भारत-चीन विवाद के ये है चार मूल कारण… P ATUL VINOD , what is the deadly India-China border dispute about?

भारत-चीन विवाद के ये है ४ मूल कारण… P ATUL VINOD 
India-China border conflict:
भारत और चीन का विवाद नया नहीं है|  भारत और चीन के झगड़े दशकों से चले आ रहे हैं|  भारत और चीन के विवाद के कारण कोरोना, राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक चारों स्तरों पर देखे जा सकते हैं|

दोनों ही “तू डाल डाल मैं पात पात” की तर्ज पर आगे बढ़ते हैं| 

कोरोना के दौर में  युद्ध का माहौल जायज़ नजर नहीं आता, फिर भी दोनों एक दूसरे से युद्ध करने पर आमादा हैं |

चीन हमेशा युद्ध के रणनीतिक कौशल को अपनाता आया है|  दरअसल इस दुनिया ने अब तक हजारों लाखों युद्ध देखें हैं|  हर युद्ध ने इस धरती को कोई ना कोई सबक दिया है|   युद्ध के यही सबक आगे चलकर “वॉर  स्ट्रेटजी”  में कन्वर्ट हो गए|
China’s Reason For Clash With India
चीन में जंग को लेकर कहा जाता है कि “बिना लड़े ही  दुश्मन को परास्त कर देना चाहिए” |  ये  उनका जंग का सूत्र वाक्य है|

युद्ध का ऐसा माहौल कारगिल में देखा गया, जब भारत और पाकिस्तान की सेनाएं एक दूसरे के सामने थी|

भारत और पाकिस्तान की तरह, भारत और चीन भी सीमा के विवाद के कारण आपस में  उलझते रहे हैं| एक तरफ दोनों देशों के बीच तनाव कम करने पर बातचीत हो रही है दूसरी तरफ दोनों ही राष्ट्रों के मुखिया अपनी अपनी सेनाओं को तैयार रहने के निर्देश दे रहे हैं|  जाहिर है बातचीत से यदि रास्ता नहीं निकला तो युद्ध ही इसकी परिणति होगी|

what is the deadly India-China border dispute about?

दोनों देशों के बीच तनाव की सबसे बड़ी वजह अपना-अपना ईगो है|  अक्सर  युद्ध की वजह ईगो ही हुआ करता है| चीन अपने आपको क्षेत्र का सूरमा बनाना चाहता है, तो भारत की रणनीति हमेशा से “न झुकाएंगे- न झुकेंगे” की रही है|   कई मामलों में चीन से पीछे होने के बावजूद भी भारत कभी भी चाइना के झंडे तले नहीं आया,  यही बात चीन को अखरती रही है|

अब से 3 साल पहले डोकलाम में भारत और चीन के सैनिक आपस में भिड़ गए थेलंबे समय तक इसका असर दोनों देशों के संबंध  पर देखा गया|
India-China Border Conflict: What We Know
दरअसल जब भी हम लंबी चौड़ी फौज तैयार कर लेते हैं तो हमारे अंदर उस फौज की  ताकत दिखाने की कुलबुलाहट होती है|  जब जब किसी राज्य की ताकत बढ़ी है तो उसने गाहे-बगाहे उसका इस्तेमाल किया है|  चीन के साथ भी ऐसा ही हो रहा है लगातार उसकी ताकत बढ़ रही है|  जैसे जैसे शक्तिशाली होता चला जा रहा है वैसे वैसे वो इसके दम पर पूरे विश्व में दादागिरी दिखाने के लिए कसमसा रहा है|  हालांकि हालात ऐसे नहीं है कि वो  ताकत के दम पर किसी छोटे से मुल्क पर भी एकतरफा जीत हासिल कर ले|
China-India border: Why tensions are rising between the neighbours
पाकिस्तान सहित अन्य  पडौसी देश चीन से दब जाते हैं लेकिन भारत नहीं दबतायही बात चीन को कचोटती  है|

दोनों देश बॉर्डर पर लगातार निर्माण कर रहे हैं|   पड़ोसी देश का सीमाओं पर निर्माण  दुश्मन को कभी रस नहीं आता|  नियंत्रण रेखा  कि उस ओर चीन ने काफी सारे निर्माण किए  भारत इन से परेशान हुआ तो उसने भी अपनी सीमा में निर्माण शुरू कर दिये| भारत का  लद्दाख में सीमा रेखा के पास दुर्गम इलाके में सड़क का निर्माण करना चीन को बहुत नागवार गुजरा|  ताजा विवाद की एक बड़ी वजह ये  सड़क भी है|

चीन खुद तो अपनी सीमा रेखा पर संसाधनों की  इमारत खड़ी करता रहा लेकिन भारत का इस दिशा में जरा सा कदम  रास ना आया| 

जैसा कि मैंने बताया कि चीन की रणनीति रही है “बिना लड़ाई दुश्मन को हरा देना” चीनी सेना रेंगते हुए आगे बढ़ना चाहती है और धीरे-धीरे भारत की जमीन को अपने देश में चालाकी से शामिल कर लेना चाहती है|  लेकिन भारत अब ऐसी किसी गतिविधि को बर्दाश्त नहीं करता|

भारत अपनी सीमाओं की रक्षा बहुत मुस्तैदी से करता है और अपनी जमीन पर 1 इंच भी कब्जा नहीं होने देता|  चीन की रणनीति यहां फेल हो जाती है|  चीन को लग रहा है कि अब उसकी रेंगकर कब्जा करने वाली रणनीति से काम नहीं चलने वाला इसलिए वो आर पार की लड़ाई के मूड में आ गया है|
India-China stand-off: Everything we know about the unfolding situation in Ladakh
भारत ने पिछले साल  कश्मीर से धारा 356 खत्म कर  लद्दाख को अलग केंद्र शासित प्रदेश बना दिया |उस वक्त गृहमंत्री अमित शाह ने ये  भी ताल ठोक कर कहा कि अक्साई  भी  हमारे देश का हिस्सा हैइससे चीन और बौखला गया

दरअसल चीन को अक्साई चिन गंवाने का डर सता रहा है. अक्साई चिन भारत का हिस्सा है लेकिन अभी चीन के कब्ज़े में है. अक्साई चिन के लिए हिंदुस्तान ने बड़ी तैयारी की है.

अक्साई चिन?

केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख का हिस्सा है
काराकोरम पर्वत शृंखला के बीच है
समुद्र तल से ऊंचाई 17 हजार फीट
कश्मीर के कुल क्षेत्रफल का करीब 20%
क्षेत्रफल करीब 38 हजार वर्ग किलोमीटर
अक्साई चिन पर चीन का अवैध कब्जा

चीन और पाकिस्तान के रिश्ते दुश्मन का दोस्त “दोस्त” जैसे रहे हैं|  क्योंकि दोनों भारत के दुश्मन हैं इसलिए आपस में दोस्त बन गए|  पाकिस्तान भी चीन को भारत के खिलाफ भड़काता रहता है|

चीन भारत  की आर्थिक गतिविधियों से भी खुश नहीं हैभारत का  अपने हितों के लिए आर्थिक मोर्चे पर कड़े फैसले लेते जाना   चीन पर भारी पड़ रहा हैभारत में हाल ही में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को पड़ोसियों के लिए और सख्त कर दियाचीन पर इसका सीधा असर पड़ता दिखाई दियाक्योंकि हमारा व्यापार चीन से बहुत अधिक मात्रा में है|

कोरोनावायरस की उपज चीन से हैअमेरिका इसके लिए सीधे तौर पर चीन को दोषी ठहरा रहा हैभारत ने भी  कोरोनावायरस की शुरुआत की जांच का समर्थन किया था इससे भी चीन को तगड़ी चोट लगी|

कोरोनावायरस की उपज से जुड़े आरोपों से घिरा चीन इस मामले में, दुनिया का ध्यान, भारत से तनाव बढ़ाकर हटाना चाहता है, ये  तो लंबे समय से कहा ही जा रहा है|

फिलहाल दोनों देश इस मामले का कूटनीतिक और राजनीतिक हल तलाशने की कोशिश कर रहे हैं, इसी में दोनों की बेहतरी है| युद्ध किसी विवाद का हल नहीं हो सकता, ये  दोनों ही देश जानते हैं|

Atulsir-Mob-Emailid-Newspuran-02


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ