हरदा: फैक्ट्री मालिक का BJP से कनेक्शन, कांग्रेस ने उठाये बड़े सवाल   


Image Credit : twitter

स्टोरी हाइलाइट्स

दूसरे दिन भी जारी रेस्क्यू ऑपरेशन, मलबे में दबे लोगों को निकालने में जुटी NDRF..!!

मध्यप्रदेश के हरदा में पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट के बाद दूसरे दिन भी रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। पटाखा फैक्ट्री में मंगलवार को भी जले शव मिलने की खबर है। मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव भी आज हरदा जाएंगे। वही विपक्षी दल कांग्रेस ने फैक्ट्री मालिक के BJP से कनेक्शन और पूर्व में हुए हादसों से सबक न लेने का आरोप लगा सरकार पर हमलावर है। 

इधर मप्र विधानसभा के बजट सत्र का आज पहला दिन है। सत्र में  हरदा में पटाखा फैक्ट्री में हुए विस्फोट को लेकर विपक्ष के विधायक सत्ता पक्ष को घेर सकते हैं। कांग्रेस नेता अरुण यादव ने भी सोशल मीडिया पर पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट को लेकर सरकार को घेरा है। 

अरुण यादव ने लिखा कि हरदा पटाखा फैक्ट्री का मालिक भाजपा नेता है, इनकी ब्लैक लिस्टेड फैक्ट्री एक बड़े कद्दावर नेता के संरक्षण में चल रही थी, फैक्ट्री में विगत वर्षों में 2 बार विस्फोट पहले भी हो चुका है जिसमें 6 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी ।

बीते हादसों का जिक्र करते हुए अरुण यादव ने लिखा कि वर्ष 2011 में टीकमगढ़ एवं राऊ में पटाखा फैक्ट्री में 14 लोग एवं 2014 में बड़नगर की पटाखा फैक्ट्री में 15 लोगों की मौत हो गई थी और वर्ष 2015 में झाबुआ के पेटलावद ब्लास्ट में 79 लोगों की मौत हुई थी, सरकार ने इन घटनाओं से क्यों कुछ नहीं सीखा ?

अरुण यादव ने कुछ सवाल भी उठाये और लिखा कि प्रदेश की जनता इन सवालों का जवाब जानना चाहती है ।

1 - फैक्ट्री के मालिक के सत्तारूढ़ पार्टी से क्या संबंध है एवं फैक्ट्री मालिक को हरदा के किस नेता का संरक्षण प्राप्त है ?

2 - ब्लैक लिस्टेड होने के बाद भी आबादी क्षेत्र में पटाखा फैक्ट्री कैसे संचालित हो रही थी ?

3 - फैक्ट्री मालिक और संरक्षण देने वालों के खिलाफ सरकार NSA के तहत कार्यवाही करेगी ?

4 - जब फैक्ट्री अवैध थी तो इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक सामग्री कहाँ से आई ?

गौरतलब है कि घटनास्थल पर 11 लोगों की मौत हो गई। 217 लोग घायल हो गए, इनमें फैक्ट्री के 51 मजदूर शामिल हैं। 73 लोग अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं। 38 घायलों को हरदा से रेफर किया गया है। NDRF मलबे में दबे लोगों को निकालने में जुटी है। जेसीबी और पोकलेन मशीनों से रातभर मलबा हटाया गया। बुधवार को दूसरे दिन भी काम जारी है।

फैक्ट्री मालिक राजेश अग्रवाल, सोमेश अग्रवाल और रफीक खान को रात करीब 9 बजे राजगढ़ जिले के सारंगपुर से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इनके खिलाफ हरदा सिविल लाइन थाने में केस दर्ज किया गया है।