पैनिक बीमारी (Panic Disorder) की पहचान : Panic attacks and panic disorder

पैनिक बीमारी (Panic Disorder) की पहचान : Panic attacks and panic disorder
पैनिक बीमारी को चिन्ता प्रधान मन:स्ताप (एन्जाइटी न्यूरोसीस) नाम से पहचाने जाने वाले रोग समूह से अलग करके उसे चिन्ताजन्य रोगों की उपश्रेणी में रखा गया है। पैनिक बीमारी एक ऐसी स्थिति है जो लोगों में बार-बार अचानक तीव्र चिन्ता या डर के दौरे का कारण होती हैं। अचानक घबराहट के दौरे वाला प्रत्येक व्यक्ति Panic attacks and panic disorder का रोगी नहीं होता।

Panic Disorder

ये भी पढ़ें...पैनिक अटैक: जाने कहीं आपको दहशत के दौरे तो नहीं पड़ते ?


पैनिक बीमारी (अचानक तीव्र चिन्ता या घबराहट का रोग) अक्सर अन्य स्थितियों के साथ भी होता है जैसे कि अवसाद (डिप्रेशन), सामान्य चिन्ता (एन्जाइटी), बसता अधि (ओ.सी.डी.) और शराब व नशीले पदार्थों का सेवन (आल्कोहोलीज़म और ड्रग एब्युझ)। यह अकारण भय (फोबिया) भी पैदा कर सकती है, जो उन स्थानों या स्थितियों में होता है जहाँ पहले घबराहट (पैनिक) का दौरा आया होता है।


उदाहरणार्थ: यदि घबराहट का दौरा लिफ्ट की सवारी के दौरान आया हो तो व्यक्ति लिफ्ट से डरने लगेगा और शायद उन्हें चालू करने को भी टालेगा। वैज्ञानिक शोधों ने Panic attacks and panic disorder (अचानक तीव्र चिन्ता या धबराहट की बीमारी) और डिप्रेशन (अवसाद) के बीच संबंध बताया है। पैनिक बीमारी वाले ५०% से ६५% लोगों में तीव्र डिप्रेशन की बीमारी होती है।

ये भी पढ़ें...पेरेंट्स का नशा: बच्चों की दुर्दशा- छोड़ें नही तो बस इतना कर लें? 



Panic Disorder

साइकोसीस (मनोविक्षिप्ति) से ग्रस्त रोगियों में इन समस्याओं का भारी जोखिम होता है। सायकोटीक (मनोविक्षिपियाले) रोगियों में चिन्ता (एन्जाइटी) प्रायः दिखाई पड़ती है। विशिष्ट स्थितियों या इन समस्याओं के साथ पैनिक रोग व्यापक हो सकता है। एन्जाइटी (anxiety), मनोविक्षिप्ति (psychosis) से ग्रस्त रोगियों में प्रायः साथ साथ दिखाई देती है। यह चिन्ता व्यापक या किसी विशिष्ट परिस्थितियों से जुड़ी हुई या दौरे के स्वरूप में हो सकती है। दौरे के स्वरूप में यह ऑटोनोमिक नर्वस सिस्टम (स्वायत्त तंत्रिका/चेता तंत्र) के कुछ लक्षण को भी साथ साथ प्रकट कर सकती है।


साईकोसीस (मनोविक्षिप्ति) से ग्रस्त रोगी पैनिक दौरे के समान कुछ असाधारण दृश्य आभास का अनुभव कर सकते है। इससे संबंधित बिमारियाँ भी घबराहट या अचानक तीव्र चिन्ता (पैनिक) के दौरे की और अधिक गम्भीर बना सकती है। अत: यह महत्वपूर्ण है कि इससे संबंधित बीमारी का इलाज भी करवाना चाहिए।

ये भी पढ़ें...हार्ट  डिसीज़ : कब आता है हार्ट अटैक ? जानिए लक्षण, कारण व उपचार..  



पैनिक (अचानक तीव्र चिन्ता या घभराहट) का दौरा (Panic Attack) पैनिक रोग का एक बुनियादी भाग है। पैनिक दौरा निश्चित अवधि का तीव्र भय (दहशत या घबराहट) तथा व्याकुलता का अनुभव है। साधारण चिन्ता का दौरा तो एक सामान्य बात है तथा यह लगभग दस में से एक व्यक्ति को उसके जीवनकाल में किसी भी समय आ सकता है, लेकिन पैनिक (अचानक तीव्र चिन्ता या घबराहट) का दौरा बिना किसी प्रत्यक्ष कारण के हो सकता है या किसी विशेष परिस्थिति में हो सकता है। इस दौरे के दौरान व्यक्ति को यह एहसास होता है कि वह या तो गम्भीर रुप से बीमार हैं या उसकी मृत्यु हो जायेगी। यह दौरा मन से काफी व्यथित कर देता है और बाद में उसे कुछ समय के लिए हिला देता है।

Panic Attacks

पैनिक दौरा: अचानक या आकस्मिक होता है। कभी भी आ सकता है। करीब १० मिनट में उसकी चरम अवस्था (प्रबलता) में पहुँचता है और करीब २० मिनट तक रहता है। पैनिक दौरे को परिभाषित करने के लिए इस तरह के चार या उससे ज्यादा दौरे आने आवश्यक है। चार लक्षण से कम दौरे को "सीमित लक्षण पैनिक दौरे (limited symptom -panic attacks)" कहते हैं।


ये भी पढ़ें...खून पतला करने वाली दवाईयां खाने के बाद भी क्यों आता है हार्टअटैक, कार्डियोलॉजिस्ट से जानें अटैक के 3 कारण



पैनिक दौरे तीन प्रकार के पाये जाते हैं:


1. आकस्मिक या बिना पूर्वाभास के पैनिक दौरे (Spontaneous or Uncued Panic Attacks): 

इस तरह के पैनिक दौरे पैनिक डिसआर्डर (बीमारी) में पाये जाते हैं। व्यक्ति कुछ भी कर रहा हो, दिन या रात में कभी भी बिना किसी पूर्व चेतावनी के ये दौरे आ सकते हैं। ये आकस्मिक व अनायास दौरे किसी भी स्थिति या स्थान से जुड़े या प्रभावित नहीं होते हैं। इनसे प्रभावित कई लोगों को ये दौरे तब आते हैं जब वे प्राय: शान्त या विश्राम की अवस्था में होते हैं जैसे कि टी.वी. देखते समय या किताब पढ़ते समय भी। यहाँ तक कि ऐसे दौरे आने की वजह से कई लोग गहरी नीन्द में से उठ बैठते हैं।


2. पूर्वानुमानित पैनिक दौरे (Specific or Cued Panic Attacks): 

इस प्रकार के दौरे कुछ विशेष अपेक्षित स्थितियों या स्थानों में आते हैं। उदाहरण के लिए सामाजिक परिस्थितियों से उत्पन्न हुआ सामाजिक डर (Social Phobia), जिसमें वह ऐसी सामाजिक परिस्थितियों से उत्पन्न होने वाली परेशानी या तीव्र तनाव को टालने का प्रयास करता है। भयंकर या आघातजनक घटनाओं के बाद घटित तनाव (Post-Traumatic Stress Disorder), जिसमें पहले की भयंकर या आघातजनक घटनाओं से संबंधित दृश्य या स्थान को रोगी टालने की कोशिश करता है। 

ग्रसता-अधि (Obsessive Compulsive Disorder), यह कुछ तनाव युक्तः स्थितियों की वजह से उत्पन्न होती है। कुछ विशिष्ट डर (Specific Phobias), जैसे कि मकड़ी के संपर्क में आने से पैदा होने वाले पैनिक दौरे, हवाई जहाज में यात्रा करने के डर की वजह से होने वाले पैनिक दौरे । पूर्वानुमानित पैनिक दौरे के लक्षण आकस्मिक पैनिक दौरे के लक्षण के समान ही होते हैं। पूर्वानुमानित पैनिक दौरे पैनिक डिसआर्डर में किंचित ही दिखाई पड़ते हैं।


ये भी पढ़ें... ब्रोकली के फायदे……. हार्ट अटैक से बचाती है हरी फूलगोभी –




3. कुछ विशेष जगह या परिस्थितियों से संबंधित (Situationally Predisposed) पैनिक दौरे: 


इस प्रकार के पैनिक दौरे पैनिक डिसआर्डर में पाये जाते हैं। कई बार कई लोगों को ऐसी परिस्थितियों या स्थानों में पैनिक दौरे आते हैं जिनसे उनको वास्तव में भय नहीं होता। ये दौरे हर वक्त इन परिस्थितियों या स्थानों से गुजरने से नहीं आते। उदाहरणार्थ: जैसे किसी व्यक्ति को अपनी कार की ड्राइविंग करते समय कभी पैनिक दौरे आते हैं लेकिन वास्तव में उसे ड्राइविंग करने का भय नहीं होता और हर वक्त यह जरुरी नहीं कि उसे ये पैनिक दौरे आए।


EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ