हिन्दी लोकोक्तियाँ-6 -दिनेश मालवीय

हिन्दी लोकोक्तियाँ-6

-दिनेश मालवीय

1. बिना मरे स्वर्ग नहीं मिलता
कोई काम ख़ुद अपने किये बिना ठीक नहीं होता.

2. अपने हाथों अपनी आरती उतारना
अपनी बड़ाई ख़ुद करना.

3.अफलातून के नाती बने हैं
ऐसे व्यक्ति के लिए कहा जाता है, जो अपने को बहुत बड़ा विद्वान या विचारक
समझता है. अफलातून यूनान के महान दार्शनिक प्लेटो को कहा जाता था.

4.अब तब हो रही है
यह तब कहा जाता है, जब कोई रोगी मरने के बिल्कुल करीब हो.

5.अभी तो बेटी बाप की है
अब भी कुछ हो सकता है, बहुत कुछ नहीं बिगड़ा है.

6. अमानत में खयानत
किसी के द्वारा अमानत के तौर पर रखी गयी चीज में बेईमानी करना.
Breach of trust.

7. अमीर ने पादा सेहत हुयी, गरीब ने पादा बेअदबी हुयी.

अमीर कोई काम करे तो लोग उसकी सराहन करते हैं, वही काम गरीब करे तो लोग
उसको बुरा-भला कहते हैं. यानी अमीर के दोष भी गुण नज़र आते हैं और गरीब के
गुण भी दोष.

8. अलखामोशी नीम रज़ा
मौन रहना स्वीकृति का लक्षण है. मौनं सम्मति लक्षणम.

9. अला-बला बंदर के सिर.
सारा दोष कमज़ोर के सिर ही मढ़ा जाता है. बलवान को कोई कुछ नहीं कहता.

10. अल्प विद्या भयंकरी
अधकचरा ज्ञान खतरनाक होता है. A little knowledge always dangerous.

11.अल्पाहारी सदा सुखी.
कम खाने वाला कभी बीमार नहीं पड़ता. कम खाना गम खाना.

12. अल्ला दे खाने तो कौन जाए कमाने.
निकम्मे और मुफ्तखोर व्यक्ति के लिए व्यंग्य से कहा जाता है.

13.आँख का अंधा गाँठ का पूरा
ऐसे व्यक्ति के लिए कहा जाता है जिसके पास धन हो लेकिन वह मूर्ख हो.

14. आंख का अंधा नाम नयनसुख
ऐसे व्यक्ति के लिए कहा जाता है, जिसके गुण या विशेषता उसके नाम के प्रतिकूल हो.

15. आँख-कान में चार अंगुल का फर्क है.
अनदेखी चीज पर विश्वास नहीं करना चाहिए. यह जरूरी नहीं है कि आपने जो बात
सुनी है, वह सही ही हो. जब तक आपने स्वयं कुछ न देखा हो उस पर सहज ही सच
नहीं मानना चाहिए.

16.आँख का पानी ढल गया
किसी का निर्लज्ज हो जाना.

17. आँख चूकी, माल यारों का

अपने सामान की सुरक्षा का सजगता से ध्यान रखना चाहिए. आँख बंद डिब्बा गायब.

18. आँख मिची तो सदा अँधेरा.
मृत्यु होने के बाद कुछ नहीं रह जाता.

19.आँख का काजल चुराता है.
बहुत चतुर आदमी.

20. आँखों पर चर्बी चढ़ना
अहंकारी व्यक्ति के लिए कहा जाता है.


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ