स्वास्थ्य : भोजन में रोजाना 2 चम्मच पौष्टिक बीज, दही, सब्जियों और फलों की मात्रा 3:2 लेने से आप बुढ़ापे में भी फिट रहेंगे।

google

Image Credit : harvardhealth

स्टोरी हाइलाइट्स

विशेषज्ञ सलाह: जीवनशैली में बदलाव के लिए अपने बारे में अधिक कठोर होने की आवश्यकता

नए साल में फिटनेस को लेकर कई लोगों ने फैसले लिए होंगे। लेकिन अगर आप अपने बारे में सख्त नहीं रहे, तो ये संकल्प एक महीने के भीतर गायब हो जाएंगे। विशेषज्ञों के अनुसार, आपको ऐसे लक्ष्य निर्धारित करने होंगे जो आपके लक्ष्यों को प्राप्त करने में आपकी मदद करें। मध्य आयु का मतलब है कि आपके चालीसवें वर्ष में आपको कई स्वास्थ्य लक्ष्यों पर काम करने की आवश्यकता है। ये 6 तरीके फायदेमंद हो सकते हैं।

1. बीज रखेंगे आपको स्वस्थ: बीजों में पाचन के लिए आवश्यक पोषक तत्व, पौध प्रोटीन, खनिज और फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं। सूरजमुखी के बीजों में हड्डियों के लिए फास्फोरस और मैंगनीज होता है। कद्दू के बीजों में मौजूद जिंक प्रोस्टेट और यूरिनरी हेल्थ को बेहतर बनाता है। तिल में मैग्नीशियम और विटामिन ई होता है जो धमनियों के लिए अच्छा होता है। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल के अनुसार, रोजाना 2 बड़े चम्मच बीज खाने से मृत्यु का खतरा 10% और कोरोनरी धमनी की बीमारी 11% तक कम हो जाती है।

2. दही बीपी नियंत्रण: ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय के एलेक्जेंड्रा वेड के अनुसार, मट्ठा में जीवित बैक्टीरिया प्रोटीन को स्रावित करने में मदद करते हैं। यह रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है। रोजाना 150 से 200 ग्राम सादा दही खाएं।

3. स्लीप ट्रैकर्स की मदद न लें: इस उम्र में हार्मोनल परिवर्तन नींद के पैटर्न को प्रभावित करते हैं। इसलिए स्लीप ट्रैकर की मदद न लें। ये डिवाइस डेटा प्रदान करते हैं कि आप हृदय गति में परिवर्तन के साथ कितने समय तक सोए। ये ट्रैकर केवल 38% ही रिकॉर्ड कर सकते हैं कि आप कितनी गहरी नींद में सोते हैं। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के स्लीप स्पेशलिस्ट डॉ. नील स्टेनली के अनुसार, नींद पर ध्यान देने से चिंता बढ़ जाती है। इससे नींद और भी कम आती है। आप इन ट्रैकर्स के बिना अच्छी नींद ले सकते हैं।

4. देर रात खाना बंद करें: शाम 6-7 बजे के बाद खाने से बचें। देर रात को खाने से ग्लूकोज की सहनशीलता कम हो जाती है, फैट बर्निंग कम हो जाती है। इससे ब्लड शुगर बढ़ जाता है। नतीजतन, मधुमेह जैसी बीमारियां बदतर हो जाती हैं।

5. विटामिन डी सप्लीमेंट शुरू करें: इसकी कमी से हृदय रोग का खतरा दोगुना हो जाता है। ऑस्ट्रेलियाई स्वास्थ्य विशेषज्ञ एलेना हाइपोन के अनुसार, 'समय की कमी के कारण हमें इन दिनों धूप से विटामिन डी नहीं मिल पाता है। यह सप्लीमेंट्स को एक बढ़िया विकल्प बनाता है।'

6. दिन में 5 बार फल और सब्जियां खाएंगे तो बीमार नहीं पड़ेंगे

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार इसे दिन में 5 बार खाना चाहिए। अगर आप 3 बार सब्जियां और 2 बार फल खाएंगे तो आपको पर्याप्त पोषक तत्व मिलेंगे। इससे गंभीर बीमारी का खतरा कम हो जाता है। इसके लिए हरी पालक, सलाद के पत्ते, बीटा कैरोटीन से भरपूर सब्जियां और अम्लीय फलों की आवश्यकता होती है। दौड़ने का फायदा है। दिन में कम से कम 2,000 कदम चलने से मृत्यु का खतरा 32 प्रतिशत तक कम हो जाता है।