धार में डैम फूटने का खतरा टालने मोर्चे पर डटे मंत्री, दोषियों पर एक्शन का इंतज़ार


Image Credit : twitter

स्टोरी हाइलाइट्स

जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट खुद डैम पहुंचकर लगातार मौक़े पर कैंप किए हुए हैं. ताकि बाँध की दीवारों पर पानी का दबाव कम किया जा सके..!

धार ज़िले के कारम डैम में स्थिति अभी नियंत्रण में  बताई जा रही है। निर्माणाधीन कारम डैम में एक किनारे से सुरक्षित तरीक़े से पानी की निकासी की जा रही है ताकि बाँध की दीवारों  पर पानी का दबाव कम किया जा सके। जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट खुद डैम पहुंचकर लगातार मौक़े पर कैंप किए हुए हैं। 

मंत्री सिलावट के साथ संभागायुक्त डॉक्टर पवन कुमार शर्मा, पुलिस महानिरीक्षक राकेश कुमार गुप्ता और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आपदा प्रबंधन की निगरानी कर रहे हैं। अधिकारियों के साथ रात 4 बजे तक ग्रामीणों को अन्य गांवों में सुविधा जनक ढंग से भेजा गया। ग्रामीणों के आवास-भोजन. पानी सभी की उचित व्यवस्था की गई है।


   
मंत्री तुलसी सिलावट ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी कारम डैम के संबंध में लगातार संपर्क बनाए हैं और पूरी सरकार सजगता से कार्य कर रही है। यहाँ आपदा प्रबंधन के लिए सेना की इकाई भी पहुँच चुकी है और राष्ट्रीय एवं राज्य आपदा प्रबंधन दल भी काम प्रारंभ कर चुका है।  उन्होंने आश्वस्त किया है कि किसी भी प्रकार की जन धन हानि नहीं होने दी जाएगी और इस बाबत सभी इन्तेजाम सुनिश्चित कर लिए गए हैं।

बाँध में लीकेज के संबंध में विशेषज्ञों की जाँच समिति भी गठित कर दी गई है। समिति को शीघ्र रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है।  लापरवाही पाए जाने पर संबंधितों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

गौरतलब है कि धार में में कारम नदी पर निर्माणाधीन डैम में दरार के बाद प्रशासन ने 13 गांवों को खाली कराया है। भारी बारिश से धार के धरमपुरी क्षेत्र में कारम नदी पर निर्माणाधीन डैम में दरार और कुछ हिस्से धसने लगे थे। प्रशासन ने आस पास के गाँव को खाली कराने मुनादी कराई है। पुलिस ने लोगों से कहा है कि वो जल्द से जल्द घरों में तआला दाल सुरक्षित स्थानों की और चले जाएँ।