Koo के नया फीचर :- भारतीय भाषाओं में बोलकर टाइप कर पाएंगे मैसेज

 Koo के नया फीचर :- भारतीय भाषाओं में बोलकर टाइप कर पाएंगे मैसेज

 ‘कू’ (Koo) एप  में एक नया फीचर जुड़ गया है, जिसके ज़रिए अब बोलकर अपना मैसेज भेज सकेंगे. इस नए फीचर का नाम ‘Talk to type’ रखा गया है, नए फीचर से अब यूज़र्स बोलकर मैसेज को टाइप कर पाएंगे. इस नए फीचर में  ख़ास बात ये है, देश की सभी रीजनल लेंग्वेज को सपोर्ट करता है. इसका मतलब ये है कि अब पोस्ट लिखने के लिए स्मार्टफोन पर टाइपिंग की ज़रूरत नहीं होगी.

 

Koo का कहना है कि ये फीचर उनके लिए बहुत काम का साबित होगा जिन्हें लोकल भाषा टाइप करने में परेशानी का सामने करना पड़ता है. और यूज़र सिर्फ बोल कर अपनी भाषा में टाइप कर सकते हैं. बहुत से ऐसे लोग हैं जिनको लिखने में परेशानी आती है वह भी इस फीचर का भरपूर फायेदा ले सकते हैं.

Koo पहला सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है जिसने इस फीचर को लॉन्च किया है. ये फीचर यूजर्स को फेसबुक, ट्विटर या किसी दूसरे ग्लोबल प्लेटफॉर्म पर नहीं मिलेगा.

ये ऐप अभी हिंदी, अंग्रेजी, कन्नड़, तेलुगु, तमिल, बंगाली और मराठी भाषाओं में वर्क करता है. कंपनी का कहना है कि इन सारी क्षेत्रीय भारतीय भाषाओं में ‘टॉक टू टाइप’ फीचर देने वाला ‘कू’ दुनिया का पहला सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है.

भारत सरकार के पिछले साल दिए गए चैलेंज आत्मनिर्भर भारत में Koo ऐप विनर बना था. Koo के को-फाउंडर Mayank Bidawatka ने कहा है ये फीचर भारत के क्रिएटर्स को ध्यान में रखकर बनाया गया है. जानकारी के लिए बता दें कि Koo को माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के तौर पर पिछले साल मार्च में लॉन्च किया गया था. Koo पर यूज़र किसी भी अनजान कू यूज़र को सन्देश नहीं भेज सकता हैं और अगर आपको किसी को मैसेज करना है तो आपको उनसे परमिशन लेनी होगी.

Rajesh Narbariya



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ