देश में ही बनेगी दवाएं,  56 प्रमुख दवाओं पर चीन की निर्भरता घटेगी..

देश में ही बनेगी दवाएं,  56 प्रमुख दवाओं पर चीन की निर्भरता घटेगी..
इलेक्ट्रॉनिक्स सहित कई प्रोडक्ट्स में भारत-चीन पर निर्भर है| लेकिन दवाओं में भी भारत चीन पर निर्भर है| भारत सरकार ने ऐसी 56 दवाओं की लिस्ट प्रिपेयर की है जो आने वाले समय में देश में ही बनाई जाएंगी| भारत की वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद सीएसआईआर देश को दवाओं के मामले में आत्मनिर्भर बनाने के लिए कदम उठाने में जुट गई है|




सीएसआईआर वो केमिकल्स बनाएगी जो दवाओं के मुख्य इनग्रेडिएंट्स होते हैं| कोयला और पेट्रोलियम मंत्रालय के साथ मिलकर सीएसआईआर ने वो केमिकल्स बनाने शुरू कर दिए हैं जो गई दवाओं में मिलाए जाते हैं| दरअसल भारत एपीआईएस(Active Pharmaceutical Ingredient) के लिए चीन पर निर्भर है| भारत के औषधि डिपार्टमेंट ने 56 एपीआईएस(Active Pharmaceutical Ingredient) की एक लिस्ट बनाई है ताकि यह दवाएं भारत में ही निर्मित की जा सके|



भले ही भारत में कुछ दवाएं बनाई जाती हों लेकिन उनके लिए एपीआईएस(Active Pharmaceutical Ingredient) बाहर से मंगाना पड़ता है| एंटीबायोटिक एंड एचआईवी और अन्य महत्वपूर्ण दबाए जैसे पेरासिटामोल के लिए भी हमें दूसरे देशों पर निर्भर होना पड़ता है| भारत सरकार ऐसे उत्पादों के लिए उत्पादन आधारित प्रोत्साहन नीति पर भी काम कर रही है|


पेट्रोलियम और कोयला उद्योग का इस मामले में महत्व बढ़ जाता है दरअसल कार्बन कंपाउंड्स दवा निर्माण का बेस होते हैं| सरकार की कोशिश है कि इन 56 एपीआईएस(Active Pharmaceutical Ingredient) का शुरू से आखिर तक प्रोडक्शन किया जाए| दोनों मंत्रालय कार्बन कंपाउंड और शीशे के प्रोडक्शन से जुड़े हुए हैं| इनमें ऐसे कंपाउंड्स होते हैं जिन्हें शुद्ध करके इस्तेमाल किया जा सकता है|


भारत सरकार को उम्मीद है कि अगले दो-तीन सालों में 10 से 12 एपीआईएस(Active Pharmaceutical Ingredient) भारत में निर्मित होने लगेंगे | पहले चरण में भारत सरकार 30 सामग्रियों पर जोर दे रही है| आपको बता दें कि इंडिया करीब 66% एपीआईएस(Active Pharmaceutical Ingredient) चीन से इंपोर्ट करता है| दवाओं के लिए कच्चे माल के लिए हम चीन पर इतने निर्भर हैं कि हम एकदम से चीन से आयात बंद नहीं कर सकते| भारत और चीन के बीच चले गतिरोध ने भारत को इस मामले में त्वरित कदम उठाने के लिए प्रेरित किया है| भारत यह सामग्री अन्य देशों से भी आयात करता है|


 

Latest Hindi News के लिए जुड़े रहिये News Puran से

EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ