मोहन भागवत के ‘लिंचिग’ वाले बयान पर ओवैसी का पलटवार, कहा- नफ़रत हिंदुत्व की देन..

मोहन भागवत के ‘लिंचिग’ वाले बयान पर ओवैसी का पलटवार, कहा- नफ़रत हिंदुत्व की देन..

 

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने सभी भारतीयों का डीएनए समान होने पर जोर देते हुए कहा कि, लिंचिंग में शामिल लोग हिंदू विरोधी थे। उन्होंने मुस्लिम समुदाय से भी अपील की कि वह इस डर के जाल में न फंसे कि भारत में इस्लाम खतरे में है। मोहन भागवत नेशनल मुस्लिम फोरम द्वारा ‘पहले हिंदुस्तानी, हिंदुस्तान पहले’ विषय पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने अपने संबोधन में आगे कहा की पूजा-पद्धति के आधार पर लोगों में भेद नहीं किया जा सकता। लिंचिंग की घटना में शामिल लोग हिंदू विरोधी हैं। उन लोगों के खिलाफ कुछ आरोप भी लगाए गए हैं।

 

 

आगे कहा कि, मैंने कोई छवि बनाने या चुनाव की राजनीति तैयार करने के लिए कार्यक्रम में भाग नहीं लिया। टीम देश के सशक्तिकरण और समाज में सभी के कल्याण के लिए काम करती रहेगी। एकता के बिना देश का विकास संभव नहीं है। एकता का आधार राष्ट्रवाद और पूर्वजों की महिमा होनी चाहिए। हिंदू-मुस्लिम संघर्ष का एकमात्र समाधान बातचीत है,  विवाद नहीं। सभी भारतीयों का डीएनए एक जैसा है। तो उनका धर्म जो भी हो, हिंदू-मुस्लिम एकता की चर्चा भ्रामक है। क्योंकि वे अलग नहीं बल्कि एक हैं। हम एक लोकतांत्रिक देश में हैं। यहां कोई हिंदू या मुस्लिम वर्चस्व नहीं हो सकता। यहां केवल भारतीय ही हावी हो सकते हैं।

 

 

नफ़रत हिंदुत्व की देन : असदुद्दीन ओवैसी

 

असदुद्दीन ओवैसी ने मोहन भागवत के लिंचिंग बाले बयान पर पलटवार करते हुए अपने सोशल मीडिया अकाउंट से ट्विटी करते हुए लिखा” RSS के भागवत ने कहा “लिंचिंग करने वाले हिंदुत्व विरोधी”। इन अपराधियों को गाय और भैंस में फ़र्क़ नहीं पता होगा लेकिन क़त्ल करने के लिए जुनैद, अखलाक़, पहलू, रकबर, अलीमुद्दीन के नाम ही काफी थे। ये नफ़रत हिंदुत्व की ही देन है, इन मुजरिमों को हिंदुत्ववादी सरकार की पुश्त पनाही हासिल है।

 

 

अपने बयान में ओवैसी ने आगे कहा कि, केंद्रीय मंत्री के हाथों अलीमुद्दीन के कातिलों की गुलपोशी हो जाती है, अखलाक़ के हत्यारे की लाश पर तिरंगा लगाया जाता है, आसिफ़ को मारने वालों के समर्थन में महापंचायत बुलाई जाती है, जहाँ भाजपा का प्रवक्ता पूछता है कि “क्या हम मर्डर भी नहीं कर सकते ? कायरता, हिंसा और क़त्ल करना गोडसे की हिंदुत्व वाली सोंच का अटूट हिस्सा है। आज मुसलमानो की लिंचिंग भी इसी सोच का नतीजा है।

 

 

दिग्विजय सिंह ने भी दिया बयान 

 

 

दिग्विजय सिंह ने भी मोहन भागवत के बयान पर टिप्पणी करते हुए पूछा, ”क्या यह शिक्षा आप अपने शिष्यों, प्रचारकों, विश्व हिंदू परिषद / बजरंग दल कार्यकर्ताओं को भी देंगेक्या यह शिक्षा आप मोदी-शाह और बीजेपी के मुख्यमंत्री को भी देंगे ?” यदि आप अपने व्यक्त किए गए विचारों के प्रति ईमानदार हैं तो भाजपा में वे सब नेता जिन्होंने निर्दोष मुसलमानों को प्रताड़ित किया है उन्हें उनके पदों से तत्काल हटाने का निर्देश दें। शुरूआत नरेंद्र मोदी व योगी आदित्यनाथ से करें

 

 


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ