EDITORSeptember 14, 20201min18

कविता : आज हिंदी Day है

आज हिंदी डे है

उन्हें सुबह से शाम तक,

धारा-प्रवाह और शुद्ध हिंदी में बोलते-बतियाते,

देखकर अर्द्धांगिनी घबराईं,

चिंता की लकीरें माथें पर आईं,

घबराई, तभी एक बिजली सी कौंधी, एक युक्ति मस्तिष्क में आई,

फौरन पारिवारिक चिकित्सक को लगाया फोन,

साहब की भाव भंगिमाओं और भाषण शैली का बताया एक-एक कोण,

चिकित्सक महोदय तनिक मुस्कराए, लक्षणों पर गौर फरमाया,

बोले- महोदया, घबराइए मत,

कल सुबह तक साहब हो जाएंगे ठीक,

बोलने लगेंगे फर्राटेदार अंग्रेजी या अपनी प्यारी भाषा हिंगिलिश,

एक ही दिन का है यह रोग, दरअसल वो आज हिंदी डे है न॥

-सतीश एलिया


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ