हंगामे के बाद विधानसभा की कार्यवाही स्थगित, अभिभाषण पूरा पढ़े बिना ही सदन से चले गये राज्यपाल


Image Credit : X

स्टोरी हाइलाइट्स

राज्यपाल का अभिभाषण खत्म होते ही कांग्रेस ने नारेबाजी शुरू कर दी..!!

बुधवार को मध्य प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र का पहला दिन था। राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान कांग्रेस विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे के बाद विधानसभा की कार्यवाही गुरुवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

विपक्षी सदस्यों के हंगामे के बाद राज्यपाल अपना अभिभाषण पूरा पढ़े बिना ही सदन से चले गये। कांग्रेस के विरोध के बाद जब राज्यपाल चले गए तो विधानसभा अध्यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर ने सदन से कहा कि जो भाषण अभी तक पढ़ा नहीं गया है उसे पढ़ा हुआ माना जाए।

एमपी के वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा सत्र के दौरान अंतरिम बजट पेश करेंगे। अप्रैल-मई में होने वाले लोकसभा चुनाव के कारण सरकार अंतरिम बजट ला रही है। पूर्ण बजट जुलाई में मानसून सत्र के दौरान पेश किया जाएगा।

राज्यपाल ने अपने अभिभाषण में कहा कि हमारी सरकार राम वन गमन पत्र के अंतर्गत आने वाले सभी तीर्थ स्थलों का विकास करेगी। पीतांबरा पीठ महेश्वर चित्रकूट सहित तीर्थ स्थलों के लिए हेलीकॉप्टर सेवा शुरू की जाएगी। अपने 48 पेज के संबोधन में राज्यपाल ने 59 बिंदुओं में सरकार की योजनाओं और उपलब्धियों का बखान किया। उन्होंने भाषण के कुछ अंश पढ़े, इसके बाद वह सदन से चले गए।

राज्यपाल ने अपने अभिभाषण में कहा, अयोध्या में भगवान राम के जलाभिषेक से पूरा देश भक्तिमय माहौल में डूब गया है। मेरी सरकार ने चित्रकूट और ओरछा में राम वन गमन पथ पर काम शुरू करने की प्रतिबद्धता जताई है। तीर्थयात्रियों के लिए हेलीकॉप्टर सेवा शुरू की जाएगी।