रिटायर्ड अफसरों और कर्मचारियों की वन विकास निगम करने जा रही पिछले दरवाजे से नियुक्तियां

रिटायर्ड अफसरों और कर्मचारियों की वन विकास निगम करने जा रही पिछले दरवाजे से नियुक्तियां

Ganesh Pandey

Ganesh Panday
न संचालक मंडल से अनुमति न ही शासन से ली एनओसी
भोपाल. राज्य सरकार में नई नियुक्तियों पर रोक है. नई भर्ती पर लगे प्रतिबंध के कारण अब वन विकास निगम जंगल महकमे और निगम के रिटायर्ड अधिकारियों-कर्मचारियों जॉब दर से 291 पदों पर नियुक्त करने जा रही है. इसका इंटरव्यू 15 और 16 सितंबर को आहूत की गई है. रिटायर्ड अफसरों और कर्मचारियों की नियुक्ति के फैसले पर वन विकास निगम के संचालक मंडल की मुहर नहीं लगी है. यही नहीं राज्य शासन से एनओसी भी नहीं ली गई.

forest laws
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 291 पदों पर सेवानिवृत्त एसडीओ से लेकर फॉरेस्ट गार्ड और बाबू तक की नियुक्ति की जाएगी. वन विकास निगम ने नियुक्ति के लिए अखबारों में इश्तहार भी दिए थे. निगम सूत्रों ने बताया कि विज्ञापन प्रकाशित करने से पहले वन मंत्री एवं निगम के अध्यक्ष विजय शाह को विश्वास में नहीं लिया गया. वन मंत्री ने नाराजगी जताई और निगम के आला अफसरों ने उन्हें मना भी लिया. अब 15 और 16 सितंबर को इंटरव्यू का दिन मुकर्रर किया गया है. ये नियुक्तियां भोपाल, सिवनी और जबलपुर क्षेत्रीय कार्यालय में की जाएगी. बताया जाता है कि वन विकास निगम में फील्ड से लेकर ऑफिस तक में 50% अधिकारियों एवं कर्मचारियों के पद रिक्त पड़े हैं. निगम ने सीधी भर्ती के लिए शासन से अनुमति मांगी थी किंतु नहीं मिलने के बाद अब जब घर से नियुक्तियां की जा रही है. दिलचस्प पहलू यह है कि वन विकास निगम में अधिकारियों की भरमार होने के भी भोपाल और सिवनी क्षेत्रीय कार्यालय के लिए सुदीप सिंह को नियुक्ति कमेटी का क्या बनाया गया है. जंगल महकमे से लेकर वन विकास निगम मुख्यालय तक यह चर्चा सुर्खियों में है कि 15 और 16 सितंबर को साक्षात्कार महज औपचारिकता है. नियुक्त किए जाने संबंधित रिटायर्ड अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सूची पहले से ही बन गई है.

*किसी को नहीं मिली मांगी मुराद किसी को दो-दो प्रभार*

अक्सर मांगी मुराद बहुत कमी पूरी होती है. ऐसा ही कुछ वाकिया वन विकास निगम में भी हुआ है. अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक यूके सुबुद्धि भोपाल आरजीएम के पद पर बने रहना चाहते थे पर उनका तबादला बांस मिशन में कर दिया गया. इसी प्रकार निगम में पदस्थ अपर प्रबंध संचालक प्रशासन रेनू सिंह ने अपने मेडिकल ग्राउंड पर सिवनी आरजीएम के पद पर पदस्थापना चाही थी. उन्हें इस पद पर पदस्थ नहीं किया गया. यह बात अलग है कि वे आज भी सिवनी आरजीएम कार्यालय में बैठकर प्रशासनिक कार्य का निपटान करती हैं. वहीं अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक सुदीप सिंह भोपाल और सिवनी क्षेत्रीय महाप्रबंधक पद पर पदस्थ हैं. यानी बिना मांगे ही सिंह को दो-दो क्षेत्रीय कार्यालय का महाप्रबंधक पद पर बने हुए हैं.

*इनका कहना*

4 साल पहले ही संचालक मंडल से रिक्त पदों पर जॉब दर पर भरने के लिए अनुमति ले ली गई थी. पूर्व में गुपचुप तरीके से नियुक्तियां होती रही, इसलिए कोई चर्चा नहीं हुई. हम विज्ञापन प्रकाशित कर पारदर्शी तरीके से नियुक्ति कर रहे हैं तो कुछ लोगों को दिक्कत हो रही है. नियुक्त होने वाले सेवानिवृत्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों को वित्तीय अधिकार नहीं होगा.

*एके पाटिल,* प्रबंध संचालक वन विकास निगम

 

EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ