सर्दियों में रोजाना सिर्फ एक आंवले का सेवन, शरीर के लिए है काफी फायदेमंद


Image Credit : twiter

स्टोरी हाइलाइट्स

आंवला भी एक ऐसा फल है जिसका सेवन भारत सहित दुनिया के अधिकांश देशों में इसके विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के लिए किया जाता है, इसके रोजाना सेवन से आंखों और त्वचा के साथ-साथ शरीर के अन्य अंगों को भी फायदा मिलता है..

सर्दियों का बाजार फलों और सब्जियों के मिश्रण से भरा रहता है जो सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। आंवला भी एक ऐसा फल है जिसका सेवन भारत सहित दुनिया के अधिकांश देशों में इसके विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के लिए किया जाता है। आंवला का अचार, मुरब्बा आदि स्वाद में लाजवाब होते हैं और साथ ही इसके रोजाना सेवन से आंखों और त्वचा के साथ-साथ शरीर के अन्य अंगों को भी फायदा होता है। विशेषज्ञ मधुमेह जैसी बीमारी में आंवला के रस का सेवन करने की सलाह देते हैं। आंवला कैल्शियम, फाइबर और विटामिन-सी से भरपूर होते हैं।

एंटीऑक्सीडेंट का खजाना :

एंटीऑक्सिडेंट शरीर के मुक्त कणों के प्रभाव से लड़ने में मदद करते हैं। ऐसा माना जाता है कि एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर आहार कुछ प्रकार के कैंसर, हृदय रोग, टाइप -2 मधुमेह, उम्र बढ़ने के जोखिम के साथ-साथ मस्तिष्क क्षति से बचाता है। आंवला में कई तरह के प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।

मधुमेह रोगियों के लिए उपचारात्मक :

आंवला का सेवन रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। आंवला फाइबर से भरपूर होता हैं जो रक्त प्रवाह में शर्करा के अवशोषण को धीमा कर देते हैं ताकि रक्त शर्करा का स्तर न बढ़े। एक टेस्ट ट्यूब अध्ययन के अनुसार, आंवला का अर्क एक अल्फा-ग्लूकोसिडेज़ अवरोधक है। यानी यह आपकी छोटी आंत में कुछ एंजाइम्स को ब्लॉक कर देता है जिससे ब्लड शुगर लेवल नहीं बढ़ता।

हृदय रोगों से बचाव :

आंवला जैसे फलों के सेवन से हृदय रोग का खतरा कम होता है। आंवला में एंटीऑक्सिडेंट और पोटेशियम जैसे कई पोषक तत्व होते हैं जो अच्छे हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं। एंटीऑक्सिडेंट रक्त में एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीकरण को रोककर हृदय स्वास्थ्य में सुधार करते हैं।

इम्युनिटी के लिए फायदेमंद :

आंवला विटामिन-सी का बहुत अच्छा स्रोत है। यह विटामिन पानी में घुलनशील होता है जो एंटीऑक्सीडेंट का काम करता है। एक अध्ययन के अनुसार आंवला में 600-700 मिलीग्राम विटामिन-सी होता है। ऑक्सीडेटिव तनाव से कोशिकाओं की रक्षा करने के अलावा, यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है।

 

लोकेश राजपूत

लोकेश राजपूत