हिन्दी लोकोक्तियाँ 27 -दिनेश मालवीय

हिन्दी लोकोक्तियाँ-27

-दिनेश मालवीय

1.जारी को अपना दाव ही सूझता है.
स्वार्थी को सिर्फ अपना स्वार्थ दिखता है.

2.जुआरी को कोई उधार नहीं देता.
जुआ खेलने वाले पर कोई विश्वास नहीं करता.

3.जूठा खाय मीठे के लालच में.
स्वार्थ के लिए आदमी कुछ भी नीच कर्म कर देता है.

4.जूठा हाथ कुत्ते को न मारना.
बहुत अधिक लालची होना. कहीं हाथ में लगी जूठन कुता न चाट ले.

5.जूता पैर में ही ठीक रहता है.
घटिया आदमी को ज्यादा लिफ्ट नहीं देनी चाहिए.

6.जैसा आया वैसा गया.
खोती कमाई खोते काम में ही खर्च होती है.

7. जैसी करनी पर उतरनी.
जो जैसा कर्म करता है, उसे वैसा ही फल मिलता है.

8. जैसा कहो वैसा सुनो.
बुरा बोलने वाले को बुरा सुनना पड़ता है.

9. जैसे को तैसा. अथवा जैसे देव की वैसी पूजा.
जैसा जिसका व्यवहार हो , उसके साथ वैसा ही व्यवहार करना चाहिए.
Tit for tat.

10.जैसा जामन वैसा दही.
बाप के गुण बेटे में होते हैं.

11.जैसा देस वैसा भेस.
जहाँ रहो वहाँ के रीति-रिवाज अपनाना अच्छा होता है.
When in Rome do as Romans do.

12.जैसा नाम वैसा गुण.
व्यक्ति में उसके नाम के अनुरूप गुण होने पर कहा जाता है.

13.जैसा सोचे वैसा पावे.
व्यक्ति जैसा सोचता है, उसे वही प्राप्त होता है.

14.जैसी देवी वैसे गीत.
जो व्यक्ति जैसा होता है, उसके साथ वैसा ही व्यवहार किया जाता है.

15.जैसी भावना वैसी सिद्धि.
भाव के अनुरूप ही फल मिलता है.

16. जैसे कंता घर रहे, वैसे रहे विदेश.
निखट्टू आदमी के घर या बहार रहने से कोई फर्क नहीं पड़ता.

17.जैसे नब्बे वैसे सौ.
जब किसी काम को करने का निश्चय कर लिया तो थोड़ा-बहुत ज्यादा खर्च होने को स्वाभाविक माना जाता है.

18.जैसे बड़े तैसे छोटे.
बड़ों का अनुकरण छोटे करते हैं.

19.जो आया वो जाएगा.
जिसने जन्म लिया, उसे मरना ही होगा.

20.जोग में भोग की आस.
परस्पर विरोधी कार्य करने वाले के लिए कहते हैं.


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ