पेन किलर लेते हैं तो पहले ये आर्टीकल पढ़ें..

पेन किलर लेने से पहले हो जाएँ सावधान..
पेन किलर बिना किसी सोच विचार के ले लेते हैं। आमतौर पर इन दवाओं को नॉन स्टेरॉयडल एंटी इन्फ्लामेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) कहा जाता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि इन दवाओं के उपयोग से 20 से 50 प्रतिशत तक हार्ट अटैक का जोखिम बढ़ जाता है।

ये भी पढ़ें.. रात में करेंगे यह उपाय तो Health रहेगी बरकरार


अधिकांश लोगों के लिए यह जोखिम 1 प्रतिशत से अधिक नहीं है क्योंकि वे इसे नियमित रूप से नहीं लेते हैं। कनाडा की मांट्रियल हॉस्पिटल रिसर्च सेंटर में एपिडेमिओलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ मिशेल बैली के अनुसार सामुदायिक स्वास्थ के दृष्टिकोण से पेनकिलर के अंधाधुंध उपयोग से उत्पन्न होने वाले जोखिम को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इन पेनकिलर्स से जुड़ा हार्ट अटैक का जोखिम केवल एक महीने तक लगातार ये दवाएं लेने से खड़ा हो सकता है। जैसे जैसे पेनकिलर्स का डोज बढ़ाएंगे वैसे वैसे हार्ट अटैक का जोखिम भी बढ़ता जाता है। 

ये भी पढ़ें.. Health के लिए बेहद फायदेमंद है भीगे हुए चने का पीना, जानें कैसे? | Chickpeas Water Benefits

ओवर द काउंटर पेनकिलर्स ऑथ्राइटिस या दूसरी तरह के जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए बहुतायत से इस्तेमाल की जाती हैं। कई मरीजों में इन दवाओं का उपयोग कई वर्षों तक जारी रहता है। चूंकि ये ओवर द काउंटर खरीदी जा सकती हैं इसलिए इनके साइड इफेक्ट्स के बारे में लोगों को पता नहीं होता है। कई महिलाएं कम समय के लिए मासिक धर्म के दौरान दर्द से राहत पाने के लिए लेती हैं। इसी तरह सर्दी जुकाम और फ्ल्यू के दौरान भी इन दवाओं का खुलकर उपयोग किया जाता है।

क्या हैं अन्य साइड इफेक्ट्स:

स्वस्थ वयस्कों द्वारा कभी कभी ओवर द काउंटर पेनकिलर्स लेने पर साइड इफेक्ट्स का जोखिम कम होता है। लेकिन कुछ वयस्कों में इन दवाओं के उपयोग से खतरे ज्यादा होते हैं। बच्चों और टीनएजर्स में इन दवाओं का जोखिम अधिक होता है। इसके अलावा जो लोग दो से अधिक तरह के पेनकिलर्स एक साथ इस्तेमाल करते हैं वे खुद के लिए खतरा मोल ले रहे हैं।

क्या करें:

सामान्य दर्द निवारक दवाओं के साइड इफेक्ट्स के जोखिम को देखते हुए यह प्रश्न खड़ा होना स्वाभाविक है कि ये दवाएं ले या नहीं। विशेषज्ञों का मानना है कि ओवर द काउंटर दर्द निवारक दवाओं का सेवन दर्द से मुक्ति के सभी उपाए कर चुकने के बाद ही करना चाहिए। दर्द से मुक्ति पाने के लिए बाम, सिकाइ, तेल मालिश आदि का सहारा लेना चाहिए। एस्प्रीन लेने से पहले ये सभी उपाए कर लेना चाहिए। एस्प्रीन जैसी निरापद समझी जाने वाली दवा भी पेट में अल्सर कर सकती है। जब बहुत तकलीफ में हों तो राहत पाने के लिए ओवर द काउंटर पेनकिलर्स् ले सकते हैं लेकिन बहुत हल्का डोज लें और कम समय के लिए लें।

ये भी पढ़ें.. Health Tips: भोजन के तुरंत बाद खट्टी डकारें क्यों आती हैं, जानिए वजह और उपचार.. 

ये हो सकती हैं समस्याएं:

1. अस्थमा

2. रक्तस्राव

3. ब्लड क्लॉटिंग डिस्आर्डर

4. सांस की समस्या

5. डायबिटीज

6. प्रोस्टेट बढ़ी हुई हो

7. मिर्गी का दौरा

8. ग्लूकोमा

9. गठिया

10. हार्ट डिसीज

11. हाई ब्लड प्रेशर

12. इम्युन सिस्टम प्रॉब्लम्स

13. किडनी प्रॉब्लम्स

14. लिवर प्रॉब्लम्स

15. पार्किन्सोन्स डिसीज

16. सायकियाट्रिक प्रॉब्लम्स

17. थायरॉयड प्रॉब्लम्स


EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ