पाकिस्तान से शांति वार्ता करें लेकिन जख्मों को याद रखें।

पाकिस्तान से शांति वार्ता करें लेकिन जख्मों को याद रखें।
पाकिस्तान से शांति वार्ता का माहौल बनाया जा रहा है| पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और सेना प्रमुख ने शांति वार्ता का प्रस्ताव दिया था लेकिन भारत ने उसे नामंजूर कर दिया था| फिर भारत के मुस्लिम मित्र देशों ने मध्यस्थता की पहल कर पाकिस्तान को झुका कर भारत से वार्ता के लिए तैयार किया|

भारत के प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान दे पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को बधाई पत्र भेजा। यह भी खबर आ रही है शांति वार्ता प्रयासों के अंतर्गत भारतीय सेना पाकिस्तान सेना के साथ संयुक्त प्रशिक्षण कर सकती है। भारत तो सदैव शांति का पक्षधर रहा है, पड़ोसी देशों के साथ अच्छे संबंध भारत के नीति रही है, भारत वसुधैव कुटुंबकम को राजधर्म मानता रहा है।

कोरोना वैक्सीन के मामले में भी भारत में दुनिया के देशों के साथ जो मित्रता निभाई है वह भी भारत इसी सोच का परिणाम है। पाकिस्तान ने अपने जन्म के साथ ही भारत को कष्ट ही कष्ट दिए हैं। धर्म के आधार पर बने पाकिस्तान ने अनावश्यक रूप से कश्मीर पर विवाद पैदा किया।

साम दाम दंड भेद सभी तरीके अपनाकर पाकिस्तान में हमेशा भारत को अस्थिर करने की कोशिश की। चाहे पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी गतिविधियां हो या कश्मीर में घुसपैठ हो, पाकिस्तान ने हमेशा भारत की सीने में खंजर ही भोपा है।

ऐसी परिस्थितियों के बावजूद भारत में हमेशा शांति सद्भाव और अच्छे पड़ोसी होने के लिए पहल की है। पाकिस्तान युद्ध में भारत का मुकाबला ना पहले कभी कर सकता था ना आगे कभी कर सकता है|
india-pakistan newspuran
लेकिन पाकिस्तान तो अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत का विरोध और भारत के विरोधियों के साथ जोड़कर भारत को कमजोर करने में कोई कसर नहीं छोड़ता। भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई शांति वार्ता के लिए लाहौर तक बस से गए, लेकिन पाकिस्तान में उसके बदले शांति नहीं बल्कि कारगिल का युद्ध भारत के सिर पर थोपा।

वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के घर विवाह समारोह में शामिल होने के लिए पहुंचे। मोदी तो जब पहली बार प्रधानमंत्री की शपथ ले रहे थे तब से ही शांति के प्रयास करते दिखाई दिए| शपथ समारोह में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को आमंत्रित किया गया।

इस सब के बदले भारत को क्या मिला?

पाकिस्तान ने प्रायोजित आतंकवाद में भारत को कितना नुकसान पहुंचाया है। मजबूरन सबक सिखाने के लिए भारत को सर्जिकल स्ट्राइक करना पड़ी। बॉर्डर पर सीजफायर का उल्लंघन पाकिस्तान की आदत बनी हुई है, कश्मीर कश्मीर का राग अलापे बिना तो शायद पाकिस्तानियों को खाना हजम नहीं होता|

पाकिस्तान चीन के साथ मिलकर भारत की परेशानियां बढ़ाने का काम सोच समझकर करता है। कश्मीर में जब धारा 370 हटाई गई थी तब पाकिस्तान में कैसे इसे अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाने की नाकाम कोशिश की थी|

ऐसा लगता है पाकिस्तानी हुकूमत शायद भारत विरोध पर ही चलती है| कोरोना वैक्सीन के मामले में चीन ने जिस ढंग से धोखा दिया और पाकिस्तान दुनिया में अलग-थलग पड़ने लगा, तब फिर उसे भारत से शांति वार्ता का मार्ग दिखाई पड़ा। भारत तो चंदन जैसा है पाकिस्तान जैसे सर्प के लिपटने पर भी उसे सुगंध देता है| भारत शांति वार्ता करे, पड़ोसी को हर संभव सहयोग करे, इसमें कोई बुराई नहीं है, लेकिन पाकिस्तान का जो इतिहास है वह धोखे से भरा हुआ है| पाकिस्तान एक तरफ बात करता है दूसरी तरफ से खंजर भोंक देता है| भारत को हमेशा पाकिस्तान की शरारत को ध्यान रखना होगा।

कोई भी वार्ता हो पाक अधिकृत कश्मीर भारत का हिस्सा है और उसे भारत को अपने कब्जे में लेने का मुद्दा सबसे पहले वार्ता में उठाना चाहिए। भारत ने पिछले वर्षों में देश में हुई आतंकवादी घटनाओं में शामिल पाकिस्तान के आतंकवादियों के डोजियर पाकिस्तान सरकार को दिए हैं, पहले उन आतंकवादियों पर वार्ता होनी चाहिए| पाकिस्तान इन्हें भारत को सौंपे।

कोई दोस्त जब मजबूरी में सरेंडर हो तो उसकी नियत देखना बहुत जरूरी है| इसलिए पुराने अपराधों को माफ करने की बजाय उन पर बातचीत करना जरूरी है, ताकि पाकिस्तान आगे कोई ऐसी हिमाकत नहीं कर पाए| भारत की वर्तमान सरकार राष्ट्रीयता और राष्ट्र की संप्रभुता के लिए समर्पित है, इसलिए पाकिस्तान बातचीत के नाम पर कोई धोखाधड़ी कर पाएगा ऐसा संभव नहीं लगता|

Priyam Mishra



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ