अवैध खनन पर विपक्ष ने सरकार को घेरा, विधानसभा में हंगामा 


Image Credit : twitter

स्टोरी हाइलाइट्स

बजट सत्र के तीसरे दिन चला आरोप-प्रत्यारोप का दौर..!! 

मध्यप्रदेश विधानसभा के बजट सत्र में शुक्रवार को अवैध खनन के मामले को लेकर जमकर हंगामा हुआ। सदन की कार्यवाही शुरू होने के बाद विपक्ष ने अवैध खनन के मुद्दे पर सरकार को घेरना शुरू कर दिया। विपक्षी सदस्यों के सवाल पर मंत्री दिलीप अहिरवार सदन में कहा कि अवैध खनन को रोकने के लिए कैमरे लगाएंगे, यह निर्णय मुख्यमंत्री ने लिया है। इससे अवैध खनन रोकने पर मदद मिलेगी। 

इस पर कांग्रेस के दिनेश राय मुनमुन, सुरेश राजे, विजय रेवनाथ चौरे, महेश परमार, शेखावत समेत अन्य विधायकों ने मंत्री पर भी निशाना साधा और कहा कि पहली बार के मंत्री सवाल का सही जवाब नहीं दे पा रहे हैं। भंवर सिंह शेखावत ने कहा- रेत और खनन माफिया न प्रशासन को और न ही शासन को कुछ मानता है। 

इसी दौरान सत्ता पक्ष की ओर से मंत्री तुलसी सिलावट कुछ कहने के लिए खड़े हुए तो विधायक शेखावत ने उन्हें कहा कि आप बैठिए। उनके क्षेत्र में खनन करने वाला आपका मित्र है। इस मामले को लेकर सदन में काफी हंगामा रहा। सदन में आज एक आदिवासी किसान को बड़वानी जिले के पानसेमल तहसीलदार द्वारा थप्पड़ मारने का मुद्दा भी गूंजा। इस पर राजस्व मंत्री करण सिंह वर्मा ने सदन में ही संबधित तहसीलदार को निलंबित करने की घोषणा कर दी।

विस में आज प्रश्नकाल, शून्यकाल के बाद ध्यानाकर्षण भी होंगे। वहीं कल गुरुवार को पेश किए गए 30,265 करोड़ के अनुपूरक बजट पर लंच के बाद चर्चा नियत की गई है। इसमें पक्ष-विपक्ष के विधायक अपने वक्तव्य देंगे। आज सदन में सीहोर से भाजपा विधायक अहमदपुर गांव का नाम देवीपुरा करने के लिए अशासकीय संकल्प प्रस्तुत करेंगे।