महाकाल दरबार की अद्भुत होली…. डॉ. नवीन जोशी

महाकाल दरबार की अद्भुत होली….

डॉ. नवीन जोशी

 

बृज भूमि में किशन कन्हैया और अवध में मर्यादा पुरुषोत्तम राम की होली के साथ उज्जैन के भस्म रमैया भोले बाबा की होली भी अद्भुत और निराली होती है ........बाबा के दरबार में होलिका दहन सबसे पहले शाम 7:00 बजे ही हो जाता है, इसके बाद बाकी स्थानों पर होलिका दहन होता हैं..... धुलेंडी के दिन सुबह 4 बजे महाकाल के भक्त भस्मआरती में भ्स्मी के साथ -साथ हर्बल अबीर और गुलाल से बाबा का श्रृंगार करते हैं....और आरती में जम कर रंग उड़ता और बम बम भोले का भक्ति रस बरसता हैं......लाल गुलाल और केसरिया रंग की छटा से गर्भ गृह का वातावरण रमणीय और भक्तिमय हो जाता हैं, इतना ही नहीं क्विंटलों टेसू के फूलों से तैयार प्राकृतिक रंग भी खूब खेला जाता है ... महाकाल के चाहने वाले रंगों से सराबोर हो मस्ती में झूमते गाते नजर आते हैं..होली पर सभी भक्त भोले की भक्ति में रम जाते हैं,....रंग की उमंग, भंग की तरंग में होता है अद्भुत होली का उत्सव... केमिकल रंगों के इस दौर में आज भी यहाँ प्राकृतिक रंगों से ही होली मनाई जाती है। रंगों का नहीं प्राकृतिक तरीके से बनी गुलाल और अबीर से श्रृंगार की परंपरा है ....... 
mahadev (1)
मंदिर में होली पर विशेष सजावट का आयोजन किया जाता है। यहां विशेष प्रकार के फूलों से रंग तैयार किया जाता है। जिससे भगवान भोलेनाथ और उनके भक्त होली खेलते हैं। मंदिर में भस्म आरती का प्रातः 4 बजे होने वाली भस्म आरती में होली के दिन अनूठा दृश्य देखने को मिलता है। बाबा महाकाल को रंग-गुलाल अर्पण किया जाता है। इसके बाद नंदी हॉल, पीछे बने बैरिकेड्स में बैठे भक्तों पर पिचकारियों से रंग गुलाल उड़ाया जाता है।
mahakal (1)

Priyam Mishra



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ