टेंशन में पाकिस्तान … भारत को कैसे मिली सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता 

टेंशन में पाकिस्तान … भारत को कैसे मिली सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता 

modi ji

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत को अध्यक्षता मिलना भारत के दुश्मन देशों को कैसे रास आ सकता है|

खास तौर पर चीन और पाकिस्तान भारत के ऐसे पड़ोसी मुल्क है जो भारत की तरक्की से कतई खुश नहीं हो सकते|

हालांकि दोनों देशों की तमाम अवरोधी कोशिशों के बावजूद भी भारत दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाने और अपने स्पष्ट इरादों के बल पर आगे बढ़ने में कामयाब रहा है|

इस बार फिर भारत के लिए गौरव की बात है कि उसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अध्यक्षता मिली है|

पाकिस्तान को तो मानो सांप ही सूंघ गया है हालांकि उसने सधी हुई प्रतिक्रिया दी है लेकिन भारत के बढ़ते कदमों से वह चिंतित हो गया है|

India ने रविवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभाली। भारत को अगस्त महीने के लिए यह जिम्मेदारी दी गई है।

भारत ने कहा है कि वह इस भूमिका में तीन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करेगा – समुद्री सुरक्षा, शांति प्रक्रिया और आतंकवाद के खिलाफ युद्ध।

भारत वर्तमान में दो साल के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का एक अस्थायी सदस्य है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पांच स्थायी सदस्य हैं – संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, यूनाइटेड किंगडम, रूस और फ्रांस।

स्थायी सदस्यों के पास वीटो पावर है। मतलब, पांच में से चार स्थायी सदस्य प्रस्ताव पारित करना चाहते हैं, लेकिन अगर एक सदस्य नहीं चाहता है, तो वह इसे वीटो कर सकता है और प्रस्ताव पारित नहीं होगा। 10 अस्थायी सदस्यों के पास यह शक्ति नहीं है।

भारत 1 जनवरी, 2021 को सुरक्षा परिषद का अस्थाई सदस्य बन गया। भारत की सदस्यता 31 दिसंबर, 2022 को समाप्त हो जाएगी, इस दौरान भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की दो बार अध्यक्षता करेगा।

भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता तब संभाली है, जब अमेरिकी सैनिक अफगानिस्तान से हट रहे हैं और तालिबान मजबूत होता जा रहा है। इसके साथ ही 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के दो साल पूरे होने जा रहे हैं.

दोनों मुद्दे पाकिस्तान सरकार के लिए बेहद अहम हैं और ऐसे में वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता करने के लिए भारत को अध्यक्षता मिलने से परेशान हो गया है. सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में से चीन हमेशा  एक रहा है। 

पाकिस्तानी अखबार डॉन ने लिखा है कि भारत की अध्यक्षता का मतलब है कि पाकिस्तान कश्मीर पर सुरक्षा परिषद की बैठक नहीं बुला पाएगा. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की अध्यक्षता पर पडौसी मुल्क पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय मंत्रालय के प्रवक्ता जाहिद हफीज चौधरी ने शनिवार को पाकिस्तानी मीडिया से बोला, “मुझे उम्मीद है कि भारत एक महीने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता करेगा। निष्पक्ष रूप से काम करेगा।” उन्होंने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि भारत नियमों के मुताबिक अपनी भूमिका निभाएगा।

पिछले दो वर्षों  जम्मू एवं कश्मीर की संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में तीन बार चर्चा की गई।

अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी इसी महीने पूरी हो जाएगी। ऐसे में अगस्त का महीना भी इस लिहाज से अहम है।

अगर अफगानिस्तान के बारे में कुछ महत्वपूर्ण है, तो संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की अध्यक्षता महत्वपूर्ण है। पाकिस्तान भारत को अफगानिस्तान में एक बाधा के रूप में देखता है। भारत ने आतंकवाद से जंग को भी अपने एजेंडे में रखा है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता पर कहा, “यह एक महान सम्मान है। हम इस महीने अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहे हैं। 

समुद्री सुरक्षा, शांति स्थापना और आतंकवाद विरोधी मुद्दों पर बैठकों के अलावा, भारत शांति सैनिकों की याद में एक कार्यक्रम भी आयोजित करेगा। 

वहीं भारत में फ्रांस के राजदूत इमैनुएल ने कहा  ” खुशी हुई कि भारत सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभाल रहा है। हम भारत के साथ समुद्री सुरक्षा, शांति और आतंकवाद का मुकाबला करने जैसे रणनीतिक मुद्दों पर काम करने और आज कई मौजूदा संकटों से निपटने के लिए एक सैद्धांतिक, बहुआयामी प्रणाली को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

 

#SecurityCouncil

#VasudhaivaKutumbakam

#IndiainUNSC

@IndiaUNNewYork, india, @MEAIndia, @IndiaUNNewYork, @UN,

EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ