'भारत टेक्स 2024' के आयोजन में पीएम मोदी ने बताए टेक्सटाइल वेल्यू चेन के 5 सूत्र


Image Credit : X

स्टोरी हाइलाइट्स

आज का ये आयोजन सिर्फ एक टेक्सटाइल एक्सपो भर नहीं है। इस आयोजन के एक सूत्र से कई चीजें जुड़ी हुई हैं। भारत टेक्स का ये सूत्र भारत के गौरवशाली इतिहास को आज की प्रतिभा से जोड़ रहा है- PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज यानी 26 फरवरी को नई दिल्ली स्थित भारत मंडपम में आयोजित 'भारत टेक्स 2024' का उद्घाटन किया। बता दें कि यह टेक्सटाइल क्षेत्र से जुड़े वैश्विक स्तर के अब तक के सबसे बड़े कार्यक्रमों में से एक है। 'भारत टेक्स 2024' का आयोजन 26-29 फरवरी, 2024 के दौरान किया जा रहा है।

इस मौके पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा, आज का ये आयोजन अपने आप में बहुत खास है। खास इसलिए क्योंकि ये एक साथ भारत के दो सबसे बड़े प्रदर्शनी केंद्रों भारत मंडपम और यशोभूमि में एक साथ हो रहा है।

आज का ये आयोजन सिर्फ एक टेक्सटाइल एक्सपो भर नहीं है। इस आयोजन के एक सूत्र से कई चीजें जुड़ी हुई हैं। भारत टेक्स का ये सूत्र भारत के गौरवशाली इतिहास को आज की प्रतिभा से जोड़ रहा है। भारत टेक्स का ये सूत्र टेक्नोलॉजी को traditions के संग पिरो रहा है। भारत टेक्स का ये सूत्र Style, Sustainability, Scale और Skill को एक साथ लाने का सूत्र है।

पीएम ने आगे कहा, आज, 3,000 से अधिक प्रदर्शक, 100 देशों के लगभग 3,000 खरीदार और लगभग 40,000 व्यापार आगंतुक इस अवसर पर शामिल होने के लिए एक साथ आए हैं। यह आयोजन वैल्यू-चेन और टेक्सटाइल इकोसिस्टम से जुड़े लोगों के लिए एक साझा मंच पर एक साथ आने का एक शानदार अवसर है।

विकसित भारत के निर्माण में टेक्सटाइल सेक्टर का योगदान और बढ़ाने के लिए हम बहुत विस्तृत दायरे में काम रहे हैं। हम Tradition, Technology, Talent और Training पर फोकस कर रहे हैं। हम Textile Value Chain के सभी eliments को Five F के सूत्र से एक दूसरे से जोड़ रहे हैं। Five F की ये यात्रा Farm, Fibre, Factory, Fashion से होते हुए Foreign तक जाती है।

परिधान बनाने वाले हर 10 साथियों में से 7 महिलाएं हैं और handloom में तो इससे भी ज्यादा है। Textile के अलावा खादी ने भी हमारे भारत की महिलाओं को नई शक्ति दी है। मैं ये कह सकता हूं कि बीते 10 वर्षों में हमने जो भी प्रयास किए, उसने खादी को विकास और रोजगार दोनों का साधन बनाया है।

आज भारत, दुनिया में कॉटन, जुट और सिल्क के बड़े उत्पादकों में से एक है। लाखों किसान इस काम में जुटे हैं। सरकार आज लाखों कॉटन किसानों को सपोर्ट कर रही है, उनसे लाखों क्विंटल कॉटन खरीद रही है। सरकार ने जो कस्तूरी कॉटन लॉन्च किया है, वो भारत की अपनी पहचान बनाने की ओर एक बड़ा कदम होने वाला है।

आज भारत में हम scale के साथ ही इस sector में skill पर भी बहुत जोर दे रहे हैं। देश में National Institute Of Fashion Technology यानी NIFT का नेटवर्क 19 संस्थानों तक पहुंच चुका है। इन संस्थानों से आसपास के बुनकरों और कारीगरों को भी जोड़ा जा रहा है।

बीते दशक में हमने एक और नया आयाम जोड़ा है। ये आयाम है Vocal for Local का। आज पूरे देश में Vocal for Local और Local to Global का जन-आंदोलन चल रहा है।