उमा भारती की राह पर चलती दिखीं प्रज्ञा ठाकुर, यूजर्स ने कहा- अब चिड़िया चुग गई खेत


Image Credit : X

स्टोरी हाइलाइट्स

सांसद प्रज्ञा ठाकुर नें हथौड़े से ठेके का ताला तोड़ दिया, इसके बाद उन्होंने शराब की बोतलें तोड़कर शराब बहा दी..!!

भोपाल : सांसद प्रज्ञा ठाकुर उमा भारती की राह पर चलती दिखाई दे रही हैं। एक्शन मोड में नज़र आ रही साध्वी प्रज्ञा ठाकुर नें सीहोर जिले के खजुरिया गांव में शराब का अवैध ठेका तोड़ दिया ।

इस दौरान उनके साथ कई युवतियों और बच्चियां मौजूद रहीं। सांसद प्रज्ञा ठाकुर नें हथौड़े से ठेके का ताला तोड़ दिया, इसके बाद उन्होंने शराब की बोतलें तोड़कर शराब बहा दी। 

इस दौरान उन्होंने मौके पर मौजूद अफसर को भी जमकर खरी खोटी सुनाई। इस पूरे वाक्ये का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। सांसद ठाकुर को ये कहते सुना जा सकता है, कि एक धक्का और दो, शराब की भट्टी तोड़ दो !


आपको बता दें, कि  भोपाल सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने अपने ही पार्टी (भाजपा) के सिहोर विधायक सुदेश राय का स्कूल के सामने चलने वाले कथित अवैध ठेके का ताला तोड़ शराब बहा दी।
सांसद प्रज्ञा के अचानक इस तरह से एक्शन मोड में आने को लेकर अब सोशल मीडिया पर उनके इस तरह के व्यवहार को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। 
एक यूजर का कहना है, कि शराब को औषधी बताने के बजाए अगर जिज्जी ने पांच साल ऐसे ही काम किया होता तो आज स्थिति अलग होती। ख़ैर, अब चिड़िया चुग गई खेत। जिज्जी अब चुन चुन के बदला लेगी। बेचारे पुलिस वाले/आधिकारी को देख कर बड़ा अफ़सोस आया। मालिक ना नुक्सान होने से नहीं रोक पाए।

वहीं मामले को लेकर सांसद का बयान भी सामने आया है, उनका कहना है, कि "हमें कहने में शर्म आ रही है कि भाजपा विधायक सुदेश राय (सीहोर विधायक) गांव में अवैध ठेका चला रहें हैं।" 

सांसद बनने के बाद प्रज्ञा ठाकुर अपने बयानों और कामों को लेकर सुर्खियों में रहीं हैं। कहा जा रहा है, कि इसी के चलते बीजेपी ने भोपाल से उनकी टिकट भी काट दी है और उनकी जगह पर पार्टी ने आलोक शर्मा पर भरोसा जताते हुए उन्हें उम्मीदवार बनाया है।

दरअसल लोकसभा में विशेष सुरक्षा समूह (संशोधन) विधेयक पर बहस हो रही थी, तो डीएमके सांसद ए राजा ने नाथूराम गोडसे के बयान का जिक्र किया कि गोडसे ने गांधी को क्यों मारा था। बहस को बीच में रोकते हुए प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, ''आप ऐसे देशभक्त का उदाहरण नहीं दे सकते।''

सांसद के इस बयान के बाद बीजेपी डैमेज कंट्रोल में जुट गई है। प्रज्ञा ठाकुर को रक्षा सलाहकार समिति से हटा दिया गया। प्रज्ञा ठाकुर को 2019 में संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान संसदीय दल की बैठकों में भाग लेने से भी रोक दिया गया था।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में प्रज्ञा ठाकुर के बयान से पार्टी को अलग करते हुए कहा, ''नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहना तो दूर, अगर कोई उन्हें देशभक्त मानता भी है तो हमारी पार्टी इस विचार का पूरा समर्थन करती है।'' 

उनके बयान को संसद के रिकॉर्ड से हटा दिया गया। कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्ष ने इस मुद्दे को लोकसभा में उठाया और प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई।

उस वक्त कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा था, ''आतंकवादी प्रज्ञा ने आतंकवादी गोडसे को देशभक्त बताया। यह भारतीय संसद के इतिहास में एक दुखद दिन है।”

गोडसे पर अपने बयानों के अलावा, प्रज्ञा ठाकुर अपने मेडिकल दावों को लेकर भी चर्चा में रही हैं।