जल गंगा संवर्धन अभियान बना समय की सबसे बड़ी ज़रूरत, प्रदेशभर में विकास कार्य जारी


Image Credit : X

स्टोरी हाइलाइट्स

अभियान में नदी, तालाब, कुओं, बावड़ी आदि जल संरचनाओं का जीर्णाद्धार और नवीनीकरण कर उन्हें उपयोगी बनाया जा रहा है..!

प्रदेश भर में गंगा जल संरक्षण अभियान चलाया जा रहा है। स्थानीय नागरिकों समेत प्रदेश भर के नेताओं के साथ-साथ स्थानीय स्तर पर काम करने वाले अधिकारी और कर्मचारी भी इसमें बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। 5 जून से शुरु हुए जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत अब तक कई विकास कार्य किए जा चुके हैं। कहा जा रहा है, कि  जल गंगा संवर्धन अभियान समय की सबसे बड़ी जरूरत बन गया है। इस अभियान से जहां एक ओर जल के संरक्षण और संवर्धन में मदद मिलेगी, वहीं दूसरी और पर्यावरण में भी सुधार होगा। अभियान में नदी, तालाब, कुओं, बावड़ी आदि जल संरचनाओं का जीर्णाद्धार और नवीनीकरण कर उन्हें उपयोगी बनाया जा रहा है।

शहडोल में जल संरक्षण और संवर्धन के लिए #जल_गंगा_संवर्धन_अभियान के तहत ग्राम पंचायत गुडारू में कोयलारी नाला में साफ सफाई का कार्य किया गया।

अभियान के तहत ग्राम पंचायत सेमरा में नाला ट्रेंचिंग कार्य किया गया। 

 ग्राम पंचायत भटीगवा खुर्द में नाला ट्रेंचिंग कार्य किया गया। 

ग्राम पंचायत तितरा जनपद पंचायत बुढार में नाला टेंचिंग एवं साफ सफाई कार्य में लोगों ने श्रम दान किया। 

 शहडोल के ही ग्राम पंचायत मोहनी में खुजुलहा नाला में साफ सफाई का कार्य किया गया जिसमे लोगों ने श्रम दान किया #जल_गंगा_संवर्धन_अभियान 

जनपद पंचायत सोहागपुर के ग्राम पंचायत येंताझर में  जल_गंगा_संवर्धन_अभियान के तहत तालाब में साफ सफाई कार्य में लोगों ने श्रम दान किया।

अभियान के तहत ग्राम पंचायत कुमिहा में नाला सफाई का कार्य किया गया। 

मेघनगर के ग्राम बदलीपाड़ा में ग्राम वासियों द्वारा कलशयात्रा निकलकर कर जल संवर्धन से संबंधी जागरूक किया गया। 

ग्राम पंचायत बरेली में पुरानीहा तालाब मे श्रम दान कर साफ सफाई किया गया। 

जनपद पंचायत बुढार के ग्राम पंचायत मलया में #जल_गंगा_संवर्धन_अभियान के तहत फुटहा तालाब में जल संवर्धन का कार्य में लोगों ने श्रम दान किया। 

यह अभियान गंगा दशहरा तक चलाया जाएगा जिसमें प्रदेश के सभी ज़िलों में नदी, तालाबों, कुओं, बावड़ियों सहित जल स्त्रोतों के जीर्णोद्धार और साफ सफाई का काम किया जा रहा है।