क्या केवल धन आपको सुख दे सकता है? -आचार्य सरयूनंदन

क्या केवल धन आपको सुख दे सकता है?

गलत कमाई अंततः दुःख ही देती है

आचार्य सरयूनंदन
Money Newspuran 1सुख की तलाश में आज व्यक्ति धर्म अधर्म नीति सब भूलकर एक ही दौड़ में लगा हुआ है कि धन कमाना है और सुख प्राप्त करना है| धन कमाने की इच्छा में इंसान ऐसे ऐसे मार्ग अपना रहा है जिनसे अर्जित धन दुख का कारण बनते हैं| 

इंसान सुबह शाम एक ही प्रयास में लगा रहता है कि कहां से धन प्राप्त हो उसके प्रयास मैं भले ही किसी गरीब का नुकसान हो रहा हो समाज का अहित हो रहा हो| इंसान धन की लालसा में सोच ही नहीं पाता कि उसे जो धन मिल रहा है वह सही मार्ग से नहीं मिल रहा है|

 किसी को भी देखे चाहे वह व्यापारी हो चाहे वह नेता हो चाहे वह अधिकारी हो सब कट मनी और कमीशन के खेल से धन कमाने में लगे हुए है| कलयुग के इस दौर में धन कमाने के लिए दूसरे की जान तक दांव पर लगा रहे हैं|

 मिलावट खोरी को ही देख लीजिए खाने पीने की चीजों तक में मिलावट हो रही है दूध में यूरिया मिलाया जा रहा है जीवन के लिए जरूरी खाद्यान्न दवाएं और अन्य वस्तुएं मिलावट का धंधा बनकर कमाई का जरिया बन गई है| 

Money Newspuran 2सबसे बड़ा आश्चर्य देखिए कि जो लोग यह सब करके धन कमा रहे हैं कई बार दुर्भाग्य से उनके परिवार को ही मिलावट के इस धंधे के कारण विनाश लीला देखनी पड़ती है उन्हीं के परिवार के लोग किडनी, हार्ट जैसी बीमारी के शिकार होते हैं जो मिलावटी सामान का उपयोग करने के कारण हो रही है लेकिन धन कमाने में अंधा इंसान अज्ञान के अंधेरे में ऐसा फंसा हुआ है| 

उसे कुछ दिखाई नहीं पड़ रहा है| यह सत्य है कि धन जीवन यापन के लिए आवश्यक है लेकिन कानून का उल्लंघन कर धन कमाना दूसरों का धन हड़प लेना लूट चोरी और जुआ से धन कमाना कभी न कभी इंसान को दुख जरूर देता है धन की देवी लक्ष्मी वैसे तो किसी को भी भूखा नहीं सोने देती लेकिन धन लोलुप लोगों को कई बार धन होने के बाद भी सुख नहीं देती| 

कर्म, भाग्य और प्रारंभ तो साथ चलता ही रहता है कई बार हमने देखा है कि धनवान व्यक्ति के परिवार से ही खुशियां अचानक गायब होने लगते हैं ऐसा व्यक्ति समझ नहीं पाता कि ऐसा क्यों हो रहा है जो दुख आ रहे हैं उनका मूल कारण क्या है| शायद इनका कारण गलत तरीकों से कमाया गया धन है| बच्चों और परिवार के लिए धन जोड़ने के उद्देश्य से गलत रास्ते पर चलना ना तो आपका और ना ही आपके बच्चों का भविष्य बेहतर बनाएगा|

Money Newspuran 3
हर व्यक्ति का अपना कर्म है अपना भाग्य है अपना प्रारब्ध है अगर उसके कर्म अच्छे नहीं हैं तो आपके धन जोड़ने से भी उसको सुख नहीं मिलेगा एक और बात जो ध्यान रखने की है कि धन से बहुत सी खुशियां तो आप खरीद सकते हैं लेकिन सभी खुशियां नहीं खरीद सकते हैं| 

आपका बच्चा बुद्धिहीन है उसमें पढ़ने की रुचि नहीं है तो क्या आप धन से पढने की ललक खरीद सकते हैं| कई धनवान गृह कलह से मिट जाते हैं| धन कमाए लेकिन सही रास्ते से कानून सम्मत ढंग से और अच्छे संस्कार के साथ| धन से ज्यादा बच्चों में संस्कार उसे सुखी और आनंद दे सकते हैं|

Priyam Mishra



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ