मुकेश अम्बानी को धमकी मामला- साधन नही, लक्ष्य और कनेक्शन की जाँच जरुरी: सरयूसुत मिश्रा       

मुकेश अम्बानी को धमकी मामला- साधन नही, लक्ष्य और कनेक्शन की जाँच जरुरी: सरयूसुत मिश्रा
HomeMinisterदेश की आर्थिक राजधानी मुंबई इन दिनों ऐसी विवाद में फस गई है जहां उसके पुलिस कमिश्नर रहे अधिकारी ने मुंबई में हफ्ता वसूली के लिए सरकार को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है| देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी मुंबई के गौरव हैं लेकिन उन्हें भी हफ्ता वसूली के लिए चुना जाना आर्थिक राजधानी को हिला कर रख दिया है मुंबई में लाखों की संख्या में उद्योगपति है जब सबसे बड़े उद्योगपति पर ही इस तरह की साजिश की गई तो फिर छोटे-मोटे उद्योगपतियों की तो बात ही क्या है पूर्व पुलिस कमिश्नर कह रहे हैं कि गृहमंत्री उनके अधीनस्थ अधिकारियों को बुलाकर सीधे निर्देश देते हैं और उन्हें हफ्ता वसूली का महीने का टारगेट भी देते हैं वह अधिकारी हमें गृह मंत्री के निर्देश बताते थे मैंने समय-समय पर मुख्यमंत्री उपमुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता शरद पवार को ब्रीफिंग में यह सारे मामले बताता रहा हूं|

मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के सामने स्कॉर्पियो खड़ी करना उस में विस्फोटक रखना उसकी जांच खुद अपने हाथ में लेना यह सब पुलिस इंस्पेक्टर सचिन बाजे की साजिश थी क्या यह साजिश वह अकेले कर सकता है लगता है कि यह संभव नहीं है और अब तो पूर्व कमिश्नर के पत्र से यह जाहिर हो गया है कि बड़ी राशि की हफ्ता वसूली के लिए यह कांड रचा गया था, इसमें आतंकवादी धमकी बताने के लिए एक पत्र रखा गया था जब इसकी जांच सचिन बाजे ने शुरू की| महाराष्ट्र एटीएस ने भी जांच की प्रक्रिया में हाथ बढ़ाया लेकिन पुलिस की अंदरूनी राजनीति में उन्हें रोकने की कोशिश की गई लेकिन एटीएस के ए.डी.जी. जगजीत सिंह नहीं माने और उन्होंने जांच जारी रखें ऐसी बात देता है कि किसी भी राज्य की एटीएस जब कोई जांच करती है तो उसकी सूचना एनआईए को भी देना होती है क्योंकि यह संगठित अपराध होता है जो कई राज्यों से जुड़ा होता है इसी प्रक्रिया में एनआईए जांच में शामिल हो गई और सचिन बाजे का सारा षड्यंत्र खुल गया| महाराष्ट्र एटीएस ने यह भी कहा है कि मनसुख हीरेन की मौत का मामला भी उन्होंने सुलझा लिया है|

Sbaje & PSएटीएस ने दो पुलिस वालों को गिरफ्तार किया है जो सचिन बाजे के साथ पहले काम करते रहें| इस पूरे मामले में साजिश का मुख्य लक्ष्य मुकेश अंबानी को धमका कर वसूली करना था उसके लिए जो घटनाक्रम रचा गया, उसमें स्कॉर्पियो के मालिक और बाद में उनकी हत्या यह सब तो मुख्य लक्ष्य को पूरा करने के लिए किए गए प्रयास है यह जांच अगर अंतिम निष्कर्ष पर पहुंच भी जाती है कि सचिन बाजे ने सारा षड्यंत्र रचा वही इसके असली अपराधी हैं तब भी यह प्रश्न तो अनुत्तरित ही है कि मुकेश अंबानी को धमका कर वसूली करने के पीछे क्या साजिश थी उस में कौन कौन शामिल थे और यह भी प्रश्न खड़ा हो गया कि क्या महाराष्ट्र की पुलिस इस तरह के घटनाक्रम क्रिएट कर हफ्ता वसूली करते हैं प्रारंभिक रूप से पूर्व पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने अपने पत्र के माध्यम से यह बात बता दी है कि गृह मंत्री के निर्देश पर हर महीने हफ्ता वसूली की जाती रही है पूर्व कमिश्नर की बात विश्वास न की जाए इसका कोई कारण नहीं है क्योंकि जो कुछ दिन पहले मुंबई का पुलिस कमिश्नर था और जो आज भी महाराष्ट्र के होम गार्ड्स का डीजी है उसकी बात पर भरोसा कैसे न किया जाए|

Paramveer Singh IPSपूर्व पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने अपने पत्र में जो आरोप लगाए थे उन पर अड़े हुए हैं और आज एक और कदम उठाते हुए उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय में याचिका लगाई है कि अनिल देशमुख गृह मंत्री के विरुद्ध जांच सीबीआई से कराई जाए| एक सेवारत आईपीएस ऑफिसर इतनी दमदारी से अपनी बात रख रहा है फिर भी राजनेता सारे मामले पर लीपापोती करने की कोशिश कर रहे हैं पूर्व पुलिस कमिश्नर अपना सारा कैरियर दावं पर लगाए हुए हैं महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख को बचाने के लिए शरद पवार ने आज पत्रकार वार्ता की और यह कहा की पूर्व पुलिस कमिश्नर ने जो आरोप लगाया है वह गलत है उन्होंने नागपुर के अस्पताल का एक प्रमाण पत्र पत्रकारों को बताया कि अनिल देशमुख 5 फरवरी से 15 फरवरी तक नागपुर के अस्पताल में भर्ती थे और उसके बाद 15 दिनों तक मुंबई में घर पर आइसोलेट रहे शरद पवार का यह बचाव प्रेस कान्फ्रेंस चलते रहने के दौरान ही फुस्स हो गया| भाजपा की ओर से उसी दौरान एक वीडियो ट्वीट किया गया जिसमें यह दिखाया गया है कि अनिल देशमुख 15 फरवरी को मुंबई में एक पत्रकार वार्ता कर रहे हैं शरद पवार की बचाव की कोशिश वहीं पंचर हो गई|

MH Gov
यह पूरा घटनाक्रम अत्यंत गंभीर है देश और प्रदेश की शासन व्यवस्था पर सवाल उठा है जिनके ऊपर राज्य को और राज्य के लोगों को सुरक्षा और न्याय देने की जिम्मेदारी है अगर उसी तंत्र द्वारा वसूली के लिए साजिश रची जाए तो फिर लोग शासन व्यवस्था पर भरोसा क्यों करेंगे सवाल किसी सरकार का नहीं है सवाल जनता के विश्वास का है वैसे तो लोकतंत्र की असली मालिक जनता ही है मुकेश अंबानी को धमकी का यह मामला रोज नए नए मोड़ ले रहा है महाराष्ट्र की पूरी हिली हुई है विपक्ष के नाते भारतीय जनता पार्टी तो अपनी भूमिका निभा ही रही है लेकिन सत्ताधारी पार्टी के जितने घटक हैं उनमें जो असंतुष्ट लोग हैं वह भी अपनी भूमिका निभा रहे हैं महाराष्ट्र में उलटफेर के लिए जमीन तैयार हो गई है महाराष्ट्र में सरकार बदले या नहीं बदले लेकिन सरकार की पुलिस में अंडरवर्ल्ड जैसा काम जो सामने आया है उसने इस सरकार के वजूद को ही सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है इसका जवाब देना ही होगा भले ही उसके लिए महाराष्ट्र की लोकतांत्रिक सरकार को जाना ही पड़े|

Priyam Mishra



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ