पटवारी परीक्षा घोटाले की रिपोर्ट करें सार्वजनिक, इंदौर में सड़क पर उतरे युवाओं की मांग


स्टोरी हाइलाइट्स

MP News: मध्य प्रदेश सरकार ने पटवारी भर्ती में हुई धांधली को क्लीन चिट भले ही दे दी हों, लेकिन अभी भी छात्र इंदौर में प्रदर्शन कर रहे हैं..!!

MP News: मध्यप्रदेश में कई तरफ की गड़बड़ी और धांधली के आरोपों से घिरी रहीं पटवारी भर्ती परीक्षा के अंतिम परिणाम भले ही जारी कर दिए गए हों, लेकिन जांच रिपोर्ट को क्लीन चिट मिलते ही इसके खिलाफ विरोध के स्वर फिर से उठने लगे हैं. नेशनल एजुकेशन यूथ यूनियन (NEYU) के नेतृत्व में बड़ी संख्या में बेरोजगार युवा सोमवार को इंदौर कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचे.

यहां पर नारेबाज़ी करते हुए प्रदर्शनकारी युवाओं ने मेन गेट के बाहर ही धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया. इन युवाओं की मांग हैं कि प्रदेश में सामने आए पटवारी परीक्षा घोटाले की जांच रिपोर्ट क्लीन चिट के बाद सरकार को पेश की गई, उसे सार्वजनिक किया जाए. साथ ही एमपीपीएससी के दो हजार पदों पर भर्ती करने की भी मांग कर रहे हैं.

इन मांगों को लेकर युवाओं ने इंदौर कलेक्टर ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया. इस दौरान ये लोग अपने हाथों में तख्तियां लेकर अपनी मांगों के पक्ष में प्रदर्शन करते दिखाई दिए. कलेक्टर कार्यालय पर हुए इस प्रदर्शन के बीच भारी पुलिस बल मौजूद रहीं. वाटर कैनन के साथ पूरी दल-बल ऑफिस के बाहर तैनात कर दी गई.

धरने पर बैठे युवाओं की मांग है कि एम.पी.ई.एस.बी. द्वारा आयोजित मंडी इंस्पेक्टर, लेबर, इंस्पेक्टर महिला पर्यवेक्षक सहित अन्य परीक्षाओं के सभी रिक्त पद का कैलेंडर जारी कर उन्हें भरा जाए. साथ ही केंद्र सरकार के बनाए गए नकल विरोधी कानून को प्रदेश में तत्काल लागू करें.

साथ ही एमपी कांस्टेबल और MPESB द्वारा आयोजित परीक्षाओं के रुके हुए रिजल्ट शीघ्र जारी करने और नियुक्ति देने की मांग भी उठाई गई. इसके अलावा राज्य सेवा परीक्षा 2024 में पदों की संख्या 500 तक करने की मांग रखी. ओबीसी आरक्षण मामले को हल करके 87-13 फॉर्मूला खत्म करके 100 फीसदी पर रिजल्ट जारी करने की मांग भी उठाई.