सुशांत की मृत्यु की जांच से उठते और उलझते सवाल

SSR-Newspuran

सुशांत की मृत्यु की जांच से उठते और उलझते सवाल सुशांत सिंह की रहस्मयी मौत के बाद बॉलीवुड में चल रहे नेपोटिज्म का मुद्दा उभर कर सामने आ गया है... जिसमे फ़िल्म इंडस्ट्रीज के दिग्गज सुपर स्टार के साथ - साथ बड़े फ़िल्म निर्माता पर भी आरोप लगाए गए है.. सुशांत की मौत एक आत्महत्या है या फिर मर्डर , यह तो पहेली सुलझने के बाद ही पता चल पाएगा..

किन्तु यह मुद्दा भले ही उभर कर अभी आया हो, पर विगत कुछ वर्षों से जिस तरह से बॉलीवुड में नए -नए अभिनेताओं के तौर पर सेलेब्रिटी के बच्चों ने जगह बनानी शुरू की है ,उससे यह साफ झलकता है कि नए और सिनेमा में अपने भविष्य को तलाशने वाले इन कलाकारों का जीवन कितना कठिन होता होगा...

अगर बीते कुछ वर्षों पर नजर डाली जाए तो बॉलीवुड सबसे ज्यादा लोगो को रोजगार देने वाली फील्ड मानी जाती थी , परंतु आज रोजगार देने की बजाय यह भी बड़े-बड़े निर्माताओं और सेलेब्रिटी की सत्ता हो चुकी है जिसमे एक खास परिवार के लोगो का ही कब्जा होता है...

दिवंगत कोरियोग्राफर सरोज खान ने बॉलीबुड के अंदर चल रहे कास्टिंग -काउच को शोषण के तौर स्वीकार किया था, वहीं करण जौहर के एक प्रोग्राम में सुशांत सिंह का भद्दा मजाक उड़ाने वाले शाहरुख खान का वीडियो सुशांत सिंह की मौत के बाद से लगातार वायरल हुआ है ,ये वही शाहरुख है जो कभी सिनेमा जगत मे आने से पहले बारातों में नाचा करते थे, अमिताभ जी की लंबी हाइट के कारण उन्हें भी फिल्मों में लेने से मना कर दिया गया था, ठीक इसी तरह कई कलाकार दिलीप कुमार, मधुबाला ,नरगिस ,वहीदा रहमान ने भी अपने संघर्ष से जगह बनाई है ,किन्तु यह सब तब के कलाकार है ,जिन्हें सँघर्ष करना पड़ा पर नेपिटिज्म के शिकार नही हुए होंगे, किन्तु वर्तमान में सिनेमा जगत में कलाओं का नही सम्पर्क का ध्यान रखा जाता है ,हाल ही में एक अभिनेता के साथ-साथ अपने परोपकार के कार्यो के लिए प्रसिद्द हुए सोनू सूद भी यह स्वीकार कर चुके है कि फ़िल्म इंड्रस्ट्रीज में हुनर नही सम्पर्क वालो को आगे बढ़ाया जाता है , मणिकर्णिका जैसी सफल फ़िल्म देने वाली कंगना रनावत भी फ़िल्म इंड्रस्ट्रीज में चल रहे नेपोटिज्म का खुल कर विरोध कर रही है

यह भी सच है कि सुशांत की मौत की जांच में बहुत सी लापरवाही बरतने की नाकाम कोशिश की जा रही है , आशा है कि उनकी मौत के गुत्थी सुलझने से बॉलीवुड में लंबे समय से चले आ रहे इस भाई- भतीजावाद पर अंकुश लगेगा और सिनेमा में जाने का प्रयास कर रहे नए कलाकारों के हुनर को पहचान मिलेगी।

निधि पाठक


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ