एकांतिक पर्यटन स्थल बने लोगों की पहली पसंद, चार और बनाने की तैयारी.. डॉ. नवीन जोशी

एकांतिक पर्यटन स्थल बने लोगों की पहली पसंद, चार और बनाने की तैयारी.. डॉ. नवीन जोशी
Dr. Navin joshi newspuranभोपाल: प्रदेश में पर्यटकों के लिये छह रुरल होम स्टे तैयार हो गये हैं तथा इन्हें चालू भी कर दिया गया है। जबकि चार और ऐसे होम स्टे तैयार हो रहे हैं। कोरोना काल में इन रुरल होम स्टे में ठहरने की पर्यटकों की मुख्य पसंद है तथा वे इसका खूब लाभ ले रहे हैं, क्योंकि वे भीड़भाड़ वाली जगह के स्थान पर एकांत वाले स्थल पर ठहरना चाहते हैं। प्रदेश में ऐसे करीब सौ ग्राम चिन्हित किये गये हैं जिनमें पर्यटकों के रुकने के लिये सशुल्क आवासीय व्यवस्था की गई है। इसमें उन्हें स्थानीय संस्कृति के अनुरुप भोजन भी उपलब्ध कराया जाता है। ये रुरल होम स्टे प्रसिध्द पर्यटन स्थलों के आसपास विकसित किये जा रहे हैं। अगले वित्त वर्ष में दस और गांवों में होम स्टे सुविधा देने की भी तैयारी है।



जिन छह ग्रामों में ये होम स्टे चालू किये गये हैं, उनमें शामिल हैं : निवाड़ी जिले में ओरछा के पास ग्राम लाडपुरा, छतरपुर जिले के खजुराहो के पास ग्राम धमना एवं बासाटा, पन्ना जिले के पन्ना नेशनल पार्क के पास ग्राम मडला तथा सीधी जिले में संजय नेशनल पार्क के पास ग्राम खोखरा एवं टाढ़ीपाधर। इन गांवों में 18 पर्यटक आवास बनाये गये हैं। इस साल के अंत तक जिन चार ग्रामों में होम स्टे सुविधा शुरु करने की तैयारी है, उसमें शामिल हैं : छतरपुर जिले के बुंदेलखण्ड म्युजियम के पास ग्राम गोरा एवं ग्राम सूडा तथा जटाशंकर भीमकुण्ड के पास ग्राम रामनगर एवं ग्राम चंदनपुरा। इसी प्रकार, अगले वित्त विर्ष में जिन दस ग्रामों में हो स्टे सुविधा दी जायेगी, उनमें शामिल हैं : निवाड़ी जिले के ओरछा के पास ग्राम बगान एवं ग्राम राधापुर, आगर मालवा जिले में एग्री टूरिज्म के पास ग्राम भानपुर, सीहोर जिले में राजधानी भोपाल के पास ग्राम बिलकिसगंज एवं ग्राम रायपुर नयाखेड़ा, रायसेन जिले में संची के पास ग्राम उचर एवं ग्राम भरतीपुर, मुरैना जिले में मितावली मान्युमेंट्स के पास ग्राम मितावली, पदावली मान्युमेंन्ट्स के पास ग्राम रिथौराकलां एवं शनि टेम्पल के पास ग्राम अतिति। इन सभी बीस गांवों में कुल 170 पर्यटक आवास होंगे। इनका किराया भी पन्द्रह सौ रुपये डे-नाईट विथ फूड है।








स्कीम के तहत दे रहें पैसा :




रुरल होम स्टे के तहत केंद्र एवं राज्य सरकार 60:40 के रेशो में आर्थिक सहायत भी प्रदान कर रही है। केंद्र सरकार अपने राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान के तहत यह धन उपलब्ध करा रही है जबकि राज्य सरकार इसमें मेचिंग ग्रांट दे रही है। इस स्कीम के तहत गांव के हितग्राही को प्रशिक्षण देकर तैयार तैयार किया जाता है तथा उसे अपने पर्यटकों के लिये पांच लाख रुपये तक का आवास बनाने के लिये दो लाख रुपये की सब्सीडी एवं शेष बैंक लोन की सुविधा दी गई है।




चालीस गांवों का और भेजा प्रस्ताव :




राज्य सरकार ने रुरल हो स्टे की सफलता देख चालीस गांवों का और प्रस्ताव केंद्र सरकार को स्वीकृति के लिये भेजा है। इन ग्रामों का चयन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के साथ समन्वय कर एमपी टूरिज्म बोर्ड ने भेजा है। जल्द ही इसकी मंजूरी मिल जायेगी। प्रदेश में कुल सौ ग्राम हो स्टे के लिये चिन्हित हैं जिन पर धीरे-धीरे कर इन्फास्ट्रक्चर उपलब्ध कराया जा रहा है। विभागीय अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान के तहत प्रदेश के छह ग्रामों में पर्यटकों के लिये होम स्टे सुविधा शुरु कर दी गई है जबकि चार और ग्रामों में यह सुविधा देने की तैयारी है। ग्रामीणों की आय बढ़ाने के लिये आजीविका का यह नया साधन दिया जा रहा है। चालीस और ग्रामों में हो स्टे सुविधा देने के लिये केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है।




हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ