न फ़िटनेस-न बीमा- न रोडटैक्स, फिर भी चल रही थी BJP नेता की बस


स्टोरी हाइलाइट्स

गुना बस हादसे में सामने आई बड़ी लापरवाही, कांग्रेस ने लगाए गंभीर आरोप

गुना में डम्पर से टक्कर के बाद बस में आग लगने से 13 की मौत हो गई है। हादसे में 17 यात्री गंभीर हैं। अब इस हादसे को लेकर बड़ी लापरवाही भी सामने आ रही है। ये खुलासा हुआ है कि बस का फ़िटनेस, रोड टैक्स और बीमा सब समाप्त हो चुका था।

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि बस बीजेपी नेता की थी। जिसकी  फिटनेस, इंश्योरेंसऔर  रोड टैक्स 2021 में खतम हो चुका था। बड़ी बात यह है कि फिर भी बस सड़क पर चल रही थी।

इधर कांग्रेस ने भी इन बिन्दुओ को लेकर सरकार पर सवाल उठाये हैं। प्रदेश कांग्रेस ने अपने आधिकारिक X पर लिखा कि- बीजेपी का जंगलराज निगल गया 13 निर्दोष ज़िंदगियाँ, गुना में जो बस हादसे का शिकार हुई और 13 लोग जल कर मर गये, उसका फ़िटनेस 2022 मे समाप्त हो चुका था। टैक्स भी नहीं जमा था, बस का बीमा भी 2021 में ही समाप्त हो चुका था। साथ ही कांग्रेस ने लिखा- मोहन यादव जी फ़ोटो और प्रचार से बाहर निकलकर काम कीजिए।

इधर भीषण बस हादसे के बाद मुख्यमंत्री मोहन यादव गुरुवार सुबह गुना पहुंचे और घायलों का हाल जाना। साथ ही घायलों के इलाज़ के लिए जरूरी निर्देश दिए। उन्होंने घायलों के इलाज़ में सभी इंतज़ाम को कहा है। साथ ही बस हादसे की जांच के भी निर्देश दिए हैं।

बताया जा रहा है कि डंपर से टक्कर के बाद बस पलटी खाकर सड़क से नीचे जा गिरी और उसमें तुरंत ही आग लग गई। आग इतनी तेज़ी से फ़ैली कि यात्रियों को संभाले का मौका ही नहीं मिल पाया और कई यात्री इसकी जद में आ गए। मौके पर 13 लोगों की मौत हो गई। हादसे में 17 घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया, जिनका वहां इलाज जारी है।

हादसे में कई शव बुरी तरह जल चुके हैं और चेहरा देखकर उनकी पहचान करना संभव नहीं हो पा रही है। अब DNA के आधार पर ही मृतकों की पहचान की जा सकेगी। बस MP08 P 0199 रामप्रताप सिंह सिकरवार के नाम पर रजिस्टर्ड थी। बस के अंदर ज्वलनशील पदार्थ भी रखा होने की बात सामने आ रही है।

मुख्यमंत्री मोहन यादव ने कल ही मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।