Ram Temple Bhumi Pujan: राम-सीता की कुलदेवी की पूजा के साथ शुरू हुआ मंदिर निर्माण का पूजन क्रम

अयोध्या (Ayodhya News) में राम मंदिर भूमि पूजन (Ram Mandir Bhumi Pujan) के लिए अनुष्ठान आज से शुरू हो गया। कार्यक्रम के मुताबिक आज गणेश पूजन (Ganesh Pujan) किया।कल यानी मंगलवार को राम अर्चना का कार्यक्रम किया जाएगा। 5 अगस्त को पीएम मोदी (Narendra Modi) की मौजूदगी में राम मंदिर (Rammandir) का भूमि पूजन (Bhumi Pujan) के लिए संकल्प लिया जाएगा।

देखें तैयारियां

हाइलाइट्स:

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन की प्रक्रिया आज से शुरू हो गई

अलग-अलग दिनों पर 21 ब्राह्मण संपन्न करा रहे अलग-अलग अनुष्ठान

आज गणेश पूजा, मंगलवार को राम पूजन, 5 को लिया जाएगा संकल्प

अयोध्या

उत्तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya News) में आज से राम मंदिर का भूमि पूजन (Ram mandir Bhumi Pujan) शुरू हो गया है। माता सीता की कुलदेवी हर छोटी देवकाली और भगवान राम की कुलदेवी बड़ी देवकाली की पूजा कर अनुष्ठान का शुभारंभ किया गया।

अयोध्या में स्थित दोनों धर्म स्थलों पर ट्रस्ट के सदस्य राजा विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र ने यजमान की भूमिका में पूजन शुरू कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

इस पूजन के साथ ही रामजन्मभूमि परिसर में भी विभिन्न धार्मिक आयोजनों की शुरुआत हो गई है। राम नगरी में स्थित छोटी देवकाली मंदिर सप्त सागर के पूर्वी भाग में स्थित है। नवरात्रि में इनका पूजन-अर्चन का विधान है। जनकपुर में विवाह के बाद भगवान श्री राम के साथ अयोध्या आई माता सीता ने अपने कुलदेवी की पूजित प्रतिमा भी साथ लेकर आई थीं। माना जाता है कि प्रतिदिन कुलदेवी की पूजा आराधना के लिए उन्होंने प्रतिमा की स्थापना इसी स्थल पर की थी।

सदियों से होती है देवकाली की पूजा

सैकड़ों सालों से अयोध्यावासी और श्रद्धालु छोटी देवकाली स्थल को माता सीता से पूजित प्रतिमा मानकर पूजन अर्चन करते हैं। इसी तरह से नगर के बेनीगंज में स्थित बड़ी देवकाली को भगवान रामचंद्र की कुलदेवी कहा जाता है। सूर्यवंशी महाराजा सुदर्शन द्वारा इसे द्वापर युग में स्थापित किया माना जाता है। इन्हें शीतला देवी के नाम से भी जाना जाता है। मंदिर में मां काली, लक्ष्मी और माता सरस्वती के विग्रह स्थापित हैं।

राजा विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र ने शुरू की पूजा

इसके अलावा अनुष्ठानों में आज गणेश पूजा है। मंगलवार को राम अर्चना के साथ हनुमान गढ़ी में पूजा होगी और फिर 5 अगस्त को मुख्य कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) विश्व कल्याण और मंदिर निर्माण के लिए संकल्प लेंगे।

इधर भारतीय जनता पार्टी की नेता उमा भारती ने ट्वीट कर कहा है कि वो अयोध्या के भूमि पूजन कार्यक्रम में तो आएंगी, लेकिन मंदिर स्थल पर ना रहकर सरयू नदी के तट पर रहेंगी.

सोमवार सुबह उमा भारती ने कई ट्वीट किए, उन्होंने लिखा कि कल जब से मैंने अमित शाह और बीजेपी के अन्य नेताओं के कोरोना पॉजिटिव होने का सुना, तभी से अयोध्या में मंदिर के शिलान्यास में उपस्थित लोगों खासकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए चिंतित हूं.

इसीलिये मैंने रामजन्मभूमि न्यास के अधिकारियों को सूचना दी है कि शिलान्यास के कार्यक्रम के मुहूर्त पर मैं अयोध्या में सरयू के तट पर रहूंगी।

प्रधानमंत्री के वापस लौटने के बाद दर्शन के लिये मन्दिर जाऊंगी।


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ