गुड न्यूज़ Corona Vaccine  अपडेट : लोगों को जल्द से जल्द से मिल सकती है वैक्‍सीन, रूस के बाद चीन से भी आई अच्छी खबर

गुड न्यूज़ Corona Vaccine  अपडेट : लोगों को  जल्द से जल्द से मिल सकती है वैक्‍सीन, रूस के बाद चीन से भी आई अच्छी खबर

India's COVID-19 vaccine: When will mass production start and who will get it first?

कोविड-19 vaccine latest news updates: 

रूस ने कोरोना वायरस वैक्‍सीन(कोविड-19 टीका) (Russia Covid vaccine) का पहला बैच तैयार कर लिया है। वहीं, चीन ने भी इस दिशा में तेजी से कदम उठाया है,  चीन की CanSino की वैक्‍सीन को पेटेंट दे दिया है।

Corona Vaccine LIVE अपडेट: 

India eyes global front runners in Covid-19 vaccine plan

कोरोनावायरस(कोविड-19) की वैक्‍सीन (Covid-19 vaccine, टीका) की रेस में रूस के बाद चीन भी  आगे निकलता दिख रहा है। 

वैश्विक स्‍तर पर दोनों देशों की वैक्‍सीन को भले ही  मान्यता न मिली हो, मगर  अंदरूनी तौर पर दोनों वैक्‍सीन प्रॉडक्‍शन की ओर बढ़ चुकी हैं। 

सूत्रों के मुताबिक रूस ने जहां अपनी वैक्‍सीन Sputnik V का पहला बैच तैयार कर लिया है। 

वहीं  चाइना ने  अपने देश की कंपनी CanSino Biologics Inc को उसकी वैक्‍सीन Ad5-nCOV के लिए पेटेंट दे दिया है। 

जाहिर है चीन रूस से पीछे नहीं देखना चाहता इसलिए रूस के बाद चीन में भी वैक्‍सीन को हरी झंडी दे दी गई है। 

इधरवर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गनाइजेशन  (डब्ल्यूएचओ)का कहना है कि कोरोना वैक्‍सीन तैयार होने में साल भर का वक्‍त और लग सकता है।

Coronavirus India & World Live Updates

Coronaखबर है कि यूनाइटेड किंगडम में भी कोरोना वैक्सीन को लेकर तेजी से कवायद चल रही है|  यूके(यूनाइटेड किंगडम) में कोरोना वायरस वैक्‍सीन ( कोविड-19 टीका) ट्रायल के लिए करीब एक लाख लोगों ने रुचि दिखाई है। 

यूनाइटेड किंगडम के वैक्‍सीन टास्‍क फोर्स के चीफ केट बिंघम ने कहा, "अगर हमें जल्‍दी वैक्‍सीन खोजनी है तो अलग-अलग बैकग्राउंड्स के कई और लोगों की जरूरत होगी।  यूके के शोधकर्ताओं ने 65 साल से ज्‍यादा उम्र वाले अश्‍वेत,  अलग-अलग वर्ग से एशियाई और अल्‍पसंख्‍यक प्रष्ठ भूमि वाले लोगों से आगे आने की अपील की है।

हालांकि भारत और चीन के बीच तनातनी चल रही है लेकिन  कोरोना के मामले में वैक्सीन आने की खबरें कहीं से भी आए लोगों को सांत्वना जरूर मिलती है, चीन की वैक्‍सीन  बनाने में महारथ रखने वाली कंपनी CanSino Biologics Inc को उसकी कोविड वैक्‍सीन Ad5-nCOV के लिए पेटेंट अप्रूवल मिल गया है। 

चीन के सरकारी मीडिया के  मुताबिक यह देश की पहली वैक्‍सीन है जिसे पेटेंट मिला है। 

CanSino की वैक्‍सीन(टीका) सर्दी-जुकाम के वायरस का एक मॉडिफाइड, अपग्रेडेड वर्जन है जिसमें नए कोरोना वायरस का जेनेटिक मटेरियल  डाला गया है। ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी-अस्‍त्राजेनेका की वैक्‍सीन(टीका) में भी इसी तरीके का इस्‍तेमाल किया गया है।
भले ही रूस की वैक्सीन को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत ज्यादा उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया ना आई हो लेकिन रूस इस मामले में तेजी से आगे बढ़ रहा है|

रूसी कोविड-19( कोरोनावायरस) वैक्‍सीन Sputnik V का पहला बैच तैयार हो गया है।

रूस के हेल्थ डिपार्टमेंट के अनुसार इस महीने के आखिर तक यह वैक्‍सीन इस्‍तेमाल के लिए उपलब्‍ध होगी। 

गौरतलब है कि रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन पहले ही दावा कर चुके हैं कि वैक्‍सीन पूरी तरह सेफ है और उनकी एक बेटी को भी टीका लगा है। 

भारत में भी जल्द ही रूसी वैक्सीन उपलब्ध हो सकती है इस टीके के भारत में उत्‍पादन के लिए कई कंपनियों से बातचीत चल रही है। 

सूत्रों के मुताबिक रशियन डायरेक्‍ट इनवेस्‍टमेंट फंड (RDIF) की कई भारतीय फार्मा कंपनियों से बातचीत जारी है।  रूस भारत का करीबी मित्र माना जाता है इसलिए भारत को अपनी मित्रता के कारण रूस समय से पहले ही इस व्यक्ति को लेकर सकारात्मक सहायता देने की योजना बना रहा है| 

खबर है कि रूस ने पांच देशों में हर साल 500 मिलियन डोज तैयार करने का प्‍लान बनाया है।  रूस सरकार की भारत के अलावा कोरिया और ब्राजील से भी बात हो रही है।

दुनिया के कई देश वैक्सीन को लेकर भले ही बहुत तेजी से कदम आगे बढ़ा रहे हैं लेकिन डब्ल्यूएचओ अपना पुराना राग अलाप रहा है| 

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) की चीफ साइंटिस्‍ट सौम्‍या स्‍वामीनाथन ने कहा है कि भारत में वैक्‍सीन का ट्रायल अभी पहले फेज में ही है। 

स्वामीनाथन का दावा है कि वैक्‍सीन फाइनल होने में कम से कम एक साल लगेगा।  हम आपको बता दें कि "भारत में अलग-अलग कंपनियां 8 वैक्‍सीन डेवलप कर रही हैं।  अमूमन वैक्‍सीन डेवलप करने में पांच से 10 साल का  समय लगता है मगर महामारी के चलते अभी कम से कम डेढ़ साल का  टाइम लगेगा।" WHO के  मुताबिक अभी तक  प्रोडक्शन के स्‍तर पर कोई वैक्‍सीन नहीं आई है। रूस की वैक्‍सीन को भी पर्याप्‍त डेटा न होने के चलते WHO खारिज कर चुका है।




हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ