द्वितीय विश्व युद्ध: गुजरात में अपने लापता सैनिकों के अवशेषों ढूंढेगा अमेरिका

द्वितीय विश्व युद्ध: गुजरात में अपने लापता सैनिकों के अवशेषों ढूंढेगा अमेरिका

अमेरिकी रक्षा विभाग ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान भारत में लापता हुए अपने 400 से अधिक सैनिकों के अवशेषों को खोजने के प्रयास तेज कर दिए हैं। इसके लिए उसने गांधीनगर स्थित नेशनल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी (एनएफएसयू) के साथ हाथ मिलाया है। NFSU विशेषज्ञ DPAA नामक एक अन्य संगठन की सहायता करेंगे, जो यू.एस. रक्षा विभाग के अधीन कार्य करता है। DPAA युद्ध के दौरान खोए और पकड़े गए सैनिकों के ठिकाने पर नज़र रखता है।

एनएफएसयू में डीपीएए के मिशन प्रोजेक्ट मैनेजर डॉ गार्गी जानी ने कहा कि लापता अमेरिकी सैनिकों के अवशेषों का पता लगाने में हर संभव मदद की जाएगी।

america

गार्गी ने कहा कि एजेंसी की टीमें द्वितीय विश्व युद्ध, कोरियाई युद्ध, वियतनाम युद्ध, शीत युद्ध और इराक में खाड़ी युद्ध सहित पिछले अमेरिकी संघर्षों के दौरान लापता सैनिकों के अवशेषों का पता लगाने और उन्हें पुनः प्राप्त करने का प्रयास करेंगी।

 द्वितीय विश्व युद्ध, कोरियाई युद्ध, वियतनाम युद्ध और शीत युद्ध के दौरान, 81,800 अमेरिकी सैनिक लापता हो गए, जिनमें से 400 भारत में लापता हो गए। डॉ गार्गी ने कहा कि एमएफएसयू डीपीएए को वैज्ञानिक और तार्किक दृष्टि से अपने काम में मदद करने की पूरी कोशिश करेगा।

 

 

Priyam Mishra



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ