कृषि पुराण: अब ड्रोन का इस्तेमाल कृषि में भी किया जा सकता है, जानें कौन उड़ा सकता है ड्रोन और क्या हैं नियम ?

कृषि पुराण : अब ड्रोन का इस्तेमाल कृषि में भी किया जा सकता है, जानें कौन उड़ा सकता है ड्रोन और क्या हैं नियम ?
ड्रोन अब कृषि के लिए महत्वपूर्ण हो जाएंगे। ड्रोन से मैनपावर की जरूरत कम होगी। साथ ही ड्रोन के उपयोग से इस्तेमाल होने वाले पानी और रसायनों की मात्रा में कमी आएगी। ड्रोन का इस्तेमाल अब कृषि में भी किया जा रहा है। हमारे कृषि वैज्ञानिक भी कृषि में ड्रोन के इस्तेमाल की संभावना तलाश रहे हैं। कई जगहों पर खेती पर नजर रखने के लिए ड्रोन का भी इस्तेमाल किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें..कृषि पुराण: मेगा फूड पार्क: क्या है मेगा फूड पार्क योजना, किसानों को कैसे होगा फायदा?

ड्रोन 3
देश के किसान खेती के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर सकेंगे। इसके लिए केंद्रीय कृषि मंत्रालय की ओर से गाइडलाइंस जारी की गई है। ड्रोन का उपयोग करने के लिए मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) की भी घोषणा की गई है। फसलों की रक्षा के साथ ड्रोन द्वारा कीटनाशकों का उपयोग किया जा सकता है। कृषि, वानिकी, गैर-फसल क्षेत्रों आदि में फसलों पर ड्रोन से  छिड़काव किया जा सकता है। 

निदेशालय द्वारा कीटनाशक अधिनियम 1968 (नियम 43) और गारंटी के लिए कीटनाशक नियम (97) के प्रावधानों के तहत ड्रोन की एसओपी तैयार की गई है।

भारतीय कृषि ने एक लंबा सफर तय किया है और किसानों द्वारा अनुसंधान और नई तकनीकों को अपनाने से लाभान्वित हुआ है। भारत में कृषि के लिए ड्रिप सिंचाई और विभिन्न प्रकार की मशीनों का उपयोग किया जा रहा है। ड्रोन अब कृषि के लिए महत्वपूर्ण हो जाएंगे।

ये भी पढ़ें..किसान सारथी : किसानों को केंद्र सरकार बड़ा तोहफा, होंगे कई फायदे

ड्रोन 1
ड्रोन से मैनपावर की जरूरत कम होगी। साथ ही ड्रोन के इस्तेमाल से इस्तेमाल होने वाले पानी और रसायनों की मात्रा में कमी आएगी। यदि कोई व्यक्ति अपने खेत में कीटनाशकों का छिड़काव करने के लिए ड्रोन का उपयोग करना चाहता है, तो उसे 24 घंटे पहले संबंधित अधिकारियों को सूचित करना होगा।

दिशा निर्देश क्या है :-

क्षेत्र को चिह्नित करने की जिम्मेदारी ऑपरेटर की होगी। केवल अनुमोदित कीटनाशकों और उनके फॉर्मूलेशन का उपयोग कर सकेंगे।

1. ड्रोन को निर्धारित ऊंचाई से ऊपर उड़ने की अनुमति नहीं है।

2. प्रशासकों द्वारा प्राथमिक चिकित्सा की सुविधा प्रदान की जाएगी।

3. सभी हवाई संचालन में आसपास के लोगों को कम से कम 24 घंटे पहले सूचित किया जाना चाहिए।

4. अधिकारियों को इस संबंध में 24 घंटे पहले सूचित करना होगा।

5. जानवरों और लोगों को छिड़काव क्षेत्र में प्रवेश करने से रोका जाएगा।

6. कीटनाशकों के प्रभाव को कवर करने के लिए पायलटों को प्रशिक्षित किया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें.. भारत के किसानों की आय होगी दोगुनी, इजरायली विशेषज्ञ देंगे हाईटेक खेती में प्रशिक्षण

ड्रोन
डीजीसीए द्वारा जारी दिशा-निर्देश :-

1- सुनिश्चित करें कि आपका ड्रोन (50 फीट तक अप्रतिबंधित हवाई क्षेत्र में नैनो को छोड़कर) डिजिटाइज़र स्काई "नो परमिशन - नो टेक ऑफ" (एनपीएनटी) का अनुपालन करता है।

2- नियंत्रित हवाई क्षेत्र में काम करने के लिए डीजीसीए से विशिष्ट पहचान संख्या (यूएलएन) प्राप्त करें और इसे अपने ड्रोन में संलग्न करें।

3- ड्रोन का इस्तेमाल दिन में ही करें।

4- एयरपोर्ट और हेलीपैड के पास ड्रोन न उड़ाएं।

5- बिना अनुमति के निजी संपत्ति पर ड्रोन न उड़ाएं।

6- केवल DGCA प्रमाणित पायलटों को कृषि ड्रोन उड़ाने की अनुमति होगी।

 

 

 

EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ