इतिहास: 1916 में जब एक हाथी को फांसी दी गई थी..


स्टोरी हाइलाइट्स

क्या आपने कभी किसी हाथी को मौत की सजा देते देखा है? 104 साल पहले हाथी को मौत की सजा सुनाई गई थी। आज जानवरों पर दया करने की बात हो रही है

इतिहास: 1916 में जब एक हाथी को फांसी दी गई थी..
क्या आपने कभी किसी हाथी को मौत की सजा देते देखा है? 104 साल पहले हाथी को मौत की सजा सुनाई गई थी। आज जानवरों पर दया करने की बात हो रही है लेकिन उस समय एक हाथी को फांसी पर लटकाए जाने का भी बड़ी संख्या में लोगों ने समर्थन किया था।


दिनांक 13 सितंबर 1916: अमेरिका के टेनेसी राज्य में मैरी नाम के एक नर हाथी को दो हजार से ज्यादा लोगों के सामने फांसी पर लटका दिया गया। इस घटना को अंग्रेजी में "मर्डरस मैरी" के नाम से जाना जाता है। चार्ली स्पार्क नाम का एक शख्स टेनेसी में 'स्पार्क्स वर्ल्ड फेमस शो' नाम का सर्कस चला रहा था। उस सर्कस में कई जानवर थे। उनमें मैरी नाम का एक एशियाई हाथी भी था।

ये भी पढ़ें.. “असली इतिहास को दबाया गया, उजागर करने की जरूरत” अजय देवगन..
एक दिन मैरी का महावत किसी कारण से सर्कस से चला गया। उनकी जगह दूसरे महावत ने ले ली। मैरी को नए महावत का ज्ञान नहीं था और महावत को मैरी का ज्ञान नहीं था। मैरी को नियंत्रित करना महावत के लिए बहुत कठिन था।

इस दौरान सर्कस के प्रचार-प्रसार के लिए शहर में परेड का आयोजन किया गया। सभी जानवरों और विशाल मैरी सहित। शहर के बीचोबीच परेड का आयोजन किया गया। रास्ते में मैरी हाथी ने कुछ खाना देखा और भोजन करने के लिए उस दिशा में निकल गया। नए महावत ने मैरी को रोकने की बहुत कोशिश की, लेकिन वह नहीं रुका। महावत ने हाथी के कान के पीछे मारा। हाथी क्रोधित हो गया। उसने महावत को नीचे गिरा दिया और उस पर अपना पैर रख दिया। महावत यमधाम पहुंच गये।

घटना को प्रत्यक्ष देख लोग इधर-उधर भागने लगे। कुछ लोग वहां खड़े होकर हाथी को मारने के नारे लगा रहे थे। अगले दिन समाचार पत्र में घटना का विस्तृत विवरण छपा। 

शहर के लोग सर्कस के मालिक चार्ली स्पार्क से कहने लगे कि हाथी को मौत के घाट उतार देना चाहिए। उसे धमकियाँ मिलने लगी, मालिक के पास कोई चारा नहीं था। अब जब यह तय नहीं हो पा रहा था कि हाथी को कैसे मारा जाए। कोई उसे ट्रेन के नीचे कुचले जाने की बात कर रहा था, तो कोई करंट लगाने की बात कह रहा था|

अंत में फांसी लगाने का फैसला किया गया। 13 सितंबर 1916 को एक क्रेन से 100 टन वजनी हाथी को उठाने का आदेश दिया गया था। क्रेन की मदद से विशालकाय हाथी को फांसी पर लटका दिया गया और उसे मौत के घाट उतार दिया गया। इतिहास में एक हाथी की इतनी क्रूर हत्या कभी नहीं हुई। जिसमें एक साथ इतने सारे इंसान शामिल होते हैं। 


News Puran Desk

News Puran Desk