पैमाने पर शराब बनाई जाती है। छह माह पूर्व आबकारी टीम को अवैध रूप से भारी मात्रा में शराब ले जा रही नाव ने पकड़ा था। सहायक आबकारी अधिकारी जीएस धुंज ने बताया कि अप्रैल, मई और जून में 755 मामले आए। शाजापुर जिले के ढाबों और ग्रामीण इलाकों में अवैध शराब की बिक्री होती है। पुलिस और आबकारी विभाग का दावा है कि लगातार कार्रवाई की जा रही है।

धार जिले में भी अवैध रूप से शराब बनाई जाती है। बता दें कि, 1 अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2021 तक अवैध शराब मामले में 4211 प्रकरण दर्ज किए और 2880 लोगों को गिरफ्तार किया। गुजरात में अवैध रूप से शराब का परिवहन करने के लिए माफिया जिले से गुजरने वाले इंदौर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग और लेबर-मानपुर मार्ग का उपयोग करते हैं।

कोरोना, लाॅक डाउन और शराब का ये ‘रिश्ता’ क्या है..? अजय बोकिल

liquor Online Delhi
उज्जैन : 14 लोगों की मौत के बाद बदले गए एसपी

अक्टूबर 2020 में उज्जैन जिले में शराब पीने से 14 लोगों की मौत हो गई। इस मामले में तीन कांस्टेबल समेत सोलह लोगों को आरोपी पाया गया था। कांस्टेबलों को भी बर्खास्त कर दिया गया। साथ ही तत्कालीन एसपी मनोज सिंह और एएसपी रूपेश द्विवेदी का तबादला कर दिया गया। 


शराब से नशा क्यों होता है?

 

Priyam Mishra



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ