बंगाल में महिलाओं के खिलाफ सबसे ज्यादा अपराध दर, यूपी में सबसे कम: एनसीआरबी की रिपोर्ट 

बंगाल में महिलाओं के खिलाफ सबसे ज्यादा अपराध दर, यूपी में सबसे कम: एनसीआरबी 2020 की रिपोर्ट.. 
राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार महिलाओं के खिलाफ अपराध 2020 में घटे हैं| 2019 की तुलना में वर्ष 2020 में देश में महिलाओं के खिलाफ 3,71,503 मामले दर्ज किए गए, जबकि वर्ष 2019 में 4,05,326 मामले दर्ज किए गए। इसका मतलब है कि महिलाओं के खिलाफ अपराधों में 8.3 फीसदी की कमी आई है।


14 सितंबर को जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश मामले 'पति या उसके रिश्तेदारों द्वारा दुर्व्यवहार' (30.0) के तहत दर्ज किए गए थे, इसके बाद 'महिलाओं को अपमानित करने का इरादा' था। हमले (23.0), अपहरण (16.8) और बलात्कार (7.5) दर्ज किए गए हैं।

ये भी पढ़ें.. MP@9: कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, राम के बारे में पढ़ेंगे कॉलेज स्टूडेंट्स, 12 नए कोरोना केस

2019 की तुलना में 2020 में पश्चिम बंगाल और ओडिशा में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की सबसे अधिक घटनाएं हुईं? वहीं, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में गिरावट आई है। 2019 में दिल्ली में 13,395 मामले दर्ज किए गए जो 2020 में घटकर 10,093 हो गए।

वहीं, आंकड़ों के मुताबिक उत्तर प्रदेश महिलाओं के खिलाफ अपराधों में सबसे तेज गिरावट वाले राज्यों में से एक है। 2019 में यहां 59,853 मामले दर्ज किए गए जो 2020 में घटकर 49,385 हो गए।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि महिलाओं, बच्चों और वरिष्ठ नागरिकों के खिलाफ अपराध, चोरी, डकैती, चोरी और डकैती के तहत दर्ज मामलों की संख्या में कमी आई है, इस दौरान देश में कोरोना महामारी और लॉकडाउन की पहली लहर आई|


उत्तर प्रदेश में अपराध में वृद्धि में कमी आई:

दिल्ली-दिल्ली में अपराध 2019 की तुलना में 2020 में 16% कम हैं। हालांकि 2019 में राजधानी में 2018 की तुलना में अपराध में 20% की वृद्धि दर्ज की गई।

2020 में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत दिल्ली में कुल 2,49,192 मामले दर्ज किए गए 2019 की तुलना में 50,283 की कमी। 

ये भी पढ़ें.. करनाल: 4 दिन बाद इंटरनेट से हटा प्रतिबंध, स्थानीय लोगों के लिए राहत भरी खबर..

2018 में दिल्ली में आईपीसी के कुल मामलों की संख्या 2,49,012 थी।

2019 की तुलना में, 2020 में दिल्ली में हत्या और अपहरण और महिलाओं के खिलाफ अपराध जैसे अपराधों में कमी आई है। 

2019 की तुलना में 2020 में हत्याओं की संख्या में 9% की कमी आई है।

इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के हालिया बयानों के विपरीत, 2018 के बाद से यूपी में अपराध बढ़ रहा है। 2018 में, IPC की विभिन्न धाराओं के तहत कुल 3,42,355 मामले दर्ज किए गए, जो 2019 में बढ़कर 3,53,131 और 2020 में 3,55,110 हो गए।

अनुसूचित जाति (एससी) के खिलाफ अपराधों के कुल 50,291 मामले दर्ज किए गए, जो 2019 (45,961 मामलों) की तुलना में 9.4% की वृद्धि दर्शाता है।


EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ