बिना चुनाव लड़े भाजपा ने खोला खाता, गुजरात से  आई अच्छी खबर


Image Credit : X

स्टोरी हाइलाइट्स

कांग्रेस उम्मीदवार का नामांकन रद्द, बाकी 8 उम्मीदवारों ने भी अपना नाम लिया..!!

लोकसभा चुनाव के बीच भारतीय जनता पार्टी के लिए गुजरात से अच्छी खबर आई है। सूरत लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार का नामांकन रद्द होने के बाद बाकी 8 उम्मीदवारों ने भी अपना नाम वापस ले लिया है, जिसके बाद बीजेपी की निर्विरोध जीत तय हो गई। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव में बीजेपी का खाता भी खुल गया है। यहां से बीजेपी उम्मीदवार मुकेश दलाल हैं।

दरअसल, सूरत लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार नीलेश कुंभानी अपने तीन प्रस्तावों में से एक भी प्रस्ताव चुनाव अधिकारी के सामने पेश नहीं कर सके, जिसके बाद चुनाव अधिकारी ने नीलेश कुंभानी का नामांकन फॉर्म रद्द कर दिया। बीजेपी ने कांग्रेस प्रत्याशी नीलेश कुंभानी के रूप में तीन प्रस्तावकों के हस्ताक्षर को लेकर सवाल उठाए।

साथ ही कांग्रेस ने नामांकन खारिज होने का ठीकरा सरकार पर फोड़ा है। कांग्रेस ने कहा कि सरकार की धमकी से सभी डरे हुए हैं। कांग्रेस नेता और वकील बाबू मंगेकिया ने कहा कि हमारे तीन प्रस्तावकों का अपहरण कर लिया गया है, चुनाव अधिकारी अपहरण की जांच करें और देखें कि फॉर्म पर हस्ताक्षर हुए हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि बिना हस्ताक्षर किए फॉर्म रद्द करना गलत है, प्रस्तावकों के हस्ताक्षर सही हैं या नहीं, इसकी जांच किए बिना फॉर्म रद्द करना गलत है।

जबकि नीलेश कुंभानी ने प्रस्तावक के रूप में अपने बहनोई, भतीजे और पार्टनर के हस्ताक्षर होने का दावा किया था, लेकिन तीनों प्रस्तावकों ने चुनाव अधिकारी के समक्ष शपथ पत्र दिया कि नीलेश कुंभानी के फॉर्म पर उनके हस्ताक्षर नहीं हैं, जिसके बाद तीनों प्रस्तावकों गायब हो गए।

चुनाव अधिकारी ने कांग्रेस उम्मीदवार नीलेश कुंभानी के प्रस्तावक, उनके बहनोई जगदीश सावलिया, उनके भतीजे ध्रुविन धमेलिया और पार्टनर रमेश पोलारा के अनुरोध की भी वीडियो-रिकॉर्डिंग की। अधिवक्ताओं के दावे के बाद चुनाव अधिकारी ने कांग्रेस प्रत्याशी नीलेश कुंभानी को जवाब देने के लिए एक दिन का समय दिया। कांग्रेस प्रत्याशी नीलेश कुंभानी अपने वकील के साथ चुनाव अधिकारी को जवाब देने पहुंचे, लेकिन तीनों में से कोई भी प्रस्ताव मौजूद नहीं था। आपको बता दें कि देश के पूर्व पीएम मोरारजी देसाई 5 बार गुजरात की सूरत लोकसभा सीट से सांसद रहे, लेकिन 1989 से सूरत लोकसभा सीट बीजेपी के पास है।