अपनी ही सरकार से लड़ना पड़े तो भी तैयार, शिवराज के लिए कार्तिकेय की हुंकार


Image Credit : X

स्टोरी हाइलाइट्स

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय के बयान ने बढ़ाया सियासी पारा..!!

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय सिंह चौहान शुक्रवार को सीहोर के भेरूंदा, कोसमी में विकास भारत संकल्प यात्रा में शामिल हुए। इस बीच उन्होंने एक बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि अगर जनता से किए गए वादों को पूरा करने के लिए अगर उन्हें अपनी ही सरकार से लड़ना पड़े तो वह इसके लिए भी तैयार हैं।

कार्तिकेय ने कहा, मैं नेता नहीं हूं, मेरी राजनीति में आने की कोई इच्छा नहीं है, पापा नहीं मैं आपका वोट मांगने आया था तो आपसे किए गए वादों को पूरा करने की ज़िम्मेदारी भी मेरी ही है। अगर आपसे किए वादे पूरे करने के लिए अगर मुझे सरकार से लड़ना भी पड़ा तो कार्तिकेय पीछे नहीं हटेगा। कार्तिकेय चौहान ने कहा कि मैं कोई नेता नहीं हूं। इसके बाद भी आप लोग मेरा सम्मान करते हैं, इसलिए मैं कुर्ता पहनकर आपके बीच आया हूं।

पिताजी अब मुख्यमंत्री नहीं हैं और ऐसे में आपके बीच नहीं आऊंगा तो रात को चैन से सो नहीं पाऊंगा। मैं उस समय आपसे किया हुआ वादा पूरा करने आया हूं और इसे पूरा करने के लिए मैं किसी भी हद तक जा सकता हूं।' सबसे पहली बात तो ये कि लड़ने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि हमारी अपनी सरकार है। लेकिन अगर उन्हें अपनों से ही लड़ना पड़ा तो कार्तिकेय उसके लिए भी तैयार है।

इस दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीण क्षेत्र के लोग मौजूद रहे। कार्तिकेय चौहान द्वारा हितग्राहियों को लाभ वितरण किया गया, इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री के पुत्र कार्तिकेय चौहान ने भी वादे पूरे नहीं होने पर अपनी पार्टी के खिलाफ जाने की बात कही।

कार्तिकेय चौहान ने कहा कि आपके भाई शिवराज जी ने इस चुनाव में इतनी मेहनत की जो किसी के लिए संभव नहीं है, आपको गर्व होना चाहिए। हमारे बीच के व्यक्ति ने 20 साल की सरकार के बाद दोबारा सरकार दोहराई है। राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना समेत कई राज्यों में चुनाव हुए। सभी राज्यों में सरकारें उखाड़ फेंकी गईं। सरकारें गिरीं, कहीं कांग्रेस आई, कहीं और सरकारें आईं। लेकिन मध्य प्रदेश एक ऐसा राज्य था, जहां 20 साल बाद जब सरकार दोबारा आई, प्रचंड बहुमत के साथ आई तो पूरे देश की आंखें फटी की फटी रह गईं।