मध्य प्रदेश में कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए कमल नाथ के करीबी पूर्व मंत्री ने दिया इस्तीफा


Image Credit : X

स्टोरी हाइलाइट्स

दीपक सक्सैना ने अपना इस्तीफा मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी को भेजा, कारण निज़ी..!!

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमल नाथ के करीबी दीपक सक्सेना ने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है।

छिंदवाड़ा निवासी सक्सेना ने जीतू पटवारी को भेजे पत्र में कहा, मैं 1974 से कांग्रेस का सदस्य हूं। 1990 से अब तक 7 बार विधानसभा चुनाव लड़ा और सहकारी बैंक का अध्यक्ष रहा। मैं 5 वर्षों तक मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी में दिग्विजय सिंह के साथ सह सचिव के पद पर भी रहा हूं।

उन्होंने आगे कहा, ''मेरे जैसे किसान परिवार के छोटे व्यक्ति पर स्व. राजीव गांधी, सोनिया गांधी और कमल नाथ ने विश्वास के साथ जिम्मेदारी दी। जिसके लिए मैं सदैव कांग्रेस पार्टी का ऋणी रहूंगा।

दीपक सक्सेना ने आगे कहा कि व्यक्तिगत समस्याओं के कारण फिलहाल मैं कांग्रेस पार्टी की जिम्मेदारियां निभाने में असमर्थ हूं। इसलिए, कृपया कांग्रेस से मेरा इस्तीफा स्वीकार करने का कष्ट करें।

दीपक सक्सैना ने कमलनाथ को भी पत्र भेजा है। उन्होंने कहा, "मेरे जैसे किसान पर भरोसा करके मुझे सक्रिय राजनीति में शामिल करने और परिवार का सदस्य मानने के लिए मैं आपका सदैव ऋणी और आभारी रहूंगा। आपने मुझे राजनीति में सक्रिय किया और जिला सहकारी समिति का अध्यक्ष बनाया।" सेंट्रल बैंक, छिंदवाड़ा और कांग्रेस पार्टी ने विधायक पद के लिए उम्मीदवार बनाया गया।

सक्सेना ने कहा, ''मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार के दौरान उन्हें दो बार मंत्री बनाया गया थ।. 2003 का विधानसभा चुनाव हारने के बाद भी आपने मुझ पर विश्वास किया और मुझे दोबारा विधानसभा का उम्मीदवार बनाया।

उन्होंने कहा कि आपने मुझे दो बार विधायक प्रतिनिधि बनाया, इसके लिए मैं सदैव आपका आभारी रहूंगा। मेरा परिवार सदैव आपका ऋणी रहेगा। वर्तमान परिस्थिति में मैं अपनी जिम्मेदारी नहीं निभा पाऊंगा, जिसके कारण मैं विधायक प्रतिनिधि एवं संगठन के सभी पदों से इस्तीफा दे रहा हूं, जिसे स्वीकार करते हुए मुझे खेद है।

आपको बता दें कि छिंदवाड़ा से कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ चुनाव लड़ रहे हैं. बीजेपी भी यहां पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ रही है। पिछले कुछ दिनों में इस क्षेत्र में कई नेता बीजेपी में शामिल हुए हैं। ऐसे में दीपक सक्सेना का अगला कदम क्या होगा? इसको लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं।