ईस्ट इंडिया कम्पनी ने क्यों शुरू किया हिंदुस्तानियों का धर्म परिवर्तन?

ईस्ट इंडिया कम्पनी ने क्यों शुरू किया हिंदुस्तानियों का धर्म परिवर्तन?

भारत हमेशा सभी धर्मों का सम्मान करता रहा है। यहां सभी धर्मावलंबियों को छूट है कि वह अपने धर्म का प्रचार प्रसार कर सकें। इसका दुरुपयोग भी जमकर हुआ। गुलामी के दौर में सबसे ज़्यादा।ईसाइयत का आगमन-सन् 1857 तक भारत पर अंग्रेजों का शासन ईस्ट इण्डिया कम्पनी के माध्यम से था। कम्पनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर के चेयरमैन मि० मेंगल्स ने ब्रिटिश पार्लमेंट में अपने वक्तव्य में कहा था-

Providence has entrusted the extensive empire of Hindustan to England in order that the banner of Christ should wave triumphant from one end of India to the other. Everyone must exert all his strength that there will be no dilatoriness on any account in continuing in the country the grand work of making all Indians Christians

East-India-Company-Newspuran-01(विधाता ने हिन्दुस्तान का विशाल साम्राज्य इंगलैंड के हाथों में इसलिए सौंपा है कि ईसामसीह का झण्डा इस देश के एक कोने से लेकर दूसरे कोने तक फहरा सके । प्रत्येक ईसाई का कर्तव्य है कि समस्त भारतीयों को अविलम्ब ईसाई बनाने के महान् कार्य में पूरी शक्ति के साथ जुट जाए।)

भारतीय स्वाधीनता के प्रथम युद्ध की समाप्ति के दो वर्ष बाद इंगलैंड के तत्कालीन प्रधानमन्त्री लार्ड पामर्स्टन ने घोषणा की-

It is not only our duty but in our own interest to promote the diffusion of Christianity as far as possible throughout the length and breadth of India (Christianity and Government of India by Mayhew, page 194)

(अर्थात् यह हमारा कर्तव्य ही नहीं, अपितु हमारा हित इसी में है कि भारत में ईसाइयत का अधिक-से-अधिक प्रसार हो।) बम्बई के गवर्नर लार्ड री ने सन् 1876 में ईसाई मिशनरियों के शिष्टमण्डल को प्रिंस ऑफ वेल्स के सामने प्रस्तुत करते हुए कहा था-

They are doing in India more than all those civilians, Soldiers, judges and governors your highness has met(जितना काम आपके सिपाही, जज, गवर्नर और दूसरे अफसर कर रहे हैं, उससे कहीं अधिक ये मिशनरी कर रहे हैं।)

-सत्यार्थ भास्कर (स्वामी विद्यानन्द सरस्वती) से उद्धृत्


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ