ओशो रजनीश के रहस्यमय जीवन की छह कहानियां..

ओशो रजनीश के रहस्यमय जीवन की छह कहानियां..
ओशो का जन्म 11 दिसंबर 1931 को मध्य प्रदेश के कुचवाड़ा में हुआ था। यहां उनकी विरासत और उनके जीवन के कुछ ज्ञात और अज्ञात पहलुओं पर एक नजर है।


1. ओशो का प्रारंभिक जीवन:

सांसारिक जीवन में ओशो का नाम चंद्रमोहन जैन था। उनका जन्म 11 दिसंबर 1931 को मध्य प्रदेश के कुचवाड़ा में हुआ था। सांसारिक जीवन में उनका नाम चंद्रमोहन जैन था। कम उम्र से ही उन्हें दर्शनशास्त्र में रुचि थी। इसका उल्लेख उनकी पुस्तक ग्लिम्प्सेस ऑफ माई गोल्डन चाइल्डहुड में किया गया है।

ये भी पढ़ें.. ओशो जिसने जो बोल दिया तो बोल दिया…

जबलपुर में शिक्षित- वे जबलपुर विश्वविद्यालय में प्रोफेसर थे। उन्होंने देश भर में विभिन्न धर्मों और विचारधाराओं पर व्याख्यान देना शुरू किया। उनका व्यक्तित्व ऐसा था कि कोई भी उनके प्रभाव में आए बिना नहीं रह सकता था। बाद में उन्होंने व्याख्यान के साथ-साथ ध्यान शिविरों का आयोजन भी शुरू किया। शुरुआती दिनों में उन्हें 'आचार्य रजनीश' के नाम से जाना जाता था। बाद में वे खुद को 'ओशो' कहने लगे।

2. अमेरिका की यात्रा:

ओशो का व्यक्तित्व ऐसा था कि उनके प्रभाव में कई लोग आ गए। 1981 से 1985 तक वे अमेरिका में रहे।उन्होंने अमेरिका के ओरेगन में एक आश्रम की स्थापना की। आश्रम 65 हजार एकड़ में फैला हुआ था। ओशो की अमेरिका यात्रा बहुत ही विवादास्पद रही थी। महंगी घड़ियां, रोल्स रॉयस कारों के बेड़े और कपड़ों की वजह से वे हमेशा चर्चा में रहते थे।

ओशो के ओरेगन स्थित आश्रम को उनके अनुयायी 'रजनीशपुरम' नामक शहर के रूप में पंजीकृत कराना चाहते थे। लेकिन स्थानीय लोगों ने विरोध किया। 1985 में वे भारत लौटे।

3. ओशो की मृत्यु:

19 जनवरी 1990 को उनका निधन हो गया। उनकी मृत्यु के बाद, उनके करीबी शिष्यों ने आश्रम का प्रबंधन संभाला। आश्रम की संपत्ति करोड़ों रुपये आंकी गई है और इस मुद्दे पर उनके शिष्यों में मतभेद भी हैं।

ये भी पढ़ें.. ओशो के सर्वश्रेष्ठ प्रेरणादायक विचार (Osho’s Best Inspirational Thoughts)

ओशो का मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने वाले डॉ. गोकुल गोकनी ओशो की मृत्यु के कारण पर लंबे समय तक चुप रहे। उनका कहना है कि ओशो की मौत के सालों बाद भी कुछ सवाल अनुत्तरित हैं और उनकी मौत का रहस्य बना हुआ है।

4. मृत्यु के दिन क्या हुआ था:

भारत लौटने के बाद ओशो पुणे के कोरेगांव पार्क इलाके में एक आश्रम में रहते थे। अभय वैद्य ने ओशो की मौत पर 'हू किल्ड ओशो' शीर्षक से एक किताब लिखी है।

डॉ. "गोकुल को 19 जनवरी 1990 को ओशो आश्रम से बुलाया गया था," "उन्हें एक लेटर हेड और एक आपातकालीन किट के साथ आश्रम आने के लिए कहा गया था।"

डॉ. गोकुल गोकानी ने अपने हलफनामे में लिखा, 'मैं करीब दो बजे वहां पहुंचा.' "उनके शिष्यों ने मुझसे कहा कि ओशो मर रहे हैं, तुम उन्हें बचा लो, लेकिन मुझे उनके पास जाने की अनुमति नहीं थी।" लंबे समय तक आश्रम में रहने के बाद मुझे उनके निधन की सूचना मिली। "मुझे मृत्यु प्रमाण पत्र तैयार करने के लिए कहा गया था।"

उन्होंने हलफनामे में यह भी दावा किया कि ओशो के शिष्यों ने उन पर मौत का कारण दिल का दौरा पड़ने का उल्लेख करने के लिए दबाव डाला।


ओशो के आश्रम में एक साधु की मृत्यु का उत्सव मनाने की प्रथा थी। लेकिन जब ओशो की मृत्यु हुई, तो उनकी मृत्यु की घोषणा के एक घंटे के भीतर ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। साथ ही उनके निर्वाण का उत्सव कुछ लोगों तक ही सीमित था। इसी आश्रम में ओशो की मां भी रहती थीं। नीलम, जो ओशो की सचिव रह चुकी हैं, ने ओशो की मृत्यु से जुड़े रहस्यों के मुद्दे पर एक साक्षात्कार में कहा कि ओशो की मृत्यु के कुछ ही समय बाद उनकी मां को भी सूचित कर दिया गया था।

नीलम ने इंटरव्यू में यह भी दावा किया कि ओशो की मां काफी समय से कह रही थीं, 'बेटा, उन लोगों ने तुम्हें मार डाला।'

5. ओशो की विरासत:

ओशो का मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने वाले डॉक्टर ओशो की मृत्यु के कारण के मुद्दे पर लंबे समय तक चुप रहे।ओशो की विरासत ओशो इंटरनेशनल द्वारा नियंत्रित है। ओशो इंटरनेशनल का तर्क है कि उन्हें ओशो की विरासत वसीयत में मिली है।

योगेश ठक्कर का दावा है कि ओशो इंटरनेशनल जो वसीयत सौंप रहा है वह फर्जी है। हालांकि ओशो की शिष्या अमृत साधना ने ओशो इंटरनेशनल पर लगे आरोपों से इनकार किया है. वे आरोपों को निराधार बता रहे हैं।

6. ओशो पर ट्रेडमार्क:

ओशो की विरासत पर 'ओशो इंटरनेशनल' द्वारा नियंत्रित है। ओशो इंटरनेशनल के पास यूरोप में ओशो के नाम का ट्रेडमार्क है। ट्रेडमार्क को एक अन्य संगठन, ओशो लोटस कम्यून द्वारा अदालत में चुनौती दी गई थी।11 अक्टूबर, 2017 को यूरोपीय संघ के जनरल कोर्ट ने ओशो इंटरनेशनल के पक्ष में फैसला सुनाया।

ये भी पढ़ें.. ओशो के विवादित विचार, जानिए कौन से (Osho’s conflicting views)

ओशो इंटरनेशनल में कॉपीराइट और ट्रेडमार्क पर विवाद का कहना है कि वे ओशो के विचारों को शुद्ध रूप में ओशो के प्रशंसकों तक पहुंचाते हैं। इसलिए वे इस अधिकार को अपने पास रखना चाहते थे, लेकिन ओशो ने खुद एक बिंदु पर कहा था कि कॉपीराइट चीजों और उपकरणों का हो सकता है, लेकिन विचारों का नहीं।

ओशो का महत्व पुणे में उनकी कब्र पर शिलालेख से लगाया जा सकता है:

"वह कभी पैदा नहीं हुए थे और कभी नहीं मरे। वे 11 दिसंबर, 1931 और 10 जनवरी, 1990 के बीच पृथ्वी पर आए।"


EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ